समय की करवट (भाग ६३) – ….और सुएज़ नहर जलने लगी!

समय की करवट (भाग ६३) – ….और सुएज़ नहर जलने लगी!

‘समय की करवट’ बदलने पर क्या स्थित्यंतर होते हैं, इसका अध्ययन करते हुए हम आगे बढ़ रहे हैं। इसमें फिलहाल हम, १९९० के दशक के, पूर्व एवं पश्चिम जर्मनियों के एकत्रीकरण के बाद, बुज़ुर्ग अमरिकी राजनयिक हेन्री किसिंजर ने जो यह निम्नलिखित वक्तव्य किया था, उसके आधार पर दुनिया की गतिविधियों का अध्ययन कर रहे […]

Read More »

अरबपति जॉर्ज सोरोस की ‘सेंट्रल युरोपियन युनिव्हर्सिटी’ हंगेरी से निष्कासित

अरबपति जॉर्ज सोरोस की ‘सेंट्रल युरोपियन युनिव्हर्सिटी’ हंगेरी से निष्कासित

बुडापेस्ट: सोविएत संघराज्य के विघटन के बाद हंगेरी में स्थापित की गई ‘सेंट्रल युरोपियन युनिव्हर्सिटी’ को आखिरकार निष्कासित किया गया है| अरबपति व्यवसायी ‘जॉर्ज सोरोस’ इनकी ‘ओपन फाऊंडेशन’ ने इस विद्यापीठ की स्थापना की थी| लेकिन हंगेरी के प्रधानमंत्री व्हिक्टर ऑर्बन इन्होंने, सोरोस इनकी कार्रवाईयों के विरोध में शुरू की मुहीम के अंतर्गत ‘सेंट्रल युरोपियन […]

Read More »

‘आइएनएफ’ से वापसी करने के बाद; अमरिकी मिसाईलों की युरोप में तैनाती रशिया के लिये खतरा – रशिया के उपविदेशमंत्री की चेतावनी

‘आइएनएफ’ से वापसी करने के बाद; अमरिकी मिसाईलों की युरोप में तैनाती रशिया के लिये खतरा – रशिया के उपविदेशमंत्री की चेतावनी

मास्को – ‘आइएनएफ ट्रिटी’ से वापसी करने के बाद अमरिका ने युरोप में ‘इंटर्मीडीएट’ प्रक्षेपास्त्र युरोप में तैनात किये तो उसका इस्तमाल रशिया के उपर हमला करने के लिये हो सकता है| यह तैनाती हुई तो उसे जवाब देने के लिये रशिया को आक्रामकता से कदम उठाने होगे, यह चेतावनी रशिया के उपविदेशमंत्री सर्जेई रिबकोव्ह इन्होंने […]

Read More »

समय की करवट (भाग ६२) – वॉर्सा पॅक्ट, हंगेरी और आगे….

समय की करवट (भाग ६२) – वॉर्सा पॅक्ट, हंगेरी और आगे….

‘समय की करवट’ बदलने पर क्या स्थित्यंतर होते हैं, इसका अध्ययन करते हुए हम आगे बढ़ रहे हैं। इसमें फिलहाल हम, १९९० के दशक के, पूर्व एवं पश्चिम जर्मनियों के एकत्रीकरण के बाद, बुज़ुर्ग अमरिकी राजनयिक हेन्री किसिंजर ने जो यह निम्नलिखित वक्तव्य किया था, उसके आधार पर दुनिया की गतिविधियों का अध्ययन कर रहे […]

Read More »

समय की करवट (भाग ६१) – चिनी ड्रॅगन के प्रथम ही दिखायी दिये नाखून

समय की करवट (भाग ६१) – चिनी ड्रॅगन के प्रथम ही दिखायी दिये नाखून

‘समय की करवट’ बदलने पर क्या स्थित्यंतर होते हैं, इसका अध्ययन करते हुए हम आगे बढ़ रहे हैं। इसमें फिलहाल हम, १९९० के दशक के, पूर्व एवं पश्चिम जर्मनियों के एकत्रीकरण के बाद, बुज़ुर्ग अमरिकी राजनयिक हेन्री किसिंजर ने जो यह निम्नलिखित वक्तव्य किया था, उसके आधार पर दुनिया की गतिविधियों का अध्ययन कर रहे […]

