ईरान के राष्ट्राध्यक्ष के आदेश पर – होर्मुझ के खाड़ी क्षेत्र में ईंधन परिवहन को रोकेंगे – ईरान के कुद्स कोर्स के जनरल सुलेमानी

तेहरान: अमरिका के प्रतिबंधों का झटका ईरान के ईंधन निर्यात को लग रहा है। पर अगर ईरान ने ईंधन दूसरे देशों तक नहीं पहुंचाना है, तो दूसरे देशों के ईंधन का परिवहन भी नहीं होने देंगे, ऐसा कहकर ईरान के राष्ट्राध्यक्ष ने होर्मुझ के खाड़ी क्षेत्र में ईंधन परिवहन रोकने की धमकी दी थी। यह धमकी वास्तव में लाने की हिम्मत हमारे पास है, ऐसा ईरान के कुद्स फोर्स के प्रमुख जनरल कासिम सुलेमानी ने कहा है।

रोहानी, आदेश, होर्मुझ, खाड़ी क्षेत्र, ईंधन परिवहन, रोकेंगे, ईरान, कुद्स कोर्स, जनरल सुलेमानीयूरोप के दौरे पर होनेवाले ईरान के राष्ट्राध्यक्ष रोहानी ने कुच घंटों पहले अमरिका को संबोधित करके यह धमकी दी थी। अमरिका ने ईरान के ईंधन की निर्यात रोककर उनका नुकसान करने का प्रयत्न किया, तो होर्मुझ की खाड़ी क्षेत्र अमरिका के अरब मित्र देशों के ईंधन निर्यात भी बंद होगी, ऐसी चेतावनी रोहानी ने दी थी। फिलहाल इराक और सीरिया में कार्यान्वित होनेवाले ईरान समर्थक गट का नेतृत्व करनेवाले सुलेमानी ने राष्ट्राध्यक्ष रोहानी की भूमिका का स्वागत किया है।

होर्मुझ की खाड़ी क्षेत्र को गतिरोध करने का राष्ट्राध्यक्ष रोहानी ने दिए चेतावनी योग्य और समय उचित है, ऐसा जनरल सुलेमानी का कहना है। तथा ईरान के रिवोल्यूशनरी गार्ड्स और कुद्स फोर्स के जवान राष्ट्राध्यक्ष रोहानी इनके आदेश पर कार्रवाई करने के लिए तैयार हैं, ऐसा सुलेमानी ने कहा है।

इस क्षेत्र में संपन्न देशों के निर्यात होर्मुझ की खाड़ी से होती है। दुनिया के ईंधन व्यापार का ३० फीसदीकितना ईंधन परिवहन इस क्षेत्र से हो होने से होर्मुझ के खाड़ी क्षेत्र को बहुत बड़ा सामरिक महत्व है। इसी लिए ईरान ने अगर इस खाड़ी क्षेत्रको गतिरोध करने की बात ठानी, तो उसके भयंकर परिणाम जागतीक स्तर पर ईंधन व्यापार पर होंगे। पर ऐसा प्रयत्न अभी ईरान ने किया तो युद्ध की घोषणा होगी ऐसा अमरिका ने पहले ही सूचित किया है।

इस पृष्ठभूमि पर ईरान के राष्ट्राध्यक्ष रोहानी और जनरल कासिम सुलेमानी द्वारा दी चेतावनी का महत्व बढ़ता दिखाई दे रहा है।

 

ईरान में प्रदर्शन की वजह से खामेनी की सल्तनत खतरे में – अंतरराष्ट्रीय विश्लेषक का दावा

रोहानी, आदेश, होर्मुझ, खाड़ी क्षेत्र, ईंधन परिवहन, रोकेंगे, ईरान, कुद्स कोर्स, जनरल सुलेमानीलंडन / वाशिंगटन: पिछले हफ्ते में ईरान के खामेनी और रोहानी सल्तनत के विरोध में राजधानी के ग्रैंडबाजार में प्रदर्शनों पर किए कार्रवाई में ईरान के सुरक्षा यंत्रणा ने १२९लोगों को कब्जे में लिया है।प्रदर्शकों को गिरफ्तार करके ईरान में सरकार विरोधी षड्यंत्र को देखने कादावा ईरान के विदेश मंत्रालय ने किया है। पर ईरानी जनता के इस प्रदर्शन की वजह से खामेनी की सल्तनत गिरेगी, ऐसा दावा अमरिका के एक विश्लेषक ने किया है।

अमरिका के रक्षा विभाग की इराण विषयक भूतपूर्व सलाहकार और गेटस्टोन इंस्टिट्यूट इस अभ्यास गट के विश्लेषकडॉ.हेरल्डर्होडने एक मुलाकात में ईरानी जनता के प्रदर्शन की वजह से ईरान की सल्तनत की धज्जियाँ उड़ सकती है। ईरान में सल्तनत कमजोर होने का एहसास ईरान की जनता को हुआ है, इसकी वजह से इन प्रदर्शनों में आत्मविश्वास बढ़ता जा रहा है, ऐसा दावा डॉ.र्होड ने किया है।

ईरान की सल्तनत यह सत्ता पर रहने के लिए लायक नहीं है, ऐसा एहसास इरान की जनता को हुआ अथवा इस सल्तनत को चुनौती देने के लिए प्रदर्शकों को प्रबल नेतृत्व मिलेगा तब ईरान की जनता खुद सल्तनत उठा देगी, ऐसा विश्वास अमरिकी विश्लेषक ने व्यक्त किया है।