पाकिस्तान आतंकवाद छोडेगा नही – सीआईए के भूतपूर्व संचालक का तर्क

वॉशिंगटन – ‘मसूद अजहर’ को संयुक्त राष्ट्रसंघ की सुरक्षा परिषद ने आतंकी घोषित करने के बाद पाकिस्तान ने उसकी संपत्ति जब्त की है| साथ ही पाकिस्तान ने ‘अजहर’ के सफर करनेपर भी पाबंदी लगाई है| लेकिन, यह कार्रवाई हो रही थी तभी अमरिका की गुप्तचर संस्था ‘सीआईए’ के भूतपूर्व संचालक मायकेल मॉरेल ने पाकिस्तान संबंधी सटिक प्रतिक्रिया दर्ज की है| ‘भारत के विरोध में आतंकियों का हथियारों की तरह इस्तेमाल करना पाकिस्तान की नीति है और पाकिस्तान यह नीति कभी भी छोडना मुमकिन नही है’, ऐसा मॉरेल ने कहा है|

‘भारत से अपने अस्तित्व को खतरा है, यह समझ पाकिस्तान ने रखी है| इस वजह से पाकिस्तान की सभी नीति भारत को केंद्र में रखकर बनाई गई है| वास्तव में भारत ने पाकिस्तान पर रखा लक्ष हटाकर अपनी आर्थिक प्रगती करने पर ध्यान केंद्रीत किया है| लेकिन, पाकिस्तान यह बात स्वीकारने के लिए तैयार नही| इसी लिए पाकिस्तान शिक्षा से ज्यादा खर्च परमाणु अस्त्र और सेना पर कर रहा है| पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था निम्नतम स्तर पर पहुंची है| इस देश में युवाओं के लिए नौकरिया नही है| साथ ही शिक्षा व्यवस्था पूरी तरह तबाह हुई है| इस वजह से पाकिस्तान के अधिकांश बच्चे चरमपंथीयों के मदरसों में शिक्षा पा रहे है’, इस बात पर मायकेल मॉरेल इन्होंने ध्यान केंद्रीत किया है|

‘मदरसों में इन बच्चों का क्या होता है, इस पर कोई परवाह नही करता| इस वजह से पाकिस्तान की समाज में चरमपंथ बढ रहा है| अगले पाच से दस वर्षों में यह चरमपंथी पाकिस्तान के रास्तों पर उतरकर बडा जनप्रदर्शन करेंगे और कुछ समय में सत्ता भी हथिया लेंगे| अधिक विस्तृत से कहा जाए तो, यह परमाणु अस्त्र रखनेवाला देश चरमपंथीयों के हाथ में जाएगा| वर्तमान में पाकिस्तानी सेना में भी चरमपंथीयों का प्रभाव बढ रहा है| इसीलिए पाकिस्तान दुनिया के लिए काफी खतरनाक देश बना है’, इन सीधे शब्दों में रचना करके मायकेल मॉरेल ने पाकिस्तान से पुरी दुनिया को बन रहा खतरा रेखांकित किया है|

पाकिस्तान की सरकार के हाथ में अधिकार नही है और पाकिस्तान की सत्ता का नियंत्रण सेना के हाथ में होने की बात भी मॉरेल ने कही है| ‘आतंकवाद का भारत एवं अफगानिस्तान के विरोध में इस्तेमाल करनेवाला पाकिस्तान आतंकियों पर नियंत्रण रख नही पाएगा| यह आतंकी पीछे मुडे सांपों की तरह पाकिस्तान को ही डसे बिना नही रहेंगे, यह तर्क मॉरेल ने रखा है| दुसरे किसी भी देश से ज्यादा हमनें पाकिस्तान की यात्रा अधिक बार की है और इस देश में काम किया है, यह जानकारी देकर वहां की स्थिति का हमें पूरी तरह से एहसास होने की बात मॉरेल ने कही है|