सिरिया में हुए इस्रायल के हमले के बाद ईरान से जुड़े गुटों ने रिहायशी बस्तियों में बनाये अड्डे

सिरिया में हुए इस्रायल के हमले के बाद ईरान से जुड़े गुटों ने रिहायशी बस्तियों में बनाये अड्डे

अलेप्पो – पिछले हफ़्ते की तरह इस्रायल फिर से अपने स्थानों पर हमलें कर सकता है, ऐसा डर ईरान एवं ईरान से जुड़े आतंकवादी संगठनों को लग रहा है। इस डर के कारण ईरान के जवानों तथा ईरान से जुड़े आतंकी संगठनों ने पूर्वी सिरिया स्थित लष्करी अड्डे खाली कर दिये और यहाँ की रिहायशी […]

Read More »

बदले की भावना से भड़क उठे ईरान से होनेवाले ख़तरे की पृष्ठभूमि पर इस्रायल का अपने परमाणु वैज्ञानिकों को अलर्ट

बदले की भावना से भड़क उठे ईरान से होनेवाले ख़तरे की पृष्ठभूमि पर इस्रायल का अपने परमाणु वैज्ञानिकों को अलर्ट

जेरुसलेम – अपने परमाणु वैज्ञानिक की हत्या के बाद बदले की भावना से भड़क उठा ईरान, प्रत्युत्तर के रूप में इस्रायल के परमाणु वैज्ञानिकों को लक्ष्य बना सकता है। इस ख़तरे को मद्देनज़र रखते हुए इस्रायली सुरक्षा यंत्रणा ने ‘नेगेव्ह’ के न्युक्लिअर प्लांट में काम किये अपने वैज्ञानिकों को चौकन्ना किया होने की जानकारी सामने […]

Read More »

इस्रायल के हमले के डर से हिज़बुल्लाहप्रमुख छिप बैठा है – इस्रायली न्यूज़ चैनल का दावा

इस्रायल के हमले के डर से हिज़बुल्लाहप्रमुख छिप बैठा है – इस्रायली न्यूज़ चैनल का दावा

तेल अविव – ईरान के कुद्स फोर्सेस के प्रमुख मेजर जनरल कासेम सुलेमानी, वरिष्ठ परमाणु वैज्ञानिक मोहसिन फखरीज़ादेह के बाद अमरीका-इस्रायल मुझे रास्ते से हटायेंगे, ऐसा डर ईरान से जुड़े संगठन हिज़बुल्लाह का प्रमुख हसन नसरल्ला को सता रहा है। इस डर के कारण अपनी सारी मुलाक़ातें रद करके नसरल्ला भूमिगत हुआ है, ऐसा दावा […]

Read More »

११६. आंतर्राष्ट्रीय संबंध

११६. आंतर्राष्ट्रीय संबंध

व्याप्ति से केवल लगभग २०-२१ हज़ार वर्ग किमी. होनेवाले इस्रायल ने आज विज्ञान-तंत्रज्ञान, कृषि, जलव्यवस्थापन ऐसे कई क्षेत्रों में जो नेत्रदीपक प्रगति हासिल की है, वह लक्षणीय है ही; लेकिन आज इस्रायल का डंका जागतिक पटल में बज रहा है, उसका कारण यह नहीं है! आज अमरीका जैसी ताकतवर जागतिक महासत्ता को भी, उसके सामने […]

Read More »

११२. सदा संघर्षग्रस्त इस्रायल-१

११२. सदा संघर्षग्रस्त इस्रायल-१

    अथक संघर्ष के बाद ‘एक देश’ के रूप में इस्रायल का जन्म हुआ| उससे पहले के लगभग तीन हज़ार वर्ष ज्यूधर्मीय निरंतर संघर्ष करते आये थे और उस उस समय की विभिन्न ताकतवर सत्ताओं की ग़ुलामी में फँस रहे थे| सन १९४८ में इस्रायल ने आज़ादी प्राप्त की| लेकिन उसके बाद भी, एक […]

