अफगान सीमा पर पाकिस्तान ने शुरू किया तोंपों से हमला – अफगान नागरिक डर के साये में

तृतीय महायुद्ध, परमाणु सज्ज, रशिया, ब्रिटन, प्रत्युत्तरकाबुल – अफगानिस्तान के सीमा भाग में पाकिस्तानी लष्कर ने टैंक द्वारा हमला शुरू किया है| इसकी वजह से सीमा भाग में रहनेवाले अफ़गानी लोगों में दहशत फैल रही है| कुछ दिनों पहले पाकिस्तानी जवानों ने वहां के अफगानी बस्तियों में घुसकर नागरिकों को धमकाया था| जल्द ही यह जगह खाली करें, हम इसका कब्जा लेने वाले हैं, ऐसी चेतावनी पाकिस्तानी जवानों ने दी थी| रविवार को टैंक का हमला शुरू करके पाकिस्तानी लष्कर द्वारा अफगानिस्तान पर दबाव बढ़ाने का प्रयत्न होता दिखाई दे रहा है|

अफगानिस्तान में स्थिरता के लिए पाकिस्तान जिम्मेदार होने की बात फिर एक बार उजागर हो रही है| पिछले हफ्ते में अफ़ग़ानिस्तान के हेलमंड प्रांत में लष्करी अड्डे पर हुआ हमला पाकिस्तान के तालिबान और जैश ए मोहम्मद इन दोनों आतंकवादी संगठन ने किया था, ऐसा आरोप अफगानिस्तान के रक्षामंत्री असादुल्लाह खालिद ने किया है| तालिबान देश के १२ आत्मघाती आतंकवादियों ने यह हमला चढ़ाने का आरोप पिछले हफ्ते में रक्षामंत्री खालिद ने किया था|

अफगानी रक्षा मंत्री के इन आरोपों को कुछ ही घंटे हो रहे थे, कि पाकिस्तानी सैनिकों ने अफगानिस्तान के नानगरहार प्रांत में घुसपैठ करके स्थानीय लोगों को धमकाया है| जल्द ही पाकिस्तानी लष्कर इस भाग का कब्जा लेनेवाला है और अफगानी लोगों का इस भाग पर हक ना होने का दावा, इन पाकिस्तानी सैनिकों ने किया था| साथ ही पाकिस्तान का इस भाग में टैंकर्स द्वारा हमला करने की धमकी भी पाकिस्तानी सैनिकों ने दी थी| इस धमकी के बाद कुछ ही घंटों में पाकिस्तानी लष्कर ने अफ़ग़ानिस्तान के नानगरहार प्रांत में टैंकर द्वारा हमले शुरू होने की जानकारी स्थानीय जनता एवं अधिकारी दे रहे हैं|

पाकिस्तानी लष्कर ने बस्तियों पर हमले न करें, ऐसा आवाहन अफगान प्रशासन कर रही है| पर अफगान सरकार लष्कर तथा स्थानीय अधिकारियों के आवाहन को प्रतिक्रिया न देते हुए पाकिस्तानी लष्कर ने अफगान सीमा पर हमले शुरू रखे हैं| इस हमले में बड़ी वित्तहानि हुई है और पाकिस्तान से लगातार अंतर्राष्ट्रीय नियमों का उल्लंघन होने की आलोचना अफगान सरकार कर रही है| पिछले हफ्ते में अफगान सरकार ने पाकिस्तान के सीमा भाग में होनेवाले रॉकेट तथा टैंक के हमलों के विरोध में संयुक्त राष्ट्र की तरफ शिकायत दर्ज की थी|

पिछले २ महीनों में पाकिस्तानी लष्कर ने १६१ बार संघर्ष बंदी का उल्लंघन करके ६००० से अधिक बार टैंक के हमला करने की बात अफगान सरकार ने राष्ट्रसंघ से किये शिकायत में कही है| पाकिस्तान की सरकार और लष्कर अफगानिस्तान की निश्चित सीमारेखा मंजूर करने के लिए तैयार ना होकर हमारी सीमा रेखा में घुसपैठ करके सुरक्षा चौकियों का निर्माण करने की बात अफगान सरकार ने राष्ट्रसंघ को ध्यान में दिलाई है| पिछले वर्ष पाकिस्तानी लष्कर ने अफगानिस्तान की सीमा रेखा पर बाढ़ निर्माण करना शुरू किया था, इसकी तरफ अफगानिस्तानी ध्यान केंद्रित किया है| दौरान अफगानिस्तान पाकिस्तान की सीमा पर यह भवन निर्माण अवैध ठहराकर अफगानी सरकार लष्कर ने पाकिस्तानी सेना पर गोलीबारी करके प्रत्युत्तर दिया था| जिसकी वजह से अफगान पाकिस्तान सीमा पर तनाव निर्माण हुआ था|