‘इस्रायल के सीरिया पर हमले शुरू रहेंगे’ : इस्रायली प्रधानमंत्री की चेतावनी

बीजिंग, दि. २२: ‘सीरिया में किये जा रहे हवाई हमले रोकने के लिए रशिया ने इस्रायल के पास कोई माँग नहीं की है| लेकिन सीरिया में चल रहे संघर्ष का फ़ायदा उठाकर यदि ईरान हिजबुल्लाह को हथियारों से लैस करता रहेगा, तो इस्रायल के लड़ाकू विमान आनेवाले समय में भी सीरिया पर हवाई हमले करते रहेंगे’ ऐसी चेतावनी इस्रायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेत्यान्याहू ने दी| इस्रायल की सुरक्षा के लिए खतरा साबित होने वाले सीरिया में चल रही गतिविधियों पर हम कार्रवाई करेंगे, ऐसी जानकारी इससे पहले रशियन राष्ट्राध्यक्ष व्लादिमिर पुतिन को दी थी, ऐसा भी प्रधानमंत्री नेत्यान्याहू ने स्पष्ट किया|

प्रधानमंत्री नेत्यान्याहू

पिछले हफ्ते इस्रायल के चार लड़ाकू विमानों ने सीरिया की हवाई सीमा में प्रवेश करते हुए पालमिरा में हमले किये थे| उसके बाद इस्रायल के ड्रोन ने भी सीरिया की गोलान पहाड़ियों के क्षेत्र में हमले किये, ऐसा दावा सीरिया की सेना ने किया था| सीरिया में किए गए इस्रायल के हमलों के बाद रशिया के विदेशमंत्रालय ने इस्रायली राजदूत ‘गॅरी कोरेन’ को दो बार तलब किया| साथ ही, इस्रायल सीरिया में हवाई हमलें बंद करें, ऐसी सूचना रशिया के विदेशमंत्रालय ने की, ऐसी खबर भी प्रकाशित हुई थी|

लेकिन रशियन सरकार इस्रायल पर नाराज़ नहीं है, ऐसा बताते हुए इस्रायली प्रधानमंत्री ने मीडिया द्वारा किए जा रहे दावे झुठला दिए| नेत्यान्याहू फिलहाल चीन की यात्रा पर हैं, वहाँ पत्रकारों से बातचीत करते हुए उन्होंने, सीरिया में हुए हमलों को लेकर इस्रायल और रशिया में विवाद नहीं है, ऐसा खुलासा किया| ९ मार्च को इस्रायली प्रधानमंत्री ने रशिया की यात्रा की थी| उस समय राष्ट्राध्यक्ष पुतिन के साथ हुई बातचीत में मैंने कहा कि सीरिया में यदि इस्रायलविरोधी गतिविधियों के संबंध में जानकारी मिलती है, तो फिर इस्रायल सीरिया में हमले किये बिना नहीं रह सकता, ऐसा नेत्यान्याहू ने कहा| राष्ट्राध्यक्ष पुतिन ने भी इस्रायल की इस भूमिका का समर्थन किया था, ऐसी जानकारी इस्रायली प्रधानमंत्री ने दी|

इसी दौरान, इस्रायल ने सीरिया में किये हवाई हमलों के बाद सीरियन राष्ट्राध्यक्ष असाद ने रशिया को आवाहन किया है| आनेवाले समय में इस्रायल के लड़ाकू विमान सीरिया पर हमले ना चढ़ाएँ इसलिए रशिया मध्यस्थता करें| ऐसा होने पर ही इस्रायल और सीरिया के बीच के संघर्ष को टाला जा सकता है, ऐसा दावा सीरियन राष्ट्राध्यक्ष ने किया था| इस पर रशिया ने प्रतिक्रिया नहीं दी है|

लेकिन सीरिया में इस्रायली हवाई हमलों से रशिया नाराज़ हुआ है, यह ख़बर दुनिया में फ़ैल गयी होकर, इस संदर्भ में इस्रायली प्रधानमंत्री द्वारा किये जानेवाले दावों को स्वीकारा नहीं जा सकता| इस्रायली लड़ाकू विमानों ने सीरिया के जिस इलाके में हमले किए, उससे कुछ ही दूरी पर रशियन सेना तैनात थी, ऐसी जानकारी रशियन विदेशमंत्रालय ने दी थी| इस कारण रशिया इस्रायल के हमले पर चिंता जता रहा है। साथ ही, इस मामले में इस्रायली राजदूत को तलब किया गया था| इस कारण आनेवाले समय में, इस्रायल द्वारा यदि सीरिया हमले हुए, तो उनपर रशिया द्वारा प्रतिक्रिया आने की संभावना झुठलाई नहीं जा सकती|