सबसे अधिक सोने का भंडार रखने वाले देशों की सूची में रशिया की पांचवे स्थान पर छलांग – २,१०० टन सोने के साथ चीन को भी पीछे छोडा

Third World Warमॉस्को: अमरिका और युरोपीय देशों के प्रतिबंधों का सामना कर रहे रशिया ने पिछले वर्ष में ऐतिहासिक ‘सुनहरा’ मुकाम दर्ज किया है| वर्ष २०१८ में रशिया के सोने का भंडार २,१०० टन तक जा पहुंचा है| विदेशी मुद्रा भंडार में इस सोने का मुल्य ८७ अरब डॉलर्स होने की बात स्पष्ट हुई है| साथ ही दो हजार टन का स्तर पार करके अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सबसे अधिक सोने के भंडार रखनेवाले देशों की सूची में रशिया ने चीन को पीछे छोडकर पांचवे स्थान पर छलांग लेने की बात भी स्पष्ट हुई है|

अधिक सोने, भंडार, रखने, देशों, सूची, रशिया, पांचवे स्थान, छलांग, २,१०० टन, चीन, पीछे, छोडापिछले कुछ वर्षों में रशिया ने जागतिक अर्थव्यवस्था का अहम हिस्सा रहे अमरिकी डॉलर्स को जाहीर तौर पर चुनौती देना शुरू किया है| कुछ ही महीनों पहले रशिया के राष्ट्राध्यक्ष व्लादिमीर पुतिन इन्होंने अमरिकी डॉलर्स पर बना भरोसा कम हो रहा है, यह वक्तव्य करके ध्यान आकर्षित किया था| साथ ही दुसरी ओर रशिया ने अमरिकी बॉंड की जोरदार बिक्री करके अपने भंडार से डॉलर की तादात कम करने के लिए कदम भी बढाए थे|

वर्ष २०१८ की शुरूआत में रशिया के भंडार में १०० अरब डॉलर्स से भी अधिक अमरिकी बॉंड थे| लेकिन वर्ष के आखिर तक इसमें १० अरब डॉलर्स से भी कम मुल्यों के बॉंड बचे थे| इस दौरान रशिया ने ‘युआन’ और ‘युरो’ के अलावा सोने में निवेश करने का प्रमाण बढाया था, यह भी स्पष्ट हुआ| पिछले हफ्ते में रशियाने ४४ अरब डॉलर्स मुल्य के ‘युरो’ और ‘युआन’ की खरीद करने की जानकारी दी गई थी| इसके साथ ही सोने में किए जा रहे बडे निवेश की जानकारी भी सामने आ रही है और निकट के समय में अमरिकी डॉलर्स का इस्तेमाल रशिया पुरी तरह से बंद करेगा, यह संकेत प्राप्त हो रहे है|

अधिक सोने, भंडार, रखने, देशों, सूची, रशिया, पांचवे स्थान, छलांग, २,१०० टन, चीन, पीछे, छोडारशिया की केंद्रीय बैंक ने दी जानकारी के नुसार, वर्ष २०१८ में रशिया ने कुल २७३.७ टन इतनी बडी तादात में सोने की खरीद की है| एक वर्ष में इतनी बडी तादात में सोने की खरीद करनेवाला रशिया यह पहला देश बना है| इसमें से बडा हिस्सा रशिया से स्थानिय स्तर पर की गई सोने की खरीद का है, यह जानकारी भी बताई जा रही है| सोने का उत्पादन कर रहे देशों की सूची में रशिया तिसरे स्थान पर है और यह बताया जाता है की, वर्ष २०१८ में रशिया ने २७० टन से भी अधिक सोने का उत्पादन किया है| लेकिन इस में से कितने सोने की रशिया ने खरीद की, इस संबंधी जानकारी रशिया की केंद्रीय बैंक ने नही दी है|

२,१०० टन से भी अधिक सोने का भंडार करनेवाला रशिया सोने का सबसे अधिक भंडार रखनेवाले देशों की सूची में पांचवे स्थान पर जा पहुंचा है| फिलहाल अमरिका ८,१०० टन से भी अधिक सोने के भंडार करके इस सूची में पहले स्थान पर है| इसके पीछे जर्मनी, फ्रान्स और इटली ने स्थान बनाया है| १,८४२ टन सोने का भंडार करके चीन इस सूची में छठे स्थान पर है| लेकिन वास्तव में चीन के आरक्षित सोने का भंडार २० हजार टन से भी अधिक होने का दावा कई विश्‍लेषक और तज्ञ करते है|

सोने का रिझर्व्ह भंडार बढाने की इस जानकारी से रशिया की आर्थिक नीति स्पष्ट तौर पर सामने आ रही है| डॉलर का इस्तेमाल रोककर सोना और चीन के ‘युआन’ एवं युरो चलन का इस्तेमाल करके अमरिका को झटका देने की कोशिश में रशिया है| इस कोशिश को चीन का पुख्ता समर्थन है और ‘रशिया-चीन’ का यह गठबंधन अमरिका के वर्चस्व को झटका देकर अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था में खलबली मचाएगा, ऐसे संकेत प्राप्त हो रहे है|