अफगानिस्तान की वायव्य सीमा पर तालिबान की कार्रवाईयों में बढोतरी – २२ अफगान सैनिक ढेर, १५० सैनिकों का अपहरण

तृतीय महायुद्ध, परमाणु सज्ज, रशिया, ब्रिटन, प्रत्युत्तर
मझार-ए-शरिफ – अफगानिस्तान के भविष्य को लेकर अमरिका के साथ शुरू बातचीत में सफलता प्राप्त होने का दावा किया हो फिर भी तालिबान ने अपनी आतंकी गतिविधियां रोकी नही है| अफगानिस्तान के वायव्य दिशा में ‘बदघिस’ प्रांत में तालिबानीयों ने अफगानी सेना पर किए हमले में २२ सैनिकों की मौत हुई है और ५० लोगों का अपहरण किया गया है| इस हमले से बचने के लिए तुर्कमेनिस्तान की दिशा में भाग रहे कम से १०० अफगान सैनिकों को भी कब्जे में करने का दावा तालिबान ने किया है|

पिछले हफ्ते में ‘बदघिस’ प्रांत में अफगान सेना और तालिबानी दहशतगर्दों के बीच जोरदार संघर्ष शुरू होने की जानकारी अमरिका के प्रमुख समाचार पत्र ने प्रसिद्ध की| इश संघर्ष में तालिबानी दहशतगर्दों ने १९० अफगान सैनिकों का अपहरण करने का समाचार शनिवार के दिन सामने आया था| लेकिन, तालिबान का प्रवक्ता झबिउल्लाह मुजाहिद के हवाले से अमरिकी समाचार पत्र ने प्रसिद्ध की हुई जानकारी में इस संघर्ष में २२ अफगान सैनिकों की मौत हुई है और १५० अफगान सैनिकों का अपहरण करने की जानकारी तालिबान के प्रवक्ता ने दी है|

इस हमले के बाद अफगान सेना ने बगघिस प्रांत के लिए अतिरिक्त बल रवाना किया है|पिछले कुछ महीनों में अफगान सुरक्षा यंत्रणा को लगा यह सबसे बडा झटका होने की बात कही जा रही है| पिछले वर्ष अगस्त महीने में तालिबान ने गझनी प्रांत में किए हमले में २०० अफगान सैनिक मारे गए थे| उसी महीने में तालिबानीयों ने फरयाब लष्करी अड्डे पर हमला करके ५० अफगान सैनिकों का अपहरण किया था|

इन अफगान सैनिकों को छोडने के लिए तालिबान ने किसी भी प्रकार की मांग नही रखी है| लेकिन, अफगानिस्तान को ‘तुर्कमेनिस्तान’ से जोडनेवाले प्रांत पर कब्जा करके तालिबान अपना प्रभाव बढाने की तैयारी में होने की बात कही जा रही है| इस दौरान अमरिका के साथ शुरू बातचीत नजरअंदाज करके तालिबान ने अफगानिस्तान पर वर्चस्व प्राप्त करने के लिए जोरदार कोशिश करने की बात स्पष्ट हुई है|