कडे संघर्ष के दौरान लीबिया में सियासी गतिविधियां तेज

Third World Warत्रिपोली: लीबिया में शुरू संघर्ष अब तक १५० लोगों की मृत्यु हुई है और सरकार के विरोध में बागियों ने राजधानी त्रिपोली पर हवाई हमलों की तादाद बढाई है| ऐसे में जवाब में लीबिया सरकार समर्थक सेना ने बागियों का लडाकू विमान गिराया है| इस वजह से राजधानी त्रिपोली में शुरू संघर्ष तीव्र होने की संभावना जताई जा रही है| बागी नेता ‘जनरल खलिफा हफ्तार’ ने इजिप्ट की यात्रा करके राष्ट्राध्यक्ष ‘अल सिसी’ से भेंट की| तभी त्रिपोली में लीबिन सरकार की हुकूमत आगे भी कायम रहेगी, यह दावा लिबियन नेता कर रहे है|

कडे संघर्ष, लीबिया, सियासी गतिविधियां, तेज, त्रिपोली, इजिप्टलीबिया में अंतरराष्ट्रीय समुदाय की मंजुरी प्राप्त ‘गव्हर्नमेंट ऑफ नैशनल अकॉर्ड’ (जीएनए) के साथ निष्ठावान रही सेना और जनरल हफ्तार समर्थक ‘लीबियन नैशनल आर्मी’ (एलएनए) के बागियों में शुरू संघर्ष राजधानी त्रिपोली तक जा टकराया है| इस संघर्ष की वजह से त्रिपोली में १५ हजार लोग विस्थापित हुए है और ‘एलएनए’ के बागी वहां पर पाठशाला और महाविद्यालयों के इमारतों पर हमलें कर रहे है| इन इमारतों में पनाह लेनेवाले विस्थापितों की सुरक्षा के लिए ‘जीएनए’ की सेना ने विमान विरोध तोंपों से हमला करके ‘एलएनए’ का एक विमान गिराया है|

त्रिपोली पर कब्जा करने के लिए सेना और बागियों में हो रहा यह संघर्ष तीव्र हो रहा है और अफ्रीका में ‘और एक सीरिया’ तैयार हो रहा है, यह दावा इटली की सुरक्षा यंत्रणा ने किया| लीबिया का यह संघर्ष समय पर रोका नही तो सीरिया की तरह दुबारा हजारों शरणार्थि समुद्र के रास्ते यूरोप पहुंचेंगे, यह चेतावनी इटली की सुरक्षा यंत्रणाओं ने दी है|

कडे संघर्ष, लीबिया, सियासी गतिविधियां, तेज, त्रिपोली, इजिप्टइटली की सुरक्षा यंत्रणा यह चेतावनी दे रही है, तभी लीबियन बागी नेता ‘जनरल हफ्तार’ ने रविवार के दिन इजिप्ट की यात्रा की| इस दौरान जनरल हफ्तार ने राजधानी कैरो में इजिप्ट के राष्ट्राध्यक्ष ‘सिसी’ से भेंट की| इस दौरान इजिप्ट के राष्ट्राध्यक्ष ने लीबिया के संघर्ष में जनरल हफ्तार का समर्थन करने का ऐलान किया| साथ ही सौदी अरब और संयुक्त अरब अमिराती के नेताओं का भी इजिप्ट को समर्थन होने की जानकारी सामने आ रही है| पिछले महीने में हफ्तार ने सौदी की यात्रा करके राजा सलमान से भेंट की थी| इस दौरान सौदी ने हफ्तार की ‘एनएनए’ संगठन की आर्थिक सहायता करने का दावा भी हो रहा है|

इस दौरान, लीबिया के ‘एलएनए’ के बागियों को अरब देशों का समर्थन प्राप्त हो रहा है तभी ‘जीएनए’ के नेताओं ने उन्हें अमरिका एवं मित्रदेशों का समर्थन होने का दावा किया है| राजधानी त्रिपोली में अमरिका और भारत का प्रभाव है और इसके आगे भी प्रधानमंत्री ‘अल सराज’ इनकी सरकार लीबिया में सरकार बनाएगी, यह दावा एक लीबियन नेता ने किया है|