श्‍वसनसंस्था – २५

श्‍वसनसंस्था – २५

प्राणवायु और कार्बन-डाय-ऑक्साईड वायु का डिफ्युजन, श्‍वसनसंस्था में किस प्रकार होता है, आज हम इसकी जानकारी प्राप्त करेंगे। वायु का यह आदान-प्रदान फेफड़ों के जिस भाग में होता हैं उसे ‘श्‍वसन-पटल’ अथवा Respiratory Membrane कहते हैं। फेफड़ों का एक बड़ा हिस्सा इस श्‍वसन पटल से व्याप्त रहता है। श्‍वसन पटल सिर्फ अलविलोय का ही बना […]

Read More »

श्‍वसनसंस्था – २४

श्‍वसनसंस्था – २४

हम अपने फेफड़ों की हवा और वातावरण की हवा में होने वाले फर्क की जानकारी प्राप्त कर रहे हैं। पिछले लेख में हमने दोनों में रहने वाले अंतर की जानकारी प्राप्त की। आज हम अन्य बातों की जानकारी लेंगे। ३) कर्बद्विप्राणिलवायु की मात्रा : वातावरण की हवा में इस वायु की मात्रा की तुलना में […]

Read More »

श्‍वसनसंस्था – २३

श्‍वसनसंस्था – २३

हमारे फेफड़ों की हवा एवं फेफड़ों के रक्त के बीच वायु का आदान-प्रदान किन दो बातों पर निर्भर करता है, इसकी जानकारी हमने प्राप्त की। इसी संदर्भ में कुछ अन्य महत्त्वपूर्ण बातों की जानकारी आज हम प्राप्त करेंगे। वातावरण और अलविओलाय दोनों में हवा होती है। परन्तु इस हवा में फर्क होता है। वातावरण की […]

Read More »

श्‍वसनसंस्था – २२

श्‍वसनसंस्था – २२

हम हवा के कणों की गति के भौतिकशास्त्र की जानकारी प्राप्त कर रहे हैं। किसी बंद जगह की हवा के कण लगातार उस जगह के किनारों तथा दीवारों से टकराते रहते हैं। टकराने (strike) की इस क्रिया से उस बंद जगह में एक प्रकार के दबाव का निर्माण होता है। श्वसन मार्ग में तथा अलविओलाय […]

Read More »

श्‍वसनसंस्था – २१

श्‍वसनसंस्था – २१

आज तक हमने यह देखा कि फेफड़ों के अलविओलाय तक हवा कैसे पहुँचती हैं। अब हम इस हवा के अगले प्रवास के बारे में अध्ययन करेंगे। अलविलोय में हवा के पहुँचने के बाद उसमें उपस्थित विभिन्न प्रकार के वायु रक्त में कैसे पहुँचती हैं, इसकी अब हम जानकारी प्राप्त करेंगे। इसके लिए हमें थोड़ा पीछे […]

Read More »

श्‍वसनसंस्था – २०

श्‍वसनसंस्था – २०

हम अपने फेफड़ों के रक्ताभिसरण के बारे में जानकारी प्राप्त कर रहे हैं। अब हम देखेंगे कि फेफड़ों में रक्त का प्रवाह कैसे होता है। कौन-कौन से घटक इस प्रवाह को नियंत्रित करते हैं। श्‍वसन का मुख्य ध्येय है, श्‍वास का आदान-प्रदान करना और यही ध्येय फेफड़ों के रक्ताभिसरण का भी है। इसी लिये एकसमान […]

Read More »

श्‍वसनसंस्था – १९

श्‍वसनसंस्था – १९

आज से हम फेफड़ों में होनेवाले रक्ताभिसरण की जानकारी प्राप्त करेंगे। फेफड़ों का मुख्य कार्य वायु का आदान-प्रदान ही है। इसमें फेफड़ों में होनेवाले रक्ताभिसरण की मुख्य भूमिका होती हैं। इसकी कुछ विशेषतायें हैं, इसी लिए हम इसके बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे। हम सर्वप्रथम रक्ताभिसरण कार्य की दृष्टि से फेफड़ों की रक्तवाहिनियों की रचना […]

Read More »

श्‍वसनसंस्था – १८

श्‍वसनसंस्था – १८

श्‍वसनमार्ग का दृश्य भाग कौन सा है? यदि किसी से यह प्रश्‍न पूछा जाए तो उसे अपनी नाक तुरंत याद आ जायेगी। नाक और गले तक का भाग ही हम बिना किसी यंत्र की सहायता से देख सकते हैं। गले और श्‍वास नलिका के बारे में हमने जानकारी प्राप्त की। अब हम नाक के कार्यों […]

Read More »

श्‍वसनसंस्था – १७

श्‍वसनसंस्था – १७

हमारी नाक से लेकर फेफड़ों तक हवा का महामार्ग किस तरह खुला रखा जाता है, हम इसका अध्ययन कर रहे हैं। इस व्यवस्था का पहला भाग हमने पिछले लेख में देखा। आज हम इसके अगले भाग की जानकारी प्राप्त करेंगें। श्‍वसनमार्ग की म्युकस और सिलिआ : नाक से लेकर अलविलोय तक जो श्‍वसनमार्ग है, उसमें […]

Read More »

श्‍वसनसंस्था – १६

श्‍वसनसंस्था – १६

फेफडों में वायु के आवागमन की जानकारी हमने प्राप्त की। श्‍वसनसंस्था का मुख्य कार्य वायु का आदान-प्रदान करना है। इस कार्य में संपूर्ण श्‍वसनसंस्था मदद करती है। वायु का आदान-प्रदान अलविओल्स में होता है। अलविओल्स की बाहरी सतह पर फेफड़ों की छोटी-छोटी केशवाहनियाँ होती हैं। इन रक्त-वाहनियों में जो रक्त होता है उसमें कर्बद्विप्राणिल (कार्बन […]

Read More »
1 2 3 17