क्रान्तिगाथा-७४

क्रान्तिगाथा-७४

विदेशियों की गुलामी की ज़ंजीरों में जकड़ी अपनी मातृभूमि को आज़ाद करने के लिए उसके अनगिनत सपूत दिनरात तड़प रहे थे, दिनरात मेहनत कर रहे थे। भारत के किसी कोने के देहात में रहनेवाला कोई भारतीय हो या किसी शहर में रहनेवाला भारतीय, दोनों की परिस्थिति में चाहे कितना भी फर्क क्यों न हो, मग़र […]

Read More »

क्रान्तिगाथा-७३

क्रान्तिगाथा-७३

अँग्रेज़ सरकार ने इस असहकार आंदोलन के मार्गदर्शक महात्मा गाँधीजी को गिरफ़्तार करके उन्हें ६ साल की सज़ा सुनायी। लेकिन आगे चलकर फरवरी १९२४ में स्वास्थ के बिगड़ जाने के कारण उन्हें रिहा किया गया। आख़िर १२ फरवरी १९२२ को इंडियन नॅशनल काँग्रेस ने राष्ट्रीय स्तर पर असहकार आंदोलन को स्थगित किये जाने की घोषणा […]

Read More »

क्रान्तिगाथा-७२

क्रान्तिगाथा-७२

अँग्रेज़ों द्वारा उनके शासनकाल में भारत में विभिन्न प्रांत यानी प्रोव्हिन्स का निर्माण किया गया था। उस समय के युनायटेड़ प्रोव्हिन्स में रहनेवाला चौरी चौरा यह एक गाँव था। भारतभर में असहकार आंदोलन की ज्वाला भड़क उठी थी और पूरे भारत में लोग यथासंभव अँग्रेज़ों से असहकार कर रहे थे। १९२२ का फरवरी का महीना […]

Read More »

क्रान्तिगाथा-७१

क्रान्तिगाथा-७१

असहकार आंदोलन के समय भारतीय गाँधीजी की कार्यपद्धति से परिचित हो गये। आख़िर निश्‍चित रूप से क्या स्वरूप था इस असहकार आंदोलन का? सरकारी नौकरियों पर बहिष्कार (बॉयकॉट) करना, संक्षेप में सरकारी नौकरी करनेवाले उस नौकरी को त्याग देंगें और यदि सरकारी नौकरी मिल भी रही हो तो उसका स्वीकार न करना। वकील और जज […]

Read More »

क्रान्तिगाथा-७०

क्रान्तिगाथा-७०

१९२० का अगस्त महीना शुरू हो चुका था। अगस्त महीने की १ तारीख थी और उस दिन एक बहुत ही दुखद घटना हुई। इस घटना से सारा भारत शोक में डूब गया। हुआ भी वैसा ही था। १ अगस्त १९२० को ‘लोकमान्य’ इस उपाधि से गौरवान्वित बाळ गंगाधर टिळकजी का स्वर्गवास हो गया। ‘स्वराज्य यह […]

Read More »

क्रान्तिगाथा-६९

क्रान्तिगाथा-६९

जालियनवाला बाग में घटित इस घटना का भारत में हर एक स्तर पर निषेध ही किया गया। इस हत्याकांड का निषेध करने के लिए रविन्द्रनाथ टागोर ने अँग्रेज़ सरकार के द्वारा उन्हें प्रदान किया गया सर्वोच्च सम्मान (उपाधि) लौटा दी। लेकिन इस घटना से भारतीयों के मन में मातृभूमि को आज़ाद करने के ध्येय की […]

Read More »

क्रान्तिगाथा-६८

क्रान्तिगाथा-६८

हालाँकि भारत में सर्वत्र इस अमानुष गोलीबारी की खबर तेज़ी से फैल गयी, लेकिन इंग्लैंड़ में इस घटना की सविस्तार खबर पहुँची, दिसंबर १९१९ में। अँग्रेज़ सरकार को लगा कि अब भारतीय सहम गये होंगे, इसलिए इसके बाद अँग्रेज़ों के खिलाफ बगावत करने से पहले दस बार सोचेंगे। लेकिन अँग्रेज़ों को जल्द ही भारतीयों की […]

Read More »

क्रान्तिगाथा-६७

क्रान्तिगाथा-६७

जनरल डायर के आदेश के अनुसार लगभग दस मिनट तक जालियनवाला बाग में उपस्थित जनसमुदाय पर अंधाधुंध गोलियाँ चलायी जा रही थी और वहाँ पर उस वक्त उपस्थित बेगुनाह मासूस बच्चे, महिलाएँ, पुरुष, बडे बूढे सभी अचानक उनपर हुए इस हमले से अपनी जान बचाने के लिए यहाँ वहाँ भाग रहे थे। लेकिन जैसा कि […]

Read More »

क्रान्तिगाथा-६६

क्रान्तिगाथा-६६

पूरे भारत के बारे में अँग्रेज़ों के द्वारा जो रवैय्या अपनाया गया था, उसका पूरे भारत में से अब विरोध होने लगा। अब इस समूचे घटनाक्रम में पंजाब प्रान्त से अँग्रेज़ों को हो रहा विरोध दिन ब दिन तेज़ होने लगा था और पंजाब के साथ साथ बंगाल में भी अँग्रेज़ों के खिलाफ जनमत खौल […]

Read More »

क्रान्तिगाथा-६५

क्रान्तिगाथा-६५

भारतीयों के द्वारा ‘रौलेट अ‍ॅक्ट’ को ‘काला कानून’ इस नाम से संबोधित किया गया। इसे ‘काला कानून’ इसलिए कहा गया था, क्योंकि वह भारतीयों का सभी प्रकार से अहित करनेवाला था। दरअसल प्रथम विश्‍वयुद्ध के समय लागू किये गये ‘डिफेन्स ऑफ इंडिया अ‍ॅक्ट’ की मियाद इस महायुद्ध के बाद के छः महीने तक ही थी। […]

Read More »
1 2 3 8