युरोप का इस्लामीकरण शुरू रहा तो जर्मनी की भी युरोपिय महासंघ से ‘एक्जिट’ – ‘अल्टरनेटिव्ह फॉर जर्मनी’ की चेतावनी

Third World Warबर्लिन: इस्लाम धर्म देश को धर्म से अलग मानता नही और इस वजह से वह राजनीतिक विचारधारा का हिस्सा साबित होता है| युरोप में सभी देशों ने एक होकर कोशिश की तो युरोप का इस्लामीकरण रोकना मुमकिन होगा| युरोप में कई लोग इस्लाम का खतरा स्वीकार ने के लिए तैयार नही, लेकिन यह खतरा बढ रहा है और फिलहाल युरोप के लिए सबसे बडा खतरा हो सकता है, यह दावा करके युरोप का इस्लामीकरण ऐसा ही शुरू रहा तो आने वाले कुछ वर्षों में जर्मनी भी महासंघ से ‘एक्जिट’ करने के लिए कदम बढाएगा, यह चेतावनी ‘अल्टरनेटिव्ह फॉर जर्मनी’ (एएफडी) इस पक्ष ने दी है|

युरोप, इस्लामीकरण, शुरू, रहा, जर्मनी, युरोपिय महासंघ, एक्जिट, अल्टरनेटिव्ह फॉर जर्मनी, चेतावनीमई महीने में युरोपीय संसद का चुनाव होगा और इस पृष्ठभुमि पर जर्मनी में दक्षिणी एवं राष्ट्रवादी विचारधारा का गुट के तौर पर जाने जा रहे ‘एएफडी’ ने अपना जाहीरनामा प्रसिद्ध किया| इस जाहीरनामा में युरोपीय महासंघ की कार्यपद्धती पर जोरदार आलोचना की गई है और इस्लामीकरण और जर्मनी के ‘एक्जिट’ के मुद्दे का अहमियत से जिक्र किया गया है|

युरोपिय महासंघ लोकतंत्र विरोधी यंत्रणा बनी है और इसपर विशेष राजनीतिक वर्ग का नियंत्रण है| महासंघ की नीति अनियंत्रित एवं पुराने विचारधारा की नोकरशाही निश्‍चित करती है| युरोपीय महासंघ की कथित लोकतंत्र वादी उपक्रमों पर जरूरी नियंत्रण नही रहा| युरोपीय न्यायालय अपना कार्य सही तरिके से निभाते नही, बल्कि युरोपीय देशों की सार्वभौमत्वपर प्रहार करके महासंघ के अधिकार जबरन लगाए जा रहे है, यह दावा ‘एएफडी’ ने किया|

युरोप, इस्लामीकरण, शुरू, रहा, जर्मनी, युरोपिय महासंघ, एक्जिट, अल्टरनेटिव्ह फॉर जर्मनी, चेतावनीउसी समय युरोप के बढते इस्लामीकरण के खतरे की ओर ध्यान आकर्षित करके युरोप के मूल में ग्रीक एवं रोमन संस्कृति, ज्यू और ख्रिश्‍चन धर्म और मानवाधिकार की नींव है, इसका एहसास ‘एएफडी’ ने अपने घोषणापत्र में कराया है| युरोप का यही अस्तित्व वर्तमान और अगली पीढी के लिए बरकरार रखने की इच्छा व्यक्त करके ‘एएफडी’ युरोप का इस्लाम से बचाव करने के लिए कोशिश करेगा, यह दावा भी किया गया है| इस्लाम का तत्व युरोप का कानून, आजादी एवं लोकतंत्र जैसे तत्वों से मेल नही करता, इस ओर भी ‘एएफडी’ ने ध्यान आकर्षित किया|

युरोपीय महासंघ की अनियंत्रित व्यवस्था और बढता इस्लामीकरण इनका मुकाबला करना जरूरी है और अगले पांच वर्ष में यदि इस मुद्दे पर सुधार नही किया गया तो, जर्मनी महासंघ से ‘एक्जिट’ करे इस लिए ‘एएफडी’ भूमिका निभायेगा, यह घोषणापत्र में स्पष्ट किया गया है| ‘एएफडी’ ने इसके पहले भी जर्मनी ‘युरो’ का इस्तेमाल कर रहे युरोपीय देशों की गुट से बाहर हो, यह मांग भी रखी थी|

फिलहाल ‘एएफडी’ जर्मनी में प्रमुख विपक्ष है और २०१७ में हुए चुनाव में इस पक्ष को १२ प्रतिशत से अधिक मत प्राप्त हुए थे| जर्मनी में सभी १६ प्रांतों के विधिमंडल में इस पक्ष को प्रतिनिधित्व प्राप्त हुआ है और इसे मिल रहे समर्थन बढ रहा है, यही पिछले सालभर में हुए सर्वे से स्पष्ट हुआ है| इस वजह से ‘एएफडी’ ने जर्मनी की महासंघ से ‘एक्जिट’ को लकर अपनाई भूमिका ध्यान आकर्षित कर रही है|