प्रधानमंत्री मोदी और रशियन राष्ट्राध्यक्ष के बीच फोन से चर्चा

नई दिल्ली – रशिया के राष्ट्राध्यक्ष व्लादिमीर पुतिन इन्होंने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इनसे फोन से बातचीत करने का वृत्त है| इस चर्चा के पूरे मुद्दे अभी हाथ नही आए है, फिर भी अहम द्विपक्षीय मुद्दों के साथ अंतरराष्ट्रीय प्रश्‍नों पर यह चर्चा होने की बात कही जा रही है| इस चर्चा में आतंकियों के विरोधी कार्रवाई का मुद्दा शीर्ष पायदान पर रहा, यह जानकारी दी जा रही है| सितंबर महीने में रशिया में ‘ईस्टर्न इकॉनॉमिक फोरम’ का आयोजन होना है| रशियन राष्ट्राध्यक्ष ने इस परिषद का न्योता प्रधानमंत्री मोदी को दिया है|

इस चर्चा के शुरूआत में दोनों नेताओं ने एकदुसरे को नए साल की बधाई दी| साथ ही इस वर्ष भारत में होने वाले चुनाव के लिए रशियन राष्ट्राध्यक्ष ने प्रधानमंत्री मोदी इन्हें शुभकामनाएं देने का वृत्त है| भारत और रशिया के बीच द्विपक्षीय सहयोग के कई मुद्दों पर दोनों नेताओं में चर्चा भी हुई| साथ ही अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर भी दोनों नेताओं ने विचार किया, यह कहा जा रहा है| इस चर्चा में आतंकियों के विरोध में कार्रवाई करने के मुद्दे पर दोनों नेताओं की सहमती हुई| पाकिस्तान अपनी आतंकियों प्रति लगाव रखने की नीति छोडने के लिए तैयार नही है, इस वजह से भारत आतंकवाद के मुद्दे पर पाकिस्तान को राजनीतिक स्तर पर किनारा करने की कोशिश कर रहा है|

भारत और रशिया में रक्षा विषयक सहयोग अधिक से अधिक दृढ हो रहा है और भारत रशिया से ‘एस ४००’ यह हवाई सुरक्षा यंत्रणा खरिदी कर रहा है|

अमरिका का विरोध नजरअंदाज करके रशिया से यह यंत्रणा खरिदी करने का साहसी निर्णय भारत ने किया था| साथ ही रशिया के साथ रक्षा विषयक व्यवहार करने को लेकर भी भारत ने आग्रही और डटकर भूमिका अपनाई दिखाई दे रही है| इस वजह से अमरिका के साथ सामरिक सहयोग विकसित हो रहा है तभी इसका भारत-रशिया मित्रता पर विपरित परिणाम नही हो सका है|

इस दौरान, सितंबर महीने में रशिया ‘ईस्टर्न इकॉनॉमिक फोरम’ का आयोजन कर रहा है| इस अहम परिषद के लिए रशियन राष्ट्राध्यक्ष व्लादिमीर पुतिन इन्होंने प्रधानमंत्री मोदी को प्रमुख अतिथि के तौर पर आमंत्रित किया है| फिलहाल अमरिका के आर्थिक प्रतिबंधो का सामना कर रहे रशिया को भार के साथ आर्थिक संबंध और भी मजबूत करने में रुचि है| इसी लिए रशियन राष्ट्राध्यक्ष पुतिन इनके इस आमंत्रण का महत्व बढता दिख रहा है|