फ्रान्स २०२१ तर हायपरसोनिक मिसाइल का निर्माण करेगा – फ्रेन्च रक्षा मंत्री फ्लॉरेन्स पार्ले

तृतीय महायुद्ध, परमाणु सज्ज, रशिया, ब्रिटन, प्रत्युत्तरपैरिस – ‘विश्‍व के कई देश हायपरोसनिक हथियारों का निर्माण कर रहे है| फ्रान्स के पास भी इसी प्रकार के हथियारों का निर्माण करने के लिए जरूरी तकनीक है| इस वजह से अब फ्रान्स और प्रतिक्षा नही कर सकता’, इन शब्दों में फ्रान्स के रक्षा मंत्री फ्लॉरेन्स पार्ले इन्होंने फ्रान्स हायपरसोनिक हथियारों का निर्माण करने में उतर रहा है, यह ऐलान किया| आने वाले तीन वर्षों में फ्रान्स पहले हायपरसोनिक मिसाइल का निर्माण करेगा, यह दावा भी फ्रेन्च रक्षा मंत्री ने किया|

पिछले कुछ वर्षों में विश्‍व के प्रमुख देशोंने हायपरसोनिक मिसाइल का निर्माण करने के लिए आक्रामकता से कदम बढाए है, यह सामने आया है| इनमें अमरिका, चीन, रशिया के साथ भारत का भी समावेश है| इन देशों ने हायपरसोनिक मिसाइल का निर्माण किया है| इन मिसाइलों का परीक्षण करके इन्हें रक्षा बलों के बेडे में भी शामिल करने की प्रकिया शुरू हुई है|

इस पृष्ठभूमि पर फ्रान्स ने की घोषणा ध्यान आकर्षित करती है| फ्रान्स यह देश ‘हायपरसोनिक’ मिसाइल का निर्माण करने का ऐलान करनेवाला पहला यूरोपीय देश साबित हुआ है|

फ्रेन्च रक्षा मंत्री ने कुछ दिनों पहले किए ऐलान के नुसार ‘एरियन ग्रुप’ यह फ्रान्स में चोटी के स्थान पर रहनेवाली कंपनी हायपरसोनिक हथियारों का निर्माण करेगी| वर्ष २०२१ तक इसका पहला एवं प्राथमिक स्तर पूरा होगा, यह भी फ्रान्स की ओर से कहा गया है| फ्रान्स से निर्माण हो रहा हायपरसोनिक मिसाइल हवा से मारा करनेवाला रहेगा, यह बताया जा रहा है| फ्रान्स से निर्माण किए जानेवाले हायपरसोनिक हथियारों के कार्यक्रम को ‘व्ही-मैक्स’ (एक्सपरिमेंटल मैन्युव्हरिंग व्हेईकल) यह नाम दिया गया है|

फ्रान्स यह विश्‍व का परमाणु हथियारों से तैयार देशों में से एक है और फ्रान्स के पास हवा और पनडुब्बी से हमला करने के लिए उपयुक्त परमाणु हथियार है| लेकिन, विमान वाहक युद्धपोत से हमला करने के लिए फ्रान्स को प्रगत और तेज मिसाइल की जरूरत रहेगी| इसी लिए फ्रान्स ने हायपरसोनिक मिसाइल का निर्माण करने की तैयारी शुरू की होगी, ऐसा दावा रशिया के लष्करी विश्‍लेषक ने किया है|