Read More »

ईरान की गश्ती जहाजों पर हमला करने के लिए ‘क्लस्टर’ से तैनात अमरिकी विमानों की गश्त

ईरान की गश्ती जहाजों पर हमला करने के लिए ‘क्लस्टर’ से तैनात अमरिकी विमानों की गश्त

वॉशिंगटन: पर्शियन खाड़ी से यात्रा करने वाले व्यापारी तथा लष्करी जहाजों पर ‘स्वार्म’ हमलें करनेवाले ईरान के निगरानी जहाजों पर कार्रवाई की तैयारी अमेरिका ने की है| पर्शियन खाडी की हवाई सीमा में गश्त करने वाले ‘एफ-१५ई स्ट्राइक इगल्स’ लड़ाकू विमान अमेरिका ने क्लस्टर बॉम्ब से सज्ज किए हैं| ‘क्लस्टर बम’ से सज्जित इन विमानों […]

Read More »

८८. युद्धविराम समझौता; स्वतंत्र इस्रायल की मार्गक्रमणा शुरू

८८. युद्धविराम समझौता; स्वतंत्र इस्रायल की मार्गक्रमणा शुरू

सन १९४८ के अरब-इस्रायल युद्ध में इस्रायल की विजय हुई। इस्रायल के चारों ओर से आक्रमण कर आयीं ५ अरब देशों की शस्त्रसुसज्जित ताकतवर सेनाएँ बनाम बहुत ही कम युद्धसामग्री के साथ, अपर्याप्त सैनिकबल के साथ उनका प्रतिकार करनेवाली इस्रायली सेना ऐसा यह विषम सामना इस्रायल ने अनगिनत अड़चनों को मात देकर जीता। अरब सेनाएँ […]

Read More »

८७. ऑपरेशन बालाक; अरब निर्वासित समस्या भड़की

८७. ऑपरेशन बालाक; अरब निर्वासित समस्या भड़की

सन १९४८ के अरब-इस्रायल युद्ध में शुरू के कुछ दिन ही सही, लेकिन इस्रायल की अपर्याप्त युद्धसामग्री के कारण अरबों का पल्ड़ा भारी होने लगा। तब विदेशस्थित, दुनियाभर में बिखेरे हुए ज्यूधर्मियों ने अपनी इस मातृभूमि को इस संकट से बाहर निकालने की ठान ली और अल्प-अवधि में ही इस्रायल की ओर पैसों की तथा […]

Read More »

८६. १९४८ का अरब-इस्रायल युद्ध

८६. १९४८ का अरब-इस्रायल युद्ध

इस्रायल की भूमि में स्वतंत्र ज्यू-राष्ट्र स्थापन हुआ होने की घोषणा करके डेव्हिड बेन-गुरियन ठेंठ तेल अवीव्हस्थित अपने सेना-मुख्यालय की ओर रवाना हुए थे। इस नये राष्ट्र ने जनतन्त्र शासनपद्धति अपनायी होने के कारण उसके शासक ये चुनाव पद्धति से ही चुने जानेवाले थे। लेकिन पहले चुनाव होने तक के समय में अंतरिम सरकार शासन […]

Read More »

८५. धरातल पर आधुनिक ‘इस्रायल’ का जन्म

८५. धरातल पर आधुनिक ‘इस्रायल’ का जन्म

‘हम इस इस्रायल की भूमि में ज्यू-राष्ट्र स्थापन हुआ होने की घोषणा इसके द्वारा कर रहे हैं’ – डेव्हिड बेन-गुरियन ने अपनी धीरगंभीर आवाज़ में घोषित किया। १४ मई १९४८ के इस समारोह की शुरुआत ‘हातिक्वा’ (जो आगे चलकर इस्रायल का राष्ट्रगीत बन गया) गायन से हुई थी। उसके बाद डेव्हिड बेन-गुरियन ने धीरगंभीरतापूर्वक ज्यूराष्ट्र-स्थापना […]

Read More »