Read More »

समय की करवट (भाग ६०) – ‘कोल्ड़ वॉर इन ऑटो मोड़’

समय की करवट (भाग ६०) – ‘कोल्ड़ वॉर इन ऑटो मोड़’

‘समय की करवट’ बदलने पर क्या स्थित्यंतर होते हैं, इसका अध्ययन करते हुए हम आगे बढ़ रहे हैं। इसमें फिलहाल हम, १९९० के दशक के, पूर्व एवं पश्चिम जर्मनियों के एकत्रीकरण के बाद, बुज़ुर्ग अमरिकी राजनयिक हेन्री किसिंजर ने जो यह निम्नलिखित वक्तव्य किया था, उसके आधार पर दुनिया की गतिविधियों का अध्ययन कर रहे […]

Read More »

समय की करवट (भाग ५९) – कोरियन युद्ध और कोल्ड़ वॉर

समय की करवट (भाग ५९) – कोरियन युद्ध और कोल्ड़ वॉर

‘समय की करवट’ बदलने पर क्या स्थित्यंतर होते हैं, इस का अध्ययन करते हुए हम आगे बढ़ रहे हैं। इस में फिलहाल हम, १९९० के दशक के, पूर्व एवं पश्चिम जर्मनियों के एकत्रीकरण के बाद, बुज़ुर्ग अमरिकी राजनयिक हेन्री किसिंजर ने जो यह निम्नलिखित वक्तव्य किया था, उस के आधार पर दुनिया की गतिविधियों का […]

Read More »

समय की करवट (भाग ५८) – कोल्ड़ वॉर की अगली चाल – कोरियन युद्ध

समय की करवट (भाग ५८) – कोल्ड़ वॉर की अगली चाल – कोरियन युद्ध

‘समय की करवट’ बदलने पर क्या स्थित्यंतर होते हैं, इस का अध्ययन करते हुए हम आगे बढ़ रहे हैं। इस में फिलहाल हम, १९९० के दशक के, पूर्व एवं पश्चिम जर्मनियों के एकत्रीकरण के बाद, बुज़ुर्ग अमरिकी राजनयिक हेन्री किसिंजर ने जो यह निम्नलिखित वक्तव्य किया था, उस के आधार पर दुनिया की गतिविधियों का […]

Read More »

समय की करवट (भाग ५७) – प्रॉक्सी वॉर्स

समय की करवट (भाग ५७) – प्रॉक्सी वॉर्स

‘समय की करवट’ बदलने पर क्या स्थित्यंतर होते हैं, इस का अध्ययन करते हुए हम आगे बढ़ रहे हैं। इस में फिलहाल हम, १९९० के दशक के, पूर्व एवं पश्चिम जर्मनियों के एकत्रीकरण के बाद, बुज़ुर्ग अमरिकी राजनयिक हेन्री किसिंजर ने जो यह निम्नलिखित वक्तव्य किया था, उस के आधार पर दुनिया की गतिविधियों का […]

Read More »

समय की करवट (भाग ५६) – वक़्त वक़्त की बात!

समय की करवट (भाग ५६) – वक़्त वक़्त की बात!

‘समय की करवट’ बदलने पर क्या स्थित्यंतर होते हैं, इस का अध्ययन करते हुए हम आगे बढ़ रहे हैं। इस में फिलहाल हम, १९९० के दशक के, पूर्व एवं पश्चिम जर्मनियों के एकत्रीकरण के बाद, बुज़ुर्ग अमरिकी राजनयिक हेन्री किसिंजर ने जो यह निम्नलिखित वक्तव्य किया था, उस के आधार पर दुनिया की गतिविधियों का […]

Read More »
1 2 3 9