दिल्ली भाग-९

दिल्ली भाग-९

खिलौने, हर मानव के बचपन का एक अविभाज्य अंग। हर एक मनुष्य के बचपन का एक कोना तरह तरह के खिलौनों की यादों से भरा रहता है। उसमें भी लड़कों और लड़कियों के खिलौने अलग अलग रहते हैं और लड़कियाँ फिर चाहे वे किसी भी देश की, कोई भी भाषा बोलनेवाली हों; लेकिन उनके पास […]

Read More »

दिल्ली भाग-८

दिल्ली भाग-८

दिल्ली, भारत की राजधानी। अतीत और वर्तमान का एक खूबसूरत मिलाप। दिल्ली के चाँदनी चौक में जिस तरह लोगों की भीड़ उमड़ती रहती है, वैसे ही प्रगति मैदान भी लोगों के आकर्षण का केन्द्र है। प्रगति मैदान में स्थायी रूप से विभिन्न प्रकार के उत्पादों का मेला लगा रहता है। दर असल अब तक हम […]

Read More »

दिल्ली भाग-७

दिल्ली भाग-७

कितने बजे हैं? या आज कौनसी तारीख है? इन जैसे सवालों के जवाब हम घड़ी और कॅलेंड़रदेखकर पल भर में दे सकते है। लेकिन जब घड़ियाँ और कॅलेन्डर्स नहीं थे, तब लोग समय, वार, तारीख़, तिथि आदि बातों को कैसे देखते थे? अब दिल्ली की आज सैर करने निकले ही हैं कि सफ़र की शुरुआत […]

Read More »

दिल्ली भाग-६

दिल्ली भाग-६

जिसकी उम्र लगभग सोलह सौ वर्ष की है और इतने सालों से धूप, बरसात, ठंड को सहते हुए आज भी जो बिलकुल तंदुरुस्त है, ऐसा यह दिल्ली के कुतुबमीनार के परिसर में स्थित ‘लोहस्तम्भ’। घर के या अन्य कामों में इस्तेमाल किये जानेवाले लोहे की चीज़ों का कितना ध्यान रखना पड़ता है ना! यदि उसकी […]

Read More »

दिल्ली भाग-५

दिल्ली भाग-५

मयूरसिंहासन। दिल्ली के अतीत के एक लंबे दौर का यह गवाह रह चुका है। सोना, हीरें, मोती, माणिक, पन्नें इनसे बने इस सिंहासन पर मार्च १६३५ में सर्वप्रथम विराजमान हुआ, दिल्ली का शासक ‘शाहजहाँ’। पिछले लेख में हम ‘तवेर्नियर’ इस फ्रान्सिसी जौहरी द्वारा किये हुए मयूरसिंहासन के वर्णन को पढ़ ही चुके हैं। उसने स्वयं […]

Read More »

दिल्ली भाग-४

दिल्ली भाग-४

१४ अगस्त १९४७ की मध्यरात्री में सारे भारत की दृष्टि से एक बहुत ही महत्त्वपूर्ण घटना घटित हुई। जी हाँ! भारत आज़ाद हो गया। व्यापार करने आये और शासक बन बैठे अँग्रेज़ों की हमारे भारत पर रहनेवाली हुकूमत हमेशा के लिए समाप्त हो गयी। इस ऐतिहासिक घटना की और स्वतंत्रता के उस अत्युच्य पल की […]

Read More »

दिल्ली भाग-३

दिल्ली भाग-३

यमुना नदी के तट पर बसी दिल्ली का इतिहास विस्तृत है और यमुना उस पूरे इतिहास की मूक गवाह हैं। यमुनोत्री में उद्गमित यमुना तेज़ी से बहते हुए मैदानी इलाके में दाखिल होती है और इस मैदानी इलाके में ही समय के विभिन्न पड़ावों पर विभिन्न नगर यमुना के तट पर बसते रहे। दिल्ली इनमें […]

Read More »

दिल्ली भाग-२

दिल्ली भाग-२

नई दिल्ली! भारत की राजधानी। पुरानी दिल्ली से तो हमारा थोड़ा बहुत परिचय हो ही चुका है। अब जैसा कि पिछले लेख के अन्त में कहा था, हम ‘नई दिल्ली’ के बारे में प्रारम्भिक जानकारी प्राप्त करते हैं। ‘नई दिल्ली’ के नाम से ही पता चलता है कि इसकी रचना हाल ही में की गयी […]

Read More »

दिल्ली भाग-१

दिल्ली भाग-१

१९९० के दशक का समय था। वर्ष कौनसा था, यह तो अब याद नहीं आ रहा है। रेल तेज़ी से दौड़ रही थी। घर छोड़कर बारह घण्टों से भी अधिक समय बीत चुका था और रेल की तेज़ी के साथ साथ इच्छित स्थल तक पहुँचने की हमारी बेसब्री भी बढ़ती जा रही थी। ….और आख़िर […]

Read More »

तिरुचिरापल्ली भाग-६

तिरुचिरापल्ली भाग-६

श्रीरंगम् के पास, त्रिचि शहर से लगभग ३ कि.मी. की दूरी पर बसे एक स्थल की ओर अब हम जा रहे हैं। ‘तिरुवनैकोईल’ इस नाम से जाने जानेवाले गाँव हमें जाना है। यहाँ भगवान शिवजी और पार्वतीजी इनका एक प्राचीन मन्दिर है। यहाँ शिवजी को ‘जम्बुकेश्‍वर’ इस नाम से और पार्वतीजी को ‘अखिलंदेश्‍वरी’ इस नाम […]

Read More »
1 2 3 18