पाकिस्तान को समर्थ राजनीतिक नेतृत्व देंगे चुनाव प्रचार सभा में हफीज सईद की घोषणा

लाहोर: आतंकवादियों पर कार्रवाई करने के बजाय पाकिस्तान आतंकवादियों की सहायता कर रहा है, ऐसा आरोप लगाकर ‘फाइनेंसियल एक्शन टास्क फ़ोर्स’ (एफएटीएफ) ने पाकिस्तान को ‘ग्रे लिस्ट’ में डाला था। इसके बाद पाकिस्तान की तरफ से आतंकवादियों पर कठोर कार्रवाई अपेक्षित थी। लेकिन वैसा नहीं हुआ और आतंकवादी और कट्टरपंथी नेता पाकिस्तान में चुनाव के लिए प्रचार कर रहे हैं, यह बात सामने आ रही है। मुंबई पर आतंकवादी हमला करने वाला ‘जमात उल-दवा’ का प्रमुख हफीज सईद अपने उम्मीदवारों को जिताने का आवाहन कर रहा है और सिर्फ अपनी पार्टी ही पाकिस्तान की रक्षा कर सकती है, ऐसा आश्वासन दे रहा है।

पाकिस्तान, समर्थ, राजनीतिक नेतृत्व, चुनाव, प्रचार सभा, हफीज सईद, घोषणा, लाहोर, आतंकवादी हमलाहफीज सईद ने स्थापन की ‘मिली मुस्लिम लीग’ (एमएमएल) नाम के राजनीतिक पार्टी का पंजीकरण करने से पाकिस्तान के चुनाव योग ने इन्कार किया था। इसीलिए ‘अल्ला हो अकबर तेहरीक’ (एएटी) नाम के पार्टी का सहारा लेकर हफीज सईद और उसके साथी २५ जुलाई को पाकिस्तान में होने वाले चुनाव में उतरे हैं। लाहोर में हफीज सईद ने जोरदार प्रचार शुरू किया है और वही पाकिस्तान के हीत की सुरक्षा कर सकता है, ऐसा कहकर सईद ने इस देश की सभी राजनीतिक पार्टियों की कड़ी आलोचना शुरू की है।

पाकिस्तान को आवश्यक समर्थ राजनीतिक नेतृत्व देने की क्षमता अपनी पार्टी में है। साथ ही कश्मीर के साथ साथ पाकिस्तान की पानी समस्या सुलझाने के लिए अपनी पार्टी सर्वाधिक कोशिश करेगी, ऐसा आश्वासन सईद अपनी प्रचार सभा में दे रहा है। सईद का लड़का और जमाई इस चुनाव में उम्मीदवार बने हैं और उसकी पार्टी की तरफ से कुल २६५ उम्मीदवार चुनाव में उतरे हैं। उनको जिताने का आवाहन करते हुए, सईद ने भारत से पाकिस्तान को बहुत बड़ा खतरा है, ऐसी चेतावनी दी है। केवल भारत की तरफ से ही नहीं बल्कि पश्चिम से अमरिका और अन्य पश्चिमी देशों से भी पाकिस्तान को खतरा है, ऐसा सईद का कहना है।

पाकिस्तान की प्रस्थापित राजनीतिक पार्टियाँ अपने स्वार्थ के लिए इस चुनाव में उतरी हैं और वह देश के शत्रुओं के हस्तक हैं, ऐसा आरोप सईद लगा रहा है। उनकी वजह से ही पाकिस्तान की अवस्था खराब हुई है। और इस देश को अब मजबूत राजनीतिक नेतृत्व की आवश्यकता है और यह नेतृत्व सिर्फ अपनी पार्टी ही दे सकती है, ऐसा सईद पाकिस्तानी मतदाताओं को आत्मविश्वास से कह रहा है।

पाकिस्तान के चुनाव में अन्य कुछ कट्टर पंथी नेता और उनके समर्थक उतरे हैं और वह भी वहीं देश के तारणहार होने का दावा कर रहे हैं। लेकिन हफीज सईद को पाकिस्तान का कुविख्यात गुप्तचर संगठन ‘आईएसआई’ मदद कर रहा है, यह बात सामने आ रही है। हफीज सईद के लिए ‘आईएसआई’ के हस्तक काम कर रहे हैं और उनकी वजह से उसकी पार्टी इस चुनाव में प्रभाव डाल सकती है, ऐसा दावा कुछ लोग कर रहे हैं। जिस आतंकवादी नेता की वजह से पाकिस्तान का समावेश ‘एफएटीएफ’ में हुआ है, ऐसे सईद के उम्मीदवारों को पाकिस्तान के चुनाव में शामिल होने का और प्रचार करने का मौका देने की वजह से पाकिस्तान के उदारमतवादी तीव्र नाराजगी जता रहे हैं। पाकिस्तानी यंत्रणाओं की सहायता के बिना सईद का चुनाव में उतरना असंभव है, ऐसा उदारमतवादी समूह का कहना है। उसी समय विश्वभर में पाकिस्तान के खिलाफ और एक सन्देश जाने का दावा भी इस उदारमतवादी समूह ने किया है।