पाकिस्तान आतंकवादियों को रोकने के लिए भारत की मदद ले – केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह की टिप्पणी

श्रीनगर /वाशिंग्टन – अगर खुद के बल पर आतंकवादियों को रोका नहीं जा सकता, तो पाकिस्तान भारत की मदद ले ऐसा प्रस्ताव देकर केंद्रीय गृहमंत्री ने पाकिस्तान को चाटा लगाया है। उस समय अमरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने आतंकवादियों के मुद्दे पर पाकिस्तान को कड़े बोल सुनाएं हैं। कोई भी भेदभाव न करते हुए पाकिस्तान में आतंकवादियों पर कार्रवाई करें, ऐसी अमरिका के विदेशमंत्री ने पाकिस्तान के लष्कर प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा को सूचित किया है।

राजनाथ सिंह

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह २ दिनों के जम्मू कश्मीर के दौरे पर है। इस्लाम धर्मियों का पवित्र रमजान महीना शुरु होते हुए, इस निमित्त से जम्मू कश्मीर में आतंकवाद विरोधी कार्रवाई रोक दि गई थी। पर इसी समय में आतंकवादी हमले बढ़े हैं और सुरक्षा दल पर पत्थराव होने कि घटनाओं में बढ़ोतरी हुई है। पाकिस्तान से अंतर्राष्ट्रीय सीमा और नियंत्रण रेखा पर लगातार गोलीबारी की जा रही है। इस गोलीबारी में आतंकवादियों की घुसपैठ को सहायता करने की बात स्पष्ट हो रही है। पिछले कई दिनों में ऐसे घुसपैठ के प्रयत्न सुरक्षा दल ने उधेड़े थे। इस पृष्ठभूमि पर गृहमंत्री राजनाथ सिंह का जम्मू कश्मीर का दौरा महत्वपूर्ण माना जा रहा है।

श्रीनगर में एक कार्यक्रम में बोलते हुए राजनाथ सिंह ने पाकिस्तान के साथ जम्मू कश्मीर में विद्रोही संगठनों पर निशाना साधा है। पाकिस्तान उनके भूमि से होनेवाले आतंकवादी कार्रवाई रोके। पाकिस्तान स्वयं आतंकवाद का बलि होने का दावा करता है। तथा पाकिस्तान के भूमि से होनेवाले आतंकवादियों की कार्यवाही रोकने की इच्छा लगातार व्यक्त करता है। पर वास्तव में वैसा होता दिखाई नहीं देता। पाकिस्तान को अपने बल पर आतंकवादियों को रोकना संभव नहीं है। तो उन्हें अपने पड़ोसी देश की मदद लेनी चाहिए, ऐसी टिप्पणी केंद्रीय गृहमंत्री ने लगाई है।

जम्मू कश्मीर का चित्र बदलते हुए इस राज्य का भविष्य बदल सकता है, ऐसा विश्वास उस समय केंद्रीय गृहमंत्री ने व्यक्त किया है। पाकिस्तान पुरस्कृत आतंकवाद जम्मू कश्मीर में शुरू हुआ है। उसके बाद अनेक नौजवान को गुमराह करके हिंसा के मार्ग में धकेला जा रहा है। पर इस गुमराह हुए नौजवानों को फिर से मुख्य प्रवाह में लाने का प्रयत्न भारत सरकार ने किया है। जम्मू-कश्मीर के नौजवान यह केवल राज्य की संपत्ति नहीं है, तो पूरे देश का गौरव है, ऐसा राजनाथ सिंह ने उस समय कहा है।

नौजवानों के हाथ बंदूक और पत्थर देने वाले इन कश्मीरी नौजवानों के भविष्य से खेले ऐसा कहकर राजनाथ सिंह ने विद्रोही और कश्मीर नौजवानों को संदेश दिया है। सरकार जनतंत्रवाद पर विश्वास रखने वाले किसी से भी चर्चा करने के लिए तैयार हैं, ऐसा भी उस समय स्पष्ट किया है।

दौरान अमरिका के विदेशमंत्री पोम्पिओ ने पाकिस्तान के लष्कर प्रमुख से आतंकवाद के मुद्दे पर तीव्र शब्दों में फटकारा है। पाकिस्तान के लष्कर प्रमुख बाजवा इनसे फोन पर बोलते हुए पोम्पिओ ने आतंकवादियों में कोई भी फर्क न करते हुए कार्यवाही करें, ऐसा कहा है। अमरिका इस वर्ष शुरुआत से आतंकवादीयों पर कारवाई के बारे में पाकिस्तान को कड़ी चेतावनी देने की बात दिखाई दे रही है। पाकिस्तान को दी जानेवाली सहायता अमरिका ने रोकी है।