सीरिया में ‘एस-३००’ तैनात के बाद इजराइल हमलों के बारे में सावधानी से फैसला करे – रशिया के उपविदेश मंत्री की चेतावनी

तृतीय महायुद्ध, परमाणु सज्ज, रशिया, ब्रिटन, प्रत्युत्तर

मॉस्को – ‘सीरिया में रशियन विमान पर हुए हमले के लिए इजराइल जिम्मेदार होते हुए भी रशिया और इजराइल के बीच संघर्ष नहीं भड़कने वाला है।अपनी इस भूमिका पर रशिया कायम है।फिर भी सीरिया में ‘एस-३००’ की तैनाती के बाद इजराइल सीरिया में हमले करने से पहले देश हितकारक निर्णय ले’, ऐसी स्पष्ट चेतावनी रशिया के उपविदेश मंत्री ‘सर्जेई वर्शेनिन निंन’ ने दी है।उसीके साथ ही ‘एस-३००’ की तैनाती की वजह से सीरिया की हवाई सुरक्षा अधिक मजबूत होने के सूचक उदगार वर्शेनिन ने निकाले हैं।

रशिया की ‘एस-३००’ विमान भेदी हवाई सुरक्षा यंत्रणा मंगलवार को सीरिया में दाखिल हुई है।इस विमान भेदी हवाई सुरक्षा यंत्रणा की सीरिया में तैनाती के बारे में रशिया  ने पिछले तीन दिनों में दो बार इजराइल को चेतावनी दी है। सीरिया में ‘एस-३००’ की तैनाती पूरी हुई है और इजराइल इसे ध्यान में रखे, इसकी याद वर्शेनिन ने दिलाई है।४९ अलग अलग स्पेयर पार्ट्स की यह यंत्रणा दाखिल होने के बाद अगले कुछ ही घंटों में अपनी कार्रवाई के लिए सज्ज हुई है और इस वजह से सीरिया की हवाई सुरक्षा मजबूत होने का दावा वर्शेनिन ने किया है।

‘एस-३००’, तैनात, सर्जेई वर्शेनिन निंन, रशिया के उपविदेश मंत्री, कार्रवाई, सीरिया, अस्साद राजवट

‘’एस-३००’ की तैनाती की वजह से सीरिया में संघर्ष का पलड़ा घूम गया है। इजराइल भी इस विमान भेदी हवाई यंत्रणा की दखल ले और सीरिया में हमले न करने के बारे में फैसला करे’’, ऐसा वर्शेनिन ने सुझाव दिया है।उसीके साथ ही सन २०१५ में रशिया और इजराइल के बीच हुए अलिखित अनुबंध की वर्शेनिन ने याद दिलाई है।

रशिया ने अस्साद राजवट के बचाव के लिए सीरिया में हवाई हमले शुरू किए, इस बार सीरिया में कार्रवाई की वजह रशिया और इजराइल के बीच संघर्ष नहीं भड़कने देने वाले हैं, ऐसा दोनों देशों ने मान्य किया था।रशिया आज भी अपनी भूमिका पर कायम है ऐसा कहकर अब इजराइल ने सीरिया में हमले किए तो उसके परिणाम गंभीर हो सकते हैं, ऐसे संकेत वर्शेनिन ने दिए हैं।

इजराइल ने इसके आगे सीरिया पर हमले किए तो ‘एस-३००’ इजराइल के हमलों को प्रत्युत्तर देगा, ऐसी चेतावनी सीरिया के विदेश मंत्रालय ने दिया था।