हफीज सईद के ‘फलाह ए इन्सानियत’ इस आतंकी संगठन के विरोध में ‘ईडी’ की कार्रवाई

नई दिल्ली: भारत के ‘एन्फोर्समेंट डायरेक्टोरेट’ (ईडी) ने ‘फलाह ए इन्सानियत’ इस पाकिस्तान की कथित स्वयंसेवी संगठन के विरोध में तक्रार दाखिल की है| इस संस्था का ‘मनी लौंडरिