राम जन्मभूमि संबंधी मुकदमे की सुनवाई १० जनवरी से सर्वोच्च न्यायालय की संवैधानिक पीठ करेगी

नई दिल्ली – राम जन्मभूमि संबंधी मुकदमे की सुनवाई १० जनवरी सर्वोच्च न्यायालय के पांच न्यायाधीश की संवैधानिक पीठ के सामने शुरू होगी| मंगलवार के दिन सर्वोच्च न्यायालय ने इस मुकदमे की सुनवाई के लिए यह संवैधानिक पीठ स्थापित किया है| सरन्यायाधीश रंजन गोगोई इस संवैधानिक पीठ के प्रमुख रहेंगे| पिछले वर्ष नवंबर महीने में इस मुकदमे की तारीख जनवरी में घोषित की जाएगी, यह सर्वोच्च न्यायालय ने कहा था| वही, इस मुकदमे की सुनवाई जल्द हो, यह बिनती इस मुकदमे के पक्षकारों ने सर्वोच्च न्यायालय को की थी| इस पृष्ठभुमि पर सर्वोच्च न्यायालय ने इस संवैधानिक पीठ का गठन किया है|

सर्वोच्च न्यायालय में राम जन्मभूमि संबंधी मुकदमें की सुनवाई १० जनवरी से शुरू होगी| चार दिन पहले हुई सुनवाई के दौरान सर्वोच्च न्यायालय ने यह तारीख घोषित की थी| उस समय मुकदमें से जुडे पक्षकारों ने यह सुनवाई जल्द पूरी करने की बिनती सर्वोच्च न्यायालय को की थी| इसके बाद इस मुकदमे की सुनवाई नियमित रूप से करने के लिए संवैधानिक पीठ का गठन किया है|

पांच न्यायाधीशों की इस संवैधानिक पीठ के अध्यक्ष सरन्यायाधीश रंजन गोगोई रहेंगे| इसके अलावा न्यायाधीश एस.ए.बोबडे, न्यायाधीश एन.व्ही.रामन, न्यायाधीश उदय उमेश ललित और न्यायाधीश डी.वाय.चंद्रचूड इनका समावेश इस संवैधानिक पीठ में रहेगा| १० जनवरी के दिन सुबह १०.३० से इस मुकदमे की सुनवाई शुरू होगी, यह नोटीस सर्वोच्च न्यायालय ने वेबसाईट पर मंगलवार के दिन प्रसिद्ध की|

इसके पहले नवंबर महीने में सर्वोच्च न्यायालय ने इस मुदकमे की सुनवाई जनवरी तक टाल दी थी| इसके बाद सभी पक्षकारों ने इस मुकदमे पर वरीयता देकर निर्णय करे, यह बिनती सर्वोच्च न्यायालय को की थी| देश की जनता भी यही मांग कर रही थी|