सीरिया में ‘आयएस’ की जगहों पर रशियन नौसेना के मिसाईल्स हमलें

मॉस्को, दि. २४: रशिया ने सीरिया में ‘आयएस’ के विरोध में कार्रवाई तेज़ कर दी है| रशिया के हवाई हमले की वजह से भागने वाले ‘आयएस’ के आतंकवादियों को, रशियन नौसेना ने मिसाईल्स हमले करके लक्ष्य बनाया| भूमध्य समुद्र में तैनात रहे रशियन नौसेना के दो विध्वसंक और पनडुब्बी ने यह कार्रवाई की, ऐसी जानकारी रशियन रक्षा मंत्रालय ने दी|

सीरिया में ‘आयएस’ के विरोध में कार्रवाई तेज़

पिछले हफ्ते से रशिया और अमरीका ने सीरिया के ‘राक्का’ शहर पर जोरदार हमले शुरू किये हैं| ‘आयएस’ ने इस शहर को अपनी ‘राजधानी’ घोषित किया था| इस वजह से, इस शहर पर हमले करके ‘आयएस’ को मात देने की नीति रशिया और अमरीका ने अपनायी है| इनमें से ‘राक्का’ शहर के दक्षिणी इलाके पर रशिया के लड़ाकू विमान हमला कर रहे हैं|

इन हवाई हमलों की वजह से ‘आएयएस’ के आतंकवादियो ने वहाँ से भागना शुरू कर दिया है| वे ‘पालमिरा’ की दिशा में भाग रहे हैं| इन आतंकवादियों पर नज़र रखने का काम रशिया के ड्रोन्स तथा जासूसी विमान कर रहे हैं| इनमें से कुछ आतंकवादियों का जत्था ‘हमा’ शहर में दाखिल होने की जानकारी रशिया को मिली थी| आतंकवादियो ने हमा में ‘अकेरबात’ इस भाग की एक ईमारत को अपना कमांड पोस्ट और हथियारों का भंडार बनाने की गुप्त जानकारी रशियन नौसेना को मिली थी|

इस जानकारी के आधार पर, सीरिया के सागरी क्षेत्र में तैनात रहे रशियन नौसेना के ‘ऍडमिरल एसेन’ और ‘ऍडमिरल ग्रिगोरोविच’ इन दो विध्वंसकों ने ‘अकेरबात’ की इन जगहों पर छह ‘कॅलिबर’ क्रूज़ मिसाईल्स से हमले किये| वहीं, ‘क्रॉस्नोडर’ इस पनडुब्बी ने पानी के नीचे से हमला किया, ऐसा रशियन नौसेना ने स्पष्ट किया| इस हमले में ‘आयएस’ का कमांडर पोस्ट और हथियारों का भांडार पूरी तरह से नष्ट हुआ| लेकिन ‘आयएस’ के कितने आतंकवादी मारे गये, इसकी जानकारी अभी तक सामने नहीं आयी है| लेकिन इस हमले से बचे आतंकवादियो ने भागने की कोशिश करते ही रशियन लड़ाकू विमानों ने हमला करके यह मुहिम पूरी की, ऐसी जानकारी रशियन रक्षा मंत्रालय ने दी|

पिछले कुछ हफ्तों से रशिया ने सीरिया में हमले की तीव्रता बढ़ाई है| मई महिने के पहले हफ्ते में रशियन नौसेना के इस विध्वंसक ने, भूमध्य समुद्र में से सीरिया के ‘पालमिरा’ क्षेत्र में हमले किये थे| पालमिरा में छिपे ‘आयएस’ के आतंकवादियों को रशियन नौसेना के मिसाईल्स ने लक्ष्य बनाया था| अमरीका के विध्वंसक ने भूमध्य समुद्र से किये हमले की पृष्ठभूमि पर रशियन नौसेना ने कार्रवाई की है, ऐसा कहा जाता है|

इसके बाद रशियन लड़ाकू विमानों ने चार बार सीरिया में हमले किये हैं| इनमें से मई महीने के आखरी हफ्ते में रशियन विमानों ने ‘राक्का’ में किये हमले में १३० से भी अधिक आतंकी मारे गये होकर, उनमें ‘आयएस’ प्रमुख ‘अबू बक्र अल-बगदादी’ रहने की आशंका रशिया ने जतायी थी| इसके बाद ‘देर अल-झोर’ इलाके में रशियन विमानों ने दो बार हमले किये हैं| इस हमले में भी आतंकवादियों का बड़ा नुकसान हुआ है, ऐसा दावा किया जाता है|

सीरिया के ‘हमा’ पर हमले करने से पहले, सेना की हॉटलाईन द्वारा संपर्क करके तुर्की और इस्राएल को इस कार्रवाई की जानकारी दी गयी थी| लेकिन क्या अमरीका को इस कार्रवाई के बारे में जानकारी दी है, इस सवाल पर बात करना रशियन रक्षामंत्रालय ने टाला| पिछले हफ्ते अमरीका ने, सीरीयन सेना समर्थक गुट पर किये हवाई हमलों की रशिया ने तीखी आलोचना की थी| इसीके साथ, अमरीका के साथ किये सीरियासंबंधित सहयोग से पीछे हटने का ऐलान भी किया था|