नियंत्रण रेखा पर बना तनाव कम करें – पाकिस्तान ने की भारत को बिनती

नई दिल्ली – इस वर्ष में ९८२ बार और पुलवामा हमले के बाद ५०० से भी अधिक बार नियंत्रण रेखा पर गोलीबारी करनेवाले पाकिस्तान ने सीमा पर बना तनाव कम करें, यह बिनती भारत के सामने की है| पाकिस्तान ने राजनयिक मार्ग से किए निवेदन पर भारत ने भी जवाब दिया है| पाकिस्तान उनकी भूमि से आतंकी गतिविधियों को प्रोत्साहन देना बंद करे, आतंकियों पर कडी कार्रवाई करे, उसके बाद ही तनाव कम होगा, यह संदेशा स्पष्ट शब्दों में भारत ने पाकिस्तान तक पहुंचाया है|

पुलवामा हमले के बाद भारत ने किए हवाई हमले के बाद पाकिस्तान लगातार जम्मू-कश्मीर सीमा पर गोलीबारी कर रहा है| पुलवामा हमले के बाद ५०० से अधिक बार पाकिस्तान ने भारतीय सीमा पर गोलीबारी की है और इस दौरान कई जगहों पर हमला करने के लिए तोंप का इस्तेमाल भी किया है| भारतीय सेना ने भी पाकिस्तान के इन हमलों को सटिक जवाब दिया है| इससे पाकिस्तान को बडा नुकसान उठाना पड रहा है| भारत के साथ बने तनाव में बढोतरी होने से पाकिस्तान को अपनी पूरी सेना भारतीय सीमा पर तैनात करनी पडी है| इसमें पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था बडी गिरावट का सामना कर रही है और अब पाकिस्तान को भारत के साथ बातचीत करनी है| अलग अलग तरीके से पाकिस्तान अब भारत के सामने बातचीत के लिए प्रस्ताव रख रहा है| लेकिन, भारत ने पाकिस्तान के यह सभी प्रस्ताव ठुकराए है| भारत बातचीत के लिए तैयार नही, यह स्पष्ट होने से पाकिस्तान अब सीमा पर बना तनाव कम करने के लिए भारत के सामने गिडगिडाटा नजर आ रहा है|

इसके लिए पाकिस्तान ने भारत के सामने राजनयिक मार्ग से सीमा पर बना तनाव कम करने की बिनती की है| पाकिस्तान की इस बिनती पर जवाब देते समय भारत ने अपनी भूमिका में बदलाव नही हुआ है, यह भी स्पष्ट किया| जबतक पाकिस्तान आतंकियों के विरोध में कडी कार्रवाई करता नही, पाकिस्तान की भूमि से हो रही आतंकी गतिविधियां बंद करने के लिए कदम उठाता नही, तबतक यह तनाव कम होना मुमकिन नही| पाकिस्तान ने आतंकियों के विरोध में कडी कार्रवाई करने पर ही सीमा पर बने तनाव में कमी हो सकती है, ऐसा इशारा भारत ने पाकिस्तान को दिया है|

भारत के साथ बने तनाव में बढोतरी होने से पाकिस्तान को सेना, नौसेना और वायुसेना तैयार रखनी पड रही है| इन लष्करी गतिविधियों के लिए बडे तादाद में खर्चा हो रहा है और दिवालिया निकली पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था पर इससे बडा दबाव बन रहा है| इस वजह से पाकिस्तान यह दबाव कम करने के लिए कडी कोशिश कता दिखाई दे रहा है|

लेकिन, भारत के सामने यह तनाव कम करने के लिए निवेदन करनेवाला पाकिस्तान अपनी जनता के सामने अपनी अलग ही छबी रख रहा है| पाकिस्तान के विदेशमंत्री शहा महमूद कुरैशी ने शुक्रवार के दिन पाकिस्तान की संसद में भारत तनाव बढाने के लिए इच्छुक होने का आरोप किया|भारत के साथ बना तनाव कम करने के लिए पाकिस्तान लगातार कोशिश कर रहा है| लेकिन भारत इन कोशिशों के लिए किसी भी प्रकार की सहायता करने के लिए इच्छुक नही है| यह ज्ञात होते हुए भी पाकिस्तान सरकार ने जेल में बंद ३६० भारतीय कैदी मुक्त किए| लेकिन, इसके बावजूद भारत सीमा पर बने तनाव में बढोतरी करने के लिए ही इच्छुक है, ऐसा कुरैशी ने कहा है|

पाकिस्तान के विदेशमंत्री कुरैशी इनका यह दावा और पाकिस्तान ने सीमा पर तनाव कम करने के लिए भारत के सामने रखे निवेदन से भारत के साथ बने तनाव में पाकिस्तान मुश्किल में फंसने की बात रेखांकित होती है| भारत के साथ बातचीत करने के लिए पाकिस्तान तडप रहा है| लेकिन, दुसरी ओर कश्मीर समस्या छोडने के लिए तैयार नही है| संयुक्त राष्ट्र ने मौलाना अजहर मसूद को अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित करने के बाद पाकिस्तान ने जैश और अजहर पर कार्रवाई करने का दिखावा शुरू किया है| लेकिन, अजहर पर हुई कार्रवाई पाकिस्तान पर बुमरैंग होने की संभावना पाकिस्तान के विशेषज्ञ व्यक्त कर रहे है|