ईरान से ईंधन की खरीदारी नहीं रोकी तो – अमरिका भारत पर भी प्रतिबंध जारी करेगा – अमरिका के अधिकारियों की चेतावनी

वाशिंग्टन: ईरान से ईंधन तेल आयात करनेवाला कोई भी देश अमरिका के प्रतिबंध के चंगुल से नहीं छूटेगा। भारत में भी ईरान से ईंधन की खरीदारी नहीं रोकी तो प्रतिबंधों का सामना करना होगा, ऐसी चेतावनी अमरिका ने दी है। इसके लिए अमरिका ने भारत को नवंबर तक अवधि दिया है। भारत ईरान से ईंधन की खरीदारी नहीं रोकेगा, ऐसा भारत ने इससे पहले ही स्पष्ट किया था।

पिछले महीने में अमरिका के राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प ने ईरान के साथ परमाणु करार से वापसी की थी एवं ईरान पर प्रतिबंध की घोषणा की थी। विदेशी कंपनिया ईरान के साथ व्यापक व्यापार रोके अन्यथा उनपर अमरिका प्रतिबंध जारी करेगा, ऐसा अमरिका ने सूचित किया था। भारत को ईंधन प्रदान करनेवाले देशों में ईरान तीसरे स्थान पर है। पिछले वर्ष में पहले १० महीनों में भारत ने ईरान से १ करोड़ ८४ लाख टन कच्चा तेल आयात किया था।

ईरान, ईंधन की खरीदारी, नहीं रोकी, भारत, प्रतिबंध, जारी करेगा, अमरिका, चेतावनीईरान फिलहाल अमरिकी प्रतिबंधों के विरोध में दुनिया भर से समर्थन प्राप्त करने की तैयारी में है। ईरान से अन्य देशों ने कच्चे तेल आयात शुरू रखे जाए इसके लिए ईरान प्रयत्न कर रहा है। ईरान के विदेश मंत्री जावेद जरीफ ने यूरोप के प्रमुख देश चीन और रशिया इन देशों को भेट दी है। पिछले महीने में ईरान के विदेश मंत्री भारत के दौरे पर आए थे। अमरिकी प्रतिबंधों का परिणाम भारत एवं ईरान के व्यापार पर न हो इसके लिए विदेश मंत्री जरीफ इनके इस भेंट में चर्चा संपन्न हुई है।

पिछले कई वर्षों में भारत और अमरिका में विविध स्तर पर सहयोग अधिक मजबूत हुआ है। अमरिका ने भारत को धारणात्मक साझेदार देश का दर्जा दिया है। इस पृष्ठभूमि पर ईरान के साथ सहयोग कायम रखने पर भारत के बारे में अमरिका की भूमिका सौम्य होगी ऐसे संकेत अमरिका से दिए जा रहे थे और इसके विपरीत, बुधवार को अमरिका के विदेश मंत्रालय के अधिकारियों ने किसी भी देश को अमरिका के प्रतिबंध से सहूलियत नहीं मिलेगी, ऐसा स्पष्ट किया है। भारत और चीन के संदर्भ में इस अधिकारी को प्रश्न पूछे गए थे। इन प्रश्नों के उत्तर देते हुए अधिकारियों ने ईरान के साथ सहयोग कायम रखनेवाले हर देश को प्रतिबंध का सामना करना होगा, ऐसा स्पष्ट किया है।

सभी देशों को ईरान से होनेवाली ईंधन की आयत ४ नवंबर तक शून्य पर लानी होगी और ईरान के साथ सहयोग रोकने होंगे, ऐसा अमरिका के एक अधिकारी ने कहा है। ईरान को अकेला रखने के लिए ट्रम्प प्रशासन ने प्रयत्न शुरू कीए है, ऐसा अधिकारी ने कहा है बताया है।

दौरान जुलाई महीने में भारत और अमरिका में होने वाले टू प्लस टू चर्चा में भारत और ईरान में ईंधन व्यवहार यह प्रमुख विषय होगा, ऐसे संकेत मिल रहे हैं। सन २०१२ में अमरिका ने ईरान पर प्रतिबंध जारी किए थे इन प्रतिबंधों का पालन करने के लिए भारत ने स्पष्ट तौर पर इंकार किया था। उसके बाद अमरिका ने भारत पर प्रतिबंध जारी किए थे।

अमरिका ने ईरान पर लगाये प्रतिबंधों का परिणाम ईरान एवं भारत के व्यवहार पर हुआ था। इन प्रतिबंधों की वजह से ईरान को ईंधन के पैसे चुकाना भारत के लिए कठिन हुआ था। पर अमरिका ने भारत पर प्रतिबंध केवल कुछ ही महीने में वापस लिए थे। उसके बाद अमरिका ने प्रतिबंधो का भारत एवं ईरान के व्यवहार पर परिणाम नहीं होगा, ऐसे संकेत दिए जा रहे थे। भारत ईरान को रुपयों में ईंधन के पैसे चुकते कर सकता है एवं इस संदर्भ में दोनों देशों में चर्चा होने की जानकारी दी जा रही है।