जम्मू कश्मीर में संघर्ष विराम वापस लेने के बाद ४ आतंकवादी ढेर

जम्मू – सरकार ने जम्मू-कश्मीर में संघर्ष विराम वापस लेने की घोषणा करने के बाद दूसरे ही दिन सेना ने चार आतंकवादियों को ढेर किया है। राज्य के बांदीपुरा जिले में यह कार्रवाई की गई है। शहीद जवान औरंगजेब कि आतंकवादियों ने हत्या की थी, उसका बदला लेने की मांग जम्मू कश्मीर की जनता कर रही है। इस पृष्ठभूमि पर सेना ने यह कार्रवाई करके उस का महत्व बढ़ाया है।

बांदीपुरा

इस्लाम धर्मियों लोगों का पवित्र रमजान महीना में जम्मू कश्मीर में आतंकवादियों के विरोध में शुरू ऑपरेशन ऑलआउट रोका गया था। पर ऑपरेशन ऑलआउट फिर से जोरदार शुरू हुआ है। संघर्षबंदी पीछे लेने की घोषणा होते ही कुछ ही घंटों में सेना ने चार आतंकवादियों को ढेर करके आतंकवादी संगठन को कड़ी चेतावनी दी है।

बांदीपुरा के पानार भाग में आतंकवादी छुपने की जानकारी सेना को मिली थी। उसके बाद सेना के पैराकमांडो विशेष पथक के साथ अन्य राइफल डिवीजन के जवानों ने संयुक्त ऑपरेशन किया था। इस भाग में व्यापक जांच मुहिम शुरू की गई थी। उसी समय आतंकवादी एवं सुरक्षा दल में मुठभेड़ हुई और इस मुठभेड़ में चार आतंकवादियों को ढेर किया गया है।

इस भाग में जंगल में अधिक १० से १२आतंकवादी छुपकर बैठने की आशंका व्यक्त की जा रही है। इसकी वजह से यह अधिक बड़ी तादाद में जांच मुहिम शुरू हुई है। पिछले महीने में बड़े तादाद पर आतंकवादी कार्यवाहियां बढ़ने की बात सामने आई थी। आतंकवादी कार्यवाहियों के ६६घटनाए दर्ज हुई है। तथा आतंकवादी संघटना में भर्ती भी बढ़ी थी।

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार, आयबी और सेना ने दिए रिपोर्ट के बाद केंद्रीय गृह मंत्रालय ने संघर्ष विराम वापस लिया है। दौरान लष्कर प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने शहीद जवान औरंगजेब उनके परिवार की भेंट लेकर उनका मनोबल बढ़ाया है। औरंगजेब इसकी हत्या का बदला लेने की मांग उसके वालिद कर रहे हैं। तथा सेना में भर्ती हुए अपने भाई की हत्या का बदला लेने की घोषणा उसके छोटे भाई ने की है। औरंगजेब इसके परिवार के अधिक लोग देश की सेवा में होने की बात कही जा रही है।