रशिया की दो विनाशिकाएँ सीरिया के लिए रवाना

मॉस्को/दमास्कस: सीरिया में अमरिका-ब्रिटन-फ़्रांस ने किए हमले को प्रत्युत्तर देने के लिए रशिया ने अपनी लष्करी गतिविधियों को तेज किया है। पिछले हफ्ते रशिया ने दो अतिरिक्त जंगी जहाज और और हथियारों का भंडार सीरिया में भेजने की खबर प्रसिद्ध हुई थी। उसके बाद फिरसे रशिया ने अपनी दो विनाशिकाओं को सीरिया की दिशा में भेजा है। इस नई गतिविधि की वजह से रशिया ने लष्करी कार्रवाई के विकल्प को अभी तक खुला रखने के संकेत मिल रहे हैं।

रशिया, दो विनाशिकाएँ, सीरिया, रवाना, हमले को प्रत्युत्तर, मॉस्को, दमास्कस, अमरिकारशिया ने अपनी ‘८६८ पिटलिव्हि’ और ‘८७० स्मेटलिव्हि’ इन दो विनाशिकाओं को सीरिया के ‘तार्तूस’ मे तैनाती के लिए भेजा है। ‘पिटलिव्हि’ यह ३००० टन वजन की ‘एम क्लास गायडेड मिसाइल’ विनाशिका है और ‘अँटी सबमरिन वॉरफेअर’ के लिए प्रभावी जंगी जहाज के तौर पर पहचाना जाती है। इसके अलावा इस विनाशिका पर ४० विमानभेदी मिसाइलें भी तैनात हैं।‘स्मेटलिव्हि’ इस ‘काशिन क्लास’ विनाशिका पर ‘गायडेड क्रूझ मिसाइल्स’ तैनात हैं और उसमें लड़ाकू विमानों को गिराने की क्षमता है।

रशिया ने पिछले दो सालों में सीरिया में १०००० से अधिक सैनिक तैनात किए हैं। ‘तार्तूस’ और ‘खेमिम’ में रक्षातल भी कार्यरत है। इन अड्डों के साथ साथ ‘एस-४००’ और ‘एस-३३०’ यह प्रगत मिसाइल भेदी यंत्रणा, प्रगत जंगी जहाज, विनाशिकाएं और पनडुब्बियां भी तैनात हैं। उसके बाद पिछले हफ्ते रशिया ने दो जंगी जहाज सीरिया में भेजे थे।इन जंगी जहाजों पर बड़े पैमाने पर हथियारों का भंडार भी भेजा गया था। ‘प्रोजेक्ट ११७ अॅलिगेटर क्लास’ और ‘रो रो अलेक्झांडर कॅशेन्को’ नाम के इस जंगी जहाज पर टैंक, सशस्त्र वाहन, हायस्पीड पेट्रोल बोट्स, ‘आईडी रडार’ का समावेश था।

अमरिका, ब्रिटन और फ़्रांस ने किए हमलों के बाद रशिया ने सीरिया को अतिरिक्त रक्षा सहायता देने की घोषणा की है और उसमें प्रगत ‘एस-३००’ ‘मिसाइल डिफेन्स’ यंत्रणा का समावेश है।