साउथ चाइना सी में अमरिकी बॉम्बर के गश्ती के बाद – चीन के विध्वंसक से मिसाइल का परीक्षण

तृतीय महायुद्ध, परमाणु सज्ज, रशिया, ब्रिटन, प्रत्युत्तर

बीजिंग – पिछले हफ्ते में साउथ चाइना सी के हवाई सीमा से गश्ती करनेवाले अमरिका के बी-५२ बॉम्बर विमान को चीन ने छह बार चेतावनी देकर वापसी करने के लिए कहा था। चीन के इन चेतावनी के बाद भी अमरिका के बॉम्बर ने गश्ती शुरू रखी। पर अमरिकी बॉम्बर के वापसी के बाद चीन ने अपने विध्वंसक से मिसाइल प्रक्षेपित करके अमरिका को चेतावनी देने की बात उजागर हुई है। साथ ही इस सागरी क्षेत्र में अमरिका एवं जापान के मिसाइल हमलो को प्रत्युत्तर देने के लिए चीन ने बड़ा युद्धाभ्यास का आयोजन किया है।

पीपल्स लिबरेशन आर्मी ने अपने नौसेना के लगभग १० विध्वंसक को साउथ चाइना सी में रवाना किया है। इस दौरान हवाई हमलों का मुकाबला करने का युद्धाभ्यास हुआ है, ऐसा चीन के वृत्तपत्र में प्रसिद्ध किया है। यह विध्वंसक विमानभेदी तथा विध्वंसक भेदी मिसाइलों से सज्ज होने का दावा किया जाता है। चीन के पड़ोसी खतरनाक गतिविधियां बढ़ाते समय इन मिसाइलों के परीक्षण होना आवश्यक था, ऐसा चीन में लष्करी विश्लेषक सॉन्ग झौंगपिंग ने चीन के सरकारी मुखपत्र से बोलते हुए स्पष्ट किया है।

साथ ही चीन के नौदल ने ईस्ट चाइना सी के सागरी क्षेत्र में बड़े युद्धाभ्यास का आयोजन किया है। अमरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया इन देशों की अपनी सागर क्षेत्र में गतिविधियां खतरनाक रूप से बढ़ने का दावा करके चीन ने इस युद्धाभ्यास का आयोजन करने की जानकारी सामने आ रही है। पिछले महीने में इन तीनो देशो के साथ युद्ध भड़का तो उनके मिसाइल हमलो को जवाब देने के लिए यह युद्धाभ्यास का आयोजन किया है और इसमें शत्रु के विध्वंसक को जल समाधि देने का अभ्यास किया जाएगा। इसके लिए जमीन के साथ हवा से तथा सागरी मार्ग से हमला किया जाएगा ऐसी जानकारी चीन के मुखपत्र ने दी है।

दौरान साउथ चाइना सी में चीन की आक्रामकता बढ़ने का आरोप फिलिपाईन्स ने किया है। इस सागरी क्षेत्र से यात्रा करनेवाले उत्तर पूर्व एशियाई देश तथा अन्य देशों के विमान एवं जहाजों को चीन से प्रतिदिन धमकी मिलने का आरोप फिलिपाईन्स से किया है। फिलिपाईन्स के विमान प्रतिदिन ३ बार इस सागरी क्षेत्र से यात्रा करते हैं। तथा इन तीनों ही बार चीन से धमकी दी जाने की आलोचना चीन के रक्षा दल प्रमुख ने की है।

पिछले कई हफ्तों से साउथ चाइना सी में चीन के बढ़ते आक्रमकता के विरोध में फिलिपाईन्स उजागर तौर पर नाराजगी व्यक्त कर रहे हैं। फिलिपाईन्स के राष्ट्राध्यक्ष दुअर्ते ने चीन को सूचना दी है। कृत्रिम द्वीप का निर्माण करके चीन इस सागरी क्षेत्र पर दावा नहीं कर सकता। क्योंकि यह अंतर्राष्ट्रीय सागरी क्षेत्र है, ऐसी चेतावनी राष्ट्राध्यक्ष दुअर्ते ने दी है। पिछले हफ्ते में फिलिपाईन्स ने २ अंतर्राष्ट्रीय वृत्त माध्यम के प्रतिनिधियों को अपने विमान में बिठाकर इस सागरी क्षेत्र की यात्रा कराई थी एवं चीन के दोगले बर्ताव का पर्दाफाश किया था। इसकी वजह से भड़के हुए चीन ने फिलिपाईन्स को गंभीर परिणामों की धमकी दी थी। उसके बाद फिलिपाईन्स के राष्ट्राध्यक्ष ने चीन को सूचित किया है और इस पर प्रतिक्रिया उमड़ सकती है।