हवाई हमलें एवं धमाकों से लीबिया की राजधानी दहल उठी – ३० हजार से अधिक लोग विस्थापित

तृतीय महायुद्ध, परमाणु सज्ज, रशिया, ब्रिटन, प्रत्युत्तरत्रिपोली – लीबिया की राजधानी त्रिपोली में रातभर शुरू संघर्ष में २२३ लोगों की मौत हुई है और हजार से अधिक लोग जख्मी हुए है| त्रिपोली की दक्षिणी हिस्से में बागियों ने बडी तादाद में हवाई और मॉर्टर्स के हमलें करने के समाचार सामने आ रहे है| लीबिया की सरकार और बागियों ने संयुक्त राष्ट्रसंघ ने रखा युद्ध विराम का प्रस्ताव भी ठुकराया है और इस वजह से लीबिया में नए से गृहयुद्ध भडकने की चिंता व्यक्त की जा रही है|

वर्ष २०११ में अरब-इस्लामी देशों में हुए ‘अरब-स्प्रिंग’ की क्रांती में लीबिया की जनता ने मुअम्मर गद्दाफी की तानाशाही के विरोध में बगावत की थी| पश्‍चिमी देशों के समर्थन पर लीबिया की जनता और हथियारबंद गुटों ने गद्दाफी की हुकूमत पलट दी थी| उसके बाद संयुक्त राष्ट्रसंघ, पश्‍चिमी देश और अरब देशों की मध्यस्थता से लीबिया में स्वतंत्र सरकार का गठन किया गया था| लेकिन, पिछले दो वर्षों से लीबिया यह पूर्व और पश्‍चिमी क्षेत्र में बांटा गया है और पूर्व के हिस्से पर जनरल हफ्तार के बागियों का वर्चस्व है| वही, राजधानी त्रिपोली के साथ पश्‍चिमी हिस्से पर लीबिया की सरकार का नियंत्रण है|

लेकिन, लीबिया की सरकार का यह नियंत्रण उधेड कर राजधानी त्रिपोली के साथ पूरे लीबिया पर कब्जा करने के लिए जनरल ‘खलिफा हफ्तार’ इस बागी लष्करी अधिकारी ने पिछले दो हफ्तों से संघर्ष शुरू किया है| इस संघर्ष में अबतक २२३ लोगों की मौत हुई है और इसमें लीबिया के बागीयों की तादाद ज्यादा होने का दावा किया जा रहा है| वही, करीबन ३० लोग भी इस संघर्ष में मारे गए है, यह दावा लीबिया की मानवाधिकारी संगठन ने किया है| संयुक्त राष्ट्रसंघ ने युद्ध विराम का प्रस्ताव रखने के बाद बागियों ने शनिवार रात से त्रिपोली की दक्षिणी हिस्से में हमलें बढाए है, ऐसा अंतरराष्ट्रीय वृत्तसंस्थाओं का कहना है|

त्रिपोली के दक्षिणी हिस्से में हुए हवाई हमलों के आवाज १० किलोमीटर दूरी पर भी सुनाई दे रहे है, यह जानकारी स्थानिय जनता ने दी है| त्रिपोली की हवाई सीमा पर कम से कम दस मिनिटों तक लडाकू विमान मंडरा रहे थे| इस वजह से स्थानिय लोगों में डर बना रहा| लीबिया की सरकार और बागियों ने त्रिपोली के नियंत्रण को लेकर हररोज नए नए दावे किए जा रहे है| लेकिन, माध्यमों के प्रतिनिधिओं को रोका जाने से त्रिपोली में बनी सच्चाई दुनिया के सामने आ नही सकी है|

इस दौरान, अमरिकी राष्ट्राध्यक्ष डोनाल्ड ट्रम्प इन्होंने चार दिन पहले लीबिया के बागी नेता जनरल हफ्तार से फोन पर बातचीत करने की जानकारी व्हाईट हाउस ने दी| इस बातचीत का ब्यौरा स्पष्ट हुआ नही है| लेकिन, उसके बाद लीबिया के बागियों ने त्रिपोली पर हमलें की तादाद बढाई है, यह स्थिति विश्‍लेषक सामने रख रहे है| आठ वर्ष पहले लीबिया में भडके गृहयुद्ध ने गद्दाफी की हुकूमत पलट दी थी| अब भी लीबिया में शुरू संघर्ष रोकने के लिए अंतरराष्ट्रीय समुदाय ने समय पर कोशिश नही की तो लीबिया में बना संकट भयंकर रूप प्राप्त करेगा और इसमें हजारों लोग बलि होंगे, यह डर अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं से व्यक्त किया जा रहा है|