रक्त एवं रक्तघटक – ५१

रक्त एवं रक्तघटक – ५१

हम अपने रक्त की सफ़ेद पेशियों की जानकारी ले रहे हैं। हमारे शरीर में ‘हल्लाबोल’ करनेवाले विभिन्न जीवजंतुओं का प्रतिकार करने का और शरीर को उनके दुष्परिणामों से बचाने का कार्य ये पेशियां करती हैं। इन पेशियों की प्रतिकार करने की पद्धति अलग होती है। आज हम सबसे पहले न्युट्रोफ़िल पेशी और मोनोसाइट पेशी उर्फ़ […]

Read More »

रक्त एवं रक्तघटक – ५०

रक्त एवं रक्तघटक – ५०

रक्त की सफेद पेशियों के बारे में हम जानकारी प्राप्त कर चुके हैं। अब हम इन पेशियों के तथा इनके कार्यों के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करेंगे। सफेद रक्तपेशियां यानी शरीर के सैनिक, जो बचाव और प्रतिकार दोनों में प्रवीण हैं। परन्तु यह बचाव और प्रतिकार भला किसके विरुद्ध और क्यों करना पड़ता है? […]

Read More »

रक्त एवं रक्तघटक- ४९

रक्त एवं रक्तघटक- ४९

हम पांडुरोग यानी अ‍ॅनिमिया नामक रोग की जानकारी प्राप्त कर रहे हैं। पिछले लेख में लोह की कमी से होनेवाले अ‍ॅनिमिया की जानकारी ली। इसे Iron Deficiency anaemia कहते हैं। आहार में लोह की कमी होने के कारण यह अकसर हो जाता है। इसीलिये इसे न्यूट्रिशनल अ‍ॅनिमिया (आहार से संबंधित) भी कहा जाता है। अ‍ॅनिमिया […]

Read More »

रक्त एवं रक्तघटक- ४८

रक्त एवं रक्तघटक- ४८

हम रक्त की लाल पेशियों के बारे में जानकारी प्राप्त कर रहें हैं। प्रत्येक लाल पेशी की आयु साधरणत: १२० दिन की होती हैं। लाल पेशी में केन्द्रक नहीं होता हैं। माइटोकॉन्ड्रीया नहीं होते हैं। इन पेशियों में कुछ एन्झाइम्स् होते हैं। ये एन्झाइम्स् कुछ महत्त्वपूर्ण कार्य करते हैं। ये कार्य निम्नलिखित हैं – १) […]

Read More »

रक्त एवं रक्तघटक – ४७

रक्त एवं रक्तघटक – ४७

पिछले लेख में हम ने लाल पेशियों की निर्मिति के बारे में जानकारी प्राप्त की। आज हम हिमोग्लोबिन एवं शरीर में लोह की मेटाबोलिझम इन के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगें। लाल रक्तपेशियां निर्मिति प्रक्रिया के दौरान अनेक अवस्थाओं से गुजरती हैं। अस्थि-मज्जा से रक्त तक के प्रवास में ये परिवर्तन घटित होते हैं। इन […]

Read More »

रक्त एवं रक्तघटक – ४६

रक्त एवं रक्तघटक – ४६

पिछले लेख तक हमने विविध रक्त समूहों की जानकारी प्राप्त की। इन प्रत्येक समूहों की थोड़ी विस्तृत परन्तु उपयोगी जानकारी हम प्राप्त करनेवाले हैं। इसकी शुरुआत लाल पेशियों से करते हैं। लाल रक्त पेशियां (Erythrocytes): शुरुआत में ही हमने देखा है कि इन पेशियों का प्रमुख कार्य रक्त के माध्यम से हिमोग्लोबिन को संपूर्ण शरीर में […]

Read More »

रक्त एवं रक्तघटक – ४५

रक्त एवं रक्तघटक – ४५

पिछले लेख में हमने देखा कि हमारे शरीर में कौन-कौन सी अँटिबॉडिज होती हैं। शरीर में प्रवेश करनेवाले जीवाणु, विषाणु एवं अन्य तकलीफदेह घटकों को ‘अ‍ॅँटिजेन’ कहते हैं। अ‍ॅँटिबॉडीज, अ‍ॅँटिजेन के विरोध में काम करती है। इस क्रिया को अ‍ॅँटिजन अ‍ॅँटिबॉडी रिअ‍ॅक्शन कहते हैं। अ‍ॅँटिबॉडीज विभिन्न तरीकों से अ‍ॅँटिजेन का प्रतिकार करती हैं। रक्त में […]

Read More »

रक्त एवं रक्तघटक – ४४

रक्त एवं रक्तघटक – ४४

आज तक हम ने रक्त की हीमल पेशी के बारे में जानकारी प्राप्त की। आज हम लिंफॉइड पेशी की सविस्तर जानकारी प्राप्त करेंगें। हमारे शरीर की रक्षा व प्रतिकार शक्ती को रक्त के व शरीर के अनेक घटकों द्वारा नियंत्रित किया जाता है। शरीर में प्रवेश करनेवाले जीवाणुओं अथवा ‘अपरिचित’ पदार्थों पर मॅक्सेफाड पेशियां या […]

Read More »

रक्त एवं रक्तघटक – ४३

रक्त एवं रक्तघटक – ४३

हम रक्त पेशियों की निर्मिति से संबंधित अध्ययन कर रहे हैं। गर्भावस्था में रक्तपेशी की निर्मिति तीसरे सप्ताह से शुरु हो जाती है। यह निर्मिति रक्तवाहिनियों में होती है। शुरुआत में लाल रक्तपेशियां आकार में बड़ी तथा अंदर केन्द्रकयुक्त होती हैं। इन्हें मेगॅब्लास्ट पेशी कहते हैं। आगे चलकर इनका रूपांतर एरिथ्राब्लास्ट व उसके बाद केन्द्रकविहीन […]

Read More »

रक्त एवं रक्तघटक – ४२

रक्त एवं रक्तघटक – ४२

हम अपने रक्त व रक्त घटकों की जानकारी ले रहे हैं। हमने रक्त के घटकों की संक्षिप्त जानकारी प्राप्त की। अब हम इन घटकों की विस्तृत जानकारी प्राप्त करेंगें। प्राथमिक जानकारी लेते समय हमनें देखा कि रक्त में द्राव होता है, उसे प्लाझ्मा कहते हैं। शेष भाग अनेक प्रकार की पेशियों का बना होता है। […]

Read More »
1 2 3 13