ईरान संबंधी बातचीत के लिए अमरिकी विदेशमंत्री पोम्पिओ यूरोप पहुंचे – ‘मास्को’ की यात्रा रद्द

तृतीय महायुद्ध, परमाणु सज्ज, रशिया, ब्रिटन, प्रत्युत्तरब्रुसेल्स – ईरान के मुद्दे पर खाडी क्षेत्र में संघर्ष होने के संकेत प्राप्त हो रहै है| इसी बीच अमरिकी विदेशमंत्री माईक पोम्पिओ ने यकायक यूरोप की यात्रा शुरू की है| विदेशमंत्री पोम्पिओ ने आखरी क्षण यह यात्रा करने का निर्णय किया है और इस यात्रा के लिए रशिया की राजधानी ‘मास्को’ में एक कार्यक्रम उन्होंने रद्द करने से उनकी इस यूरोप यात्रा ने ध्यान आकर्षित किया है| पोम्पिओ ब्रुसेल्स पहुंच रहे थे तभी यूरोपिय महासंघ ने ईरान के परमाणु समझौते को पूरा सर्थन देने का वक्तव्य करके महासंघ की विदेश नीति की प्रमुख फेडेरिका मॉघेरिनी इन्होंने यूरोप अपनी भूमिका में बदलाव नही करेगा, यह स्पष्ट संकेत दिए है|

पिछले हफ्तें में ही अमरिकी विदेशमंत्री रशिया यात्रा करने की जानकारी सामने आ चुकी थी| ऐसे में यूरोप यात्रा करना विदेशमंत्री पॉम्पिओ ने यकायक तय किया, यह जानकारी सूत्रों से दी जा रही है| ‘आईएनएफ’ समझौते से वापसी, व्हेनेजुएला, सीरिया, उत्तर कोरिया और ईरान जैसे कई मुद्दों पर इस यात्रा में बातचीत होगी, यह जानकारी दी जा रही थी| पोम्पिओ इनकी यह रशिया यात्रा दो दिन की तय हुई थी| इस दौरान वह रशिया की राजधानी मास्को और सोची शहर पहुंचेंगे, यह स्पष्ट किया गया था|

लेकिन, अमरिकी राजधानी से वह यात्रा के लिए निकलही रहे थे तभी विदेश विभाग ने निवेदन जारी किया| इस निवेदन में पोम्पिओ ने अपनी रशिया यात्रा के कार्यक्रम में बदलाव किया है, यह जानकारी दी गई| अमरिकी विदेशमंत्री राजधानी मास्को पहुंचने से पहले यूरोपिय महासंघ की राजधानी ब्रुसेल्स में उतरेंगे, ऐसा इन निवेदन में कहा गया था| साथ ही अमरिकी विदेशमंत्री की यात्रा में हुए बदलाव के बारे में किसी भी प्रकार का खुलासा नही किया गया|

सोमवार के दिन यूरोपिय महासंघ की ‘फॉरेन अफेअर्स कौन्सिल’ की बैठक होनी है| इस बैठक को महासंघ के २७ सदस्य देशों के विदेश मंत्री उपस्थित रहेंगे| बैठक में व्हेनेजुएला, सुदान, लीबिया, अफ्रीका के ‘साहेल’ विभाग एवं अमरिका के साथ व्यापार के मुद्दे पर बातचीत करने का कार्यक्रम है| महासंघ की ‘फॉरेन अफेअर्स कौन्सिल’ के अजेंडा में कही भी ईरान का जिक्र नही है, फिर भी पोम्पिओ ने यूरोप यात्रा करना ध्यान आकर्षित कर रहा है|

अमरिका के विदेश विभाग ने जारी किए निवेदन में विदेशमंत्री पोम्पिओ यूरोपिय सहयोगी देशों के नेताओं से भेंट करेंगे, यह कहा गया है| इस भेंट के दौरान, ईरान से दी जा रही धमकीयां और संभाव्य कार्रवाई से बन रहे खतरें के विषय में बातचीत होगी, यह भी वर्णित निवेदन में स्पष्ट किया गया है| खाडी क्षेत्र के अलावा निकट के क्षेत्र में भी अमरिका के हितसंबंध सुरक्षित रखने के लिए पोम्पिओ यूरोपीय देशों के साथ समन्वय स्थापित करने की कोशिश करेंगे, यह भी अमरिकी विदेश विभाग ने कहा है|

पोम्पिओ ईरान से बन रहे खतरे के विषय में बातचीत करने के लिए पहुंच रहे थे तभी यूरोपिय महासंघ ने अपनी भूमिका बरकरार रखी दिख रही है| महासंघ के विदेश प्रमुख मॉघेरिनी इन्होंने पोम्पिओ की इस यात्रा का स्वागत करने के साथ ही उनके साथ बातचीत करने के लिए अलग से समय निकालना मुश्किल होने के संकेत दिए| साथ ही ईरान के परमाणु समझौते को लेकर महासंघ की भूमिका कायम है और अंतरराष्ट्रीय समझौते का समर्थन करनेपर यूरोप कायम है, ऐसा मॉघेरिनी इन्होंने स्पष्ट किया| महासंघ के विदेश प्रमुख ने किया यह वक्तव्य ईरान मुद्दे पर अमरिका और यूरोप के बीच बने मतभेद फिर एक बार उजागर करने का कारण साबित हो रहा है|