अमरिका ने ईरान के विरोध में आर्थिक आतंकवाद शुरू किया है – ईरान के विदेशमंत्री ने किया आरोप

तृतीय महायुद्ध, परमाणु सज्ज, रशिया, ब्रिटन, प्रत्युत्तरदमास्कस – अमरिकी राष्ट्राध्यक्ष डोनाल्ड ट्रम्प इन्होंने हाल ही में ईरान की ‘रिव्होल्युशनरी गार्डस्’ को आतंकी घोषित किया था| ट्रम्प इनके इस निर्णय पर अमल शुरू हुआ है और इस पर ईरान ने क्रोध व्यक्त किया है| ईरान की रिव्होल्युशनरी गार्डस्पर प्रतिबंध लगाकर अमरिका ने ईरान के विरोध में आर्थिक आतंकवाद शुरू किया है, यह आरोप ईरान के विदेशमंत्री जावेद झरिफ ने किया| साथ ही ईरान को इन प्रतिबंधों से बाहर निकालने के लिए यूरोपीय देश राजनयिक कोशिश करे, यह निवेदन भी विदेशमंत्री झरिफ ने किया|

ईरान के विदेशमंत्री झरिफ इन्होंने हालही में सीरिया की यात्रा करके राष्ट्राध्यक्ष बशर अल अस्साद और सीरिया के प्रधानमंत्री इमाद खमिस से भेंट की थी| इस दौरान झरिफ और अस्साद ने अमरिका ने ईरान की रिव्होल्युशनरी गार्डस् पर लगाए प्रतिबंधों को लेकर कडी आलोचना की| अमरिका ने ईरान के विरोध में गलत नीति अपनाना जारी रखा है और रिव्होल्युशनरी गार्डस् को आतंकी करार देना यह अमरिका का गैर जिम्मेदाराना निर्णय था, यह फटकार अस्साद ने लगाई|

वही, ईरान के विदेशमंत्री झरिफ ने रिव्होल्युशनरी गार्डस् का समावेश आतंकी संगठनों में करने का निर्णय अमरिका का पागलपन था, यह कहा है| अमरिका के इस निर्णय पर जैसे को तैसा जवाब देने के लिए ईरान ने भी खाडी क्षेत्र में अमरिका की ‘सेंट्रल कमांड’ के सैनिकों को आतंकी घोषित किया है| इस संबंधी प्रस्ताव ईरान की संसद ने हालही में पारित किया| साथ ही ईरान की रिव्होल्युशनरी गार्डस् पर अमरिकाने लगाए प्रतिबंध हटाने के लिए पश्‍चिमी देश राजनयिक गतिविधियां बढाए, यह निवेदन भी झरिफ ने किया है|

पिछले सप्ताह में अमरिकी राष्ट्राध्यक्ष डोनाल्ड ट्रम्प इन्होंने खाडी क्षेत्र में बनी अस्थिरता के लिए ईरान की रिव्होल्युशनरी गार्डस् कारण होने का आरोप जडाकर इस संगठन को आतंकी घोषित किया था| साथ ही इस लष्करी संगठन पर प्रतिबंध लगाने का ऐलान भी उन्होंने किया था| इन अमरिकी प्रतिबंधों का अमल मंगलवार से शुरू हुआ है और उसके झटके ईरान की अर्थव्यवस्था को लगते दिख रहे है| इसी लिए विदेशमंत्री झरिफ ने अमरिकी प्रतिबंधों पर आलोचना करते समय पश्‍चिमी देशों की ओर राजनयिक बातचीत से हल निकालने के विकल्प की मांग रखी दिख रही है| साथ ही ईरान और सीरिया में ईंधन संबंधी व्यवहारों पर भी अमरिकी प्रतिबंधों का असर होने के समाचार सामने आ रहे है|

इस दौरान, अमरिका के कडे प्रतिबंधों के बाद ईरान की ईंधन निर्यात में गिरावट देखी जा रही है और इस का झटका मित्रदेश सीरिया को भी महसूस हो रहा है, यह दावा खाडी क्षेत्र के एक वर्तमान पत्र ने किया है| पिछले छह महीनों से सीरिया को ईरान से ईंधन की आपुर्ति नही हुई है, यह जानकारी इस पत्र ने प्रस्तुत की है| पिछले वर्ष अक्तुबर महीने तक ईरान से हो रही ईंधन की आपुर्ति पर्शियन खाडी से ‘रेड सी’ के रास्ते सुएज कनाल से हो रहा था| लेकिन, अमरिकी प्रतिबंधों के बाद इजिप्ट ने ईरान के ईंधन टैंकरों की सफर पर मर्यादा लगाई है और इसका सबसे अधिक झटका सीरिया को लग रहा है| इस स्थिति से हल निकाल ने के लिए ईरान ने इराक के रास्ते सीरिया तक व्यापारी ढुलाई शुरू करने के लिए गतिविधियां शुरू करने की बात कही जा रही है|