चीन के महत्वाकांक्षी ओबीओआर योजना को झटका देने के लिए अमरिका से इंटरनेशनल डेवलपमेंट फाइनेंस कॉरपोरेशन की स्थापना

Third World Warवॉशिंग्टन – चीन के राष्ट्राध्यक्ष शी जिनपिंग इनके महत्वाकांक्षी वन बेल्ट वन रोड को एक के पीछे एक झटके लगते समय अमरिका ने उसके विरोध में एक नया संगठन शुरू किया है। अमरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने हालही में बिल्ड एक्ट २०१८ पर हस्ताक्षर करके इंटरनेशनल डेवलपमेंट फाइनेंस कॉरपोरेशन के निर्माण की घोषणा की है। यह यंत्रणा विकसनशील देशों को वित्त सहायता कर रहा है और इसके लिए ६० अरब डॉलर्स का प्रावधान किया जा रहा है।

चीन के वन बेल्ट वन रोड को पिछले कई महीनों में एक के पीछे एक झटके लगते दिखाई दे रहे हैं। यूरोप अफ्रीका, आशिया एवं पश्चिमी क्षेत्र में लगभग ३० से अधिक देशों ने ओबीओआर अंतर्गत होने वाले प्रकल्प स्थगित तथा रद्द करने का निर्णय लिया है। उसमें पूर्व यूरोपीय देशों के साथ जांबिया, मलेशिया, श्रीलंका, पाकिस्तान जैसे चीन के सहयोगी के तौर पर पहचाने जाने वाले देशों का समावेश है।

चीन के प्रकल्प की व्याप्ति इस बारे में और पारदर्शिता और कर्ज का बोझ इसकी वजह से ओबीओआर को होने वाला विरोध तीव्र हो रहा है और उसकी वजह से उसके समर्थन के लिए चीन को प्रयत्न करने पड़ रहे हैं। चीन को झटके लगते समय अमरिका, जापान, ऑस्ट्रेलिया, भारत इन देशों ने चीन के महत्वाकांक्षी योजना को नियंत्रित करने के लिए जोरदार गतिविधियां शुरू की है। भारत ने एक्ट ईस्ट पॉलिसी की सहायता से आग्नेय आशिया सी देशों को सहायता शुरू की है।

इंटरनेशनल डेवलपमेंट फाइनेंस कॉरपोरेशन, स्थापना, वन बेल्ट वन रोड, प्रकल्प, सहायता, चीन, अमरिका, जापानउस समय अमरिका, ऑस्ट्रेलिया और जापान ने संयुक्त तथा स्वतंत्र स्तर पर अलग-अलग योजना घोषित करना शुरू किया है। कुछ महीनों पहले अमरिका के विदेश मंत्री माइक पॉम्पिओ ने आग्नेय आशिया के दौरे पर होते समय अतिरिक्त वित्त सहायता की घोषणा की थी। उसके बाद अमरिका, जापान एवं ऑस्ट्रेलिया ने संयुक्त निवेदन देकर आशिया एवं आशियाई क्षेत्र में देश के लिए मूलभूत सुविधा तथा निवेश क्षेत्र के लिए स्वतंत्र उपक्रम शुरू करने की घोषणा की थी।

जापान ने भी ऑस्ट्रेलिया तथा न्यूजीलैंड को साझेदारी का प्रस्ताव लेकर चीन को रोकने के लिए गतिविधियां शुरू की है। इस पृष्ठभूमि पर अमरिकी राष्ट्राध्यक्ष की नई यंत्रणा निर्माण करने के बारे में हुई घोषणा ध्यान केंद्रित करने वाली ठहरी है। अमरिका ने स्थापित किए यूएस इंटरनेशनल डेवलपमेंट फाइनेंस कॉरपोरेशन इससे पहले कार्यरत होने वाले ओवरसीज प्राइवेट इन्वेस्टमेंट कॉरपोरेशन की नई आवृत्ति मानी जा रही है। पर पुरानी यंत्रणा की तुलना में नई यंत्रणा को अधिक निधि अधिकार और सहूलियत दी गई है।

राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प ने सूत्र स्वीकार ने के बाद अमरिका से अन्य देशों को दिए जाने वाली सहायता में कटौती की भूमिका ली गई थी। पर यूएस इंटरनेशनल डेवलपमेंट फाइनेंस कॉरपोरेशन की स्थापना ट्रम्प इनके चीन विरोधी आक्रामक धारणा का भाग होने के संकेत निकटवर्तीयों से दिए जा रहे हैं। यह यंत्रणा प्रमुख तौर पर अफ्रीका एवं आशियाई देशों पर ध्यान केंद्रित करने वाली होकर चीन के प्रकल्प को मात देने के लिए वित्त सहायता का उपयोग किया जाएगा ऐसा कहा जा रहा है।