इजराइल के सीरियन लष्कर की चौकियों पर हवाई हमले

तृतीय महायुद्ध, परमाणु सज्ज, रशिया, ब्रिटन, प्रत्युत्तर

बैरूत/जेरुसलेम – गोलान सीमा के पास स्थित सीरियन लष्कर की चौकियों पर इजराइल ने भीषण हवाई हमले किए हैं। सीरियन लष्कर और रशिया ने इस इलाके के सीरियन बागियों पर हमले किए थे। इसके बाद इजराइल ने सीरिया को इसके खिलाफ कठोर चेतावनी दी थी। शुक्रवार को इजराइल ने सीरियन लष्कर की चौकी नष्ट करके अपनी धमकियाँ खाली नहीं हैं, यह दिखा दिया है। सीरिया के साथ साथ इजराइल ने इन हमलों के द्वारा रशिया को भी चेतावनी दी है, ऐसा दिखाई दे रहा है।

इजराइल के कब्जे वाली गोलान पहाड़ियां और सीरिया की सीमा पर स्थित ‘कुनित्रा क्रासिंग’ इन ठिकानों पर इसके पहले भी संयुक्त राष्ट्रसंघ के शांति सैनिक तैनात थे। लेकिन कुछ हफ़्तों पहले सीरियन लष्कर ने दक्षिण में स्थित ‘दारा’ इलाके में जोरदार हमले करके ‘कुनित्रा क्रासिंग’ में स्थित लष्करी अड्डे पर कब्जा किया था। उसीके साथ ही यहाँ पर पनी लष्करी चौकी भी खड़ी की थी।

सीरियन लष्कर

इसके अलावा गोलान सीमारेखा के पास वाले इलाके में भी सीरिया और रशियन लष्कर ने पिछले दो दिनों में जोरदार हमले किए थे। इसमें से सीरियन लष्कर ने दागा हुआ एक रॉकेट इजराइल की गोलान सीमारेखा के पास ‘बफर जोन’ में गिर गया। सीरियन लष्कर की यह कार्रवाई मतलब पांच दशकों पहले हुई संघर्षबंदी का उल्लंघन साबित होता है, ऐसी आलोचना करके इजराइल ने सीरियन लष्कर की चौकियों पर हले किए।

शुक्रवार को इजराइल ने किए हमले में ‘खान अरनाबेह’ में स्थित सीरियन लष्कर की चौकी उध्वस्त हुई है। ‘सीरिया के अंतर्गत संघर्ष में इजराइल को रूचि नहीं है। लेकिन सीरियन लष्कर १९७४ में हुए अनुबंध के अनुसार इजराइल की सीमा के पास स्थित बफर जोन की मर्यादा का उल्लंघन न करे’, ऐसी चेतावनी इजराइली लष्कर ने दी है। इजराइली लष्कर के इस हमले में कोई भी जीवित हानि नहीं हुई है। यह जानकारी सीरियन लष्कर के साथ संघर्ष करने वाले समूह के कमांडर ने दी है।

इसके पहले गुरुवार रात को सीरियन और रशियन लष्कर ने इजराइल की गोलान सीमारेखा के पास ६०० से अधिक रॉकेट हमले किए थे। अपनी सीमारेखा के पास हुए सीरिया और रशिया के यह हमले उकसाने वाले हैं, ऐसी आलोचना इजराइल के लष्करी अधिकारी ने की थी। उसके बाद इजराइल ने गोलान सीमा इलाके में अपनी हवाई सुरक्षा यंत्रणा सज्ज रखीं हैं।

अगले हफ्ते में इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेत्यान्याहू रशियन राष्ट्राध्यक्ष व्लादिमीर पुतिन से मुलाकात करने वाले हैं। उसके पहले गोलान सीमारेखा के पास स्थित सीरिया की लष्करी चौकियों पर इजराइल ने की कार्रवाई महत्वपूर्ण है।