रशिया पॅसिफिक महासागर में स्टेल्थ पनडुब्बी तैनात करेगा

मॉस्को: १८ टारपीडो, जमीन से हवा में प्रक्षेपित की जाने वाली आठ ‘क्लब’ प्रक्षेपास्त्रों से लैस और युद्धपोत विरोधी जंग में माहिर रशिया की ‘स्टेल्थ पनडुब्बीया’ जल्दही पॅसिफिक महासागर के लिए रवाना होंगी| पिछले कई वर्षों के बाद रशिया पॅसिफिक महासागर में पनडुब्बीया तैनात करने वाला है| वहीं आने वाले समय में इनकी तैनाती बढ़ाई जा सकती है, ऐसा दावा रशियन समाचार एजन्सी ने किया है|

रशियन समाचार एजन्सी ने जारी की जानकारी के अनुसार, रशियन नौसेना के ‘वार्शाव्यान्का’ श्रेणी की दो स्टेल्थ पनडुब्बीया पॅसिफिक महासागर में तैनात की जाएंगी| शीत युद्ध के दौरान महत्वपूर्ण योगदान देने वाली इन पनडुब्बीयों में फिलहाल नई टेकनोलजी बिठाई जा रही है| इसके बाद दोनों पनडुब्बीया अपनी मुहीम के लिए रवाना होंगी, ऐसा दावा रशिया के और एक अखबार ने किया|

पॅसिफिक महासागर, क्लब, स्टेल्थ पनडुब्बी, तैनात, रशिया, एजन्सीसमुंदर के नीचे खेले जाने वाली जंग के साथही जमीन के उपरी लक्ष्य को सटीकता से मार गिराने की क्षमता इन पनडुब्बीयों में होने का दावा रशियन मिडिया ने किया है| दुश्मन की युद्धपोत और पनडुब्बीयों को जलसमाधी देने के लिए आधुनिक टेकनोलजी इसमें बिठाए जा रहे है| साथही आवाज किए बिना यातायात करना और स्टेल्थ टेकनोलजी से लैस होने के कारण इन पनडुब्बीयों को रडार पर ढुंढना भी मुश्किल हो सकता है, ऐसा दावा किया जाता है|

पॅसिफिक की तैनाती के लिए सिर्फ दो पनडुब्बीया भेजी जाएंगी जो अगले दो वर्षों में दोनों पनडुब्बीया पॅसिफिक महासागर की जिम्मेदारी उठाएंगी| वहीं अगले कुछ सालों में और चार पनडुब्बीया इन ‘वार्शाव्यान्का’ पनडुब्बीयों को आकर मिलेंगी, ऐसी जानकारी सामने आ रही है| रशियन सरकार साथही नौसेना ने इस खबर पर प्रतिक्रिया नहीं दी है|

दौरान, पिछले कई वर्षों से प्रशांत महासागर में रशियन वायुसेना और नौसेना की गतिविधियॉं बढ़ी है| कुछ सप्ताह पहले रशिया ने इंडोनेशिया की हवाई सीमा में अपने बॉम्बर प्लेन रवाना किए थे| वहीं पिछले महिने में रशियन नौसेना ने चीन समेत ‘ईस्ट चायना सी’ के क्षेत्र में युद्धाभ्यास किया था|