क्रान्तिगाथा-९३

क्रान्तिगाथा-९३

अँग्रेज़ों का भारत में आगमन होने से पहले आम भारतीय लोग और भारत के किसी भी प्रांत में बसी आदिम जनजातियाँ एक-दूसरे के साथ मिल-जुलकर रह रही थी। आम भारतीयों की जीवनशैली और आदिम जनजातियों के लोगों की जीवनशैली इनमें काफ़ी अंतर था। भारत के जमीनदार, साहूकार इन लोगों के साथ ही इन आदिम जनजातियों […]

Read More »

क्रान्तिगाथा-९२

क्रान्तिगाथा-९२

अँग्रेज़ों की सेना, उन्हें दिया जानेवाला प्रशिक्षण, उनके शस्त्र-अस्त्र, उनके पास उपलब्ध साधन-सुविधाएँ इनकी अगर आदिम जनजातियों के पास रहनेवाली इन्हीं बातों के साथ तुलना की जाये, तो यकिनन ही ये संघर्ष समान बलवालों में नहीं हुए थे। लेकिन फिर भी कई स्थानों पर अँग्रेज़ों को धूल चटाने में और कुछ समय के लिए ही […]

Read More »

क्रान्तिगाथा-९१

क्रान्तिगाथा-९१

अँग्रेज़ों के खिलाफ़ भारत की कई आदिम जनजातियों द्वारा किये गये संघर्ष का इतिहास काफ़ी विस्तृत है और बहुत प्रेरणादायी भी है। भले ही अपने जन्मजात अधिकारों पर आँच आने के कारण आदिम जनजातियों के लोग अँग्रेज़ों के खिलाफ़ लड़ने के लिए खड़े हुए, मगर फिर भी उनके संघर्ष का एक पहलु यह भी है […]

Read More »

क्रान्तिगाथा-९०

क्रान्तिगाथा-९०

पराक्रम और बुद्धि की चतुरता के साथ जाँबाज राम्पा लोगों के साथ लडनेवाले अल्लुरि सीताराम राजु को पकडने के बाद भविष्य में क्या होनेवाला है, यह भारतीय बिना बताये ही समझ गये। चिंतापल्लि के जंगल से अल्लुरि सीताराम राजु को गिरफ्तार किया गया। अँग्रेज़ों ने उन्हें बहुत तकलीफे देना शुरू कर दिया। आखिर एक नदी […]

Read More »

क्रान्तिगाथा-८९

क्रान्तिगाथा-८९

अल्लुरि सीताराम राजु का जन्म इस आदिम जनजाति में नहीं हुआ था, लेकिन इन लोगों की तकलीफें, दुख और अँग्रेज़ों द्वारा उनका किया जानेवाला शोषण इन सभी बातों को उन्होंने करीब से देखा और उन्होंने राम्पा लोगों मे चेतना जगायी। एक अभूतपूर्व ब्रिटिश विरोधी संषर्घ की शुरुआत हुई। दर असल इन पहाड़ों और जंगलों से […]

Read More »

परमहंस-१४६

परमहंस-१४६

इस लेखमाला में हमने रामकृष्णजी के – ‘गदाधर’ से ‘परमहंस’ तक के जीवनप्रवास का अध्ययन करने के प्रयास किए। रामकृष्णजी के दौर में समाज में विभिन्न विचारधाराएँ प्रचलित थीं। ‘ईश्‍वरप्राप्ति यह बहुत ही मुश्किल बात है और आम गृहस्थाश्रमी इन्सान के बस की वह बात हरगिज़ नहीं है’, ‘भक्ति और गृहस्थी ये अलग बातें होकर, […]

Read More »

परमहंस-१४५

परमहंस-१४५

बारानगर में रामकृष्ण संप्रदाय के पहले मठ की स्थापना हुई। इस मठ की स्थापना होने में सुरेंद्रनाथजी का अहम सहभाग था। उन्होंने उस घर के किराये की ज़िम्मेदारी तो उठायी ही; साथ ही, उन संन्यस्त गुरुबंधुओं के दैनंदिन खर्चे में भी हिस्सा उठाया। शुरू शुरू में किराये के साथ ३० रुपये प्रतिमाह खर्चे के लिए […]

Read More »

क्रान्तिगाथा-८८

क्रान्तिगाथा-८८

दक्षिण भारत के आंध्रप्रदेश में स्थित विझागपटम् के पहाड़ी इलाके में राम्पा नामक आदिम जनजाति सदियों से बस रही थी। कई सदियों से ये लोग आजादी का अनुभव कर रहे थे। अन्य आदिम जनजातियों के तरह ये लोग भी परंपरागत व्यवसाय कर रहे थे। ताड़ के पेड़ का रस जिसे प्रारंभिक अवस्था में नीरा और […]

Read More »

परमहंस-१४४

परमहंस-१४४

रामकृष्णजी की महासमाधि के पश्‍चात् उनके शिष्यों को, ख़ासकर नित्यशिष्यों को निराधार होने जैसा प्रतीत हो रहा था। काशीपुरस्थित जिस घर में, जहाँ रामकृष्णजी के आख़िरी कालखण्ड में उनका निवास रहा, उसमे वे अभी भी रह रहे थे, क्योंकि उस घर की नियत अवधि (काँट्रॅक्ट) के कुछ दिन और बाक़ी थे। लेकिन उस कालखण्ड में […]

Read More »

परमहंस-१४३

परमहंस-१४३

इस प्रकार १५–१६ अगस्त १८८६ की मध्यरात्रि के बाद रामकृष्णजी ने इस भौतिक विश्‍व से और नश्‍वर देह से बिदा ली थी। ‘ईश्‍वर से नितांत प्रेम करके उसकी प्राप्ति की जा सकती है, जो कि आम इन्सान के लिए भी आसानी से संभव है’ इस तत्त्व को जीवनभर प्रतिपादित करनेवाले रामकृष्णजी के चले जाने से […]

Read More »
1 2 3 55