जर्मनी में आतंकवादी, कट्टरपंथियों को आयात करने वाले चांसलर मर्केल इस्तीफा दे

अल्टरनेटिव फॉर जर्मनी पक्ष की संसद में मांग

तृतीय महायुद्ध, परमाणु सज्ज, रशिया, ब्रिटन, प्रत्युत्तर

बर्लिन – जर्मनी में घुसनेवाले लाखों अवैध घुसपैठ शरणार्थियों पर किसी भी प्रकार का नियंत्रण रखते हुए आपने इस देश का जबरदस्त नुक्सान किया है। शरणार्थियों की धारणा एवं सामाजिक लाभ में किए गए व्यवहारों की वजह से भविष्य में जर्मनी को अरबों रुपयों का झटका लग सकता है। अवैध शरणार्थियों के माध्यम से अपने देश में खतरनाक कट्टरपंथी, आतंकवादी, खून एवं बलात्कारियों को आयात किया है। मैत्रीपूर्ण चेहरा सामने रखकर किए इन बातों की कितनी भयानक कीमत चुकती करनी होगी, ऐसे शब्दों में चांसलर मर्केल इनपर कड़े आरोप करते हुए अल्टरनेटिव और जर्मनी के पक्ष ने मर्केल से संसद के इस्तीफा की मांग की है।

चांसलर मर्केल

जर्मन संसद में हुए सत्र में एएफडी के नेता गौटप्राइस कुरियो ने चांसलर मर्केल पर उजागर तौर पर इस्तीफा कब देंगे, ऐसा सवाल किया है। एएफडी के साथ संसद में अन्य पक्षों ने भी चांसलर मर्केल इनके शरणार्थियों के मुद्दे पर निशाना साधते हुए, उन्हें तकलीफ में लाने का प्रयत्न किया है। चांसलर एंजेला मर्केल ने सन २०१५ में शरणार्थियों के लिए ओपन डोर पॉलिसी घोषित करने के बाद देश में बड़ी तादाद में शरणार्थियों के झुंड घुसे थे।

मर्केल इनके ओपन डोर पॉलिसी की वजह से देश में १० लाख से अधिक शरणार्थी दाखिल हुए हैं और उसमें अधिकतम शरणार्थी गैर कानूनी रूप से घुसपैठ करते सामने पाए गए हैं। उसमें अधिक तादाद में कट्टरपंथियों तथा आयएस के समर्थक का समावेश होनेवाले जर्मनी तथा यूरोपीय यंत्रणा के रिपोर्ट से सामने आया था। जर्मनी में घुसे हुए इन शरणार्थियों की वजह से देश के अपराध का प्रमाण बढ़ने की बात उजागर हुई है। इसकी वजह से स्थानीय जनता में शरणार्थियों के विरोध में असंतोष लगातार बढ़ता जा रहा है और कई महीनों पहले मर्केल ने अपनी धारणा गलत होने का इकबालिया बयान दिया था।

कई दिनों पहले जर्मन यंत्रणा के अंतर्गत रिपोर्ट में लाखों अवैध शरणार्थी ने जर्मनी में घुसपैठ करने के संकेत मिले थे। इस मुद्दे पर शरणार्थियों के धारणा के बारे में जांच हो, ऐसी आग्रही मांगे एएफडी तथा फ्री डेमोक्रेट्स इस पक्ष से की गई थी। संसद में इस मुद्दे पर चांसलर मर्केल को लक्ष्य करके सीधे इस्तीफे की मांग होना यह बात ध्यान केंद्रित करने वाले ठहरी है।

बांगलादेश में हुए आतंकी हमले के पिछे ‘आयएसआय’
‘आयएस’ ने इराक के ‘मोसूल’ को नरक बनाया है : अमरीका के इराक़ कमांड प्रमुख का दावा
‘उत्तर कोरिया सीरिया और अफगानिस्तान हमलों से सबक सीखें’ : अमरीका के उपराष्ट्राध्यक्ष माईक पेन्स
सईद के खिलाफ भारत अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय में जाए- पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने उकसाया
बेलगाम चीन की आक्रमकता को रोकने के लिए दूसरे महायुद्ध के बाद पहली बार जापान की मरीन फोर्स सक्रिय - ए...
अमरिका ने ‘आईएस’ की चंगुल से बचाए हुए देशों से ‘थैंक यू’ नहीं आया - राष्ट्राध्यक्ष डोनाल्ड ट्रम्प का...
सीरिया में अमरिका के सैनिकों की जगह अरब देशों के संयुक्त लष्कर ने लेनी चाहिए - अमरिकी राष्ट्राध्यक्ष...
सलाखों में जकडा सैतान मृत्यु के समिप हो तब भी सैतान के चंगुल में कभी भी मत फँसना - पोप फ्रांसिस का आ...

Leave a Reply

Your email address will not be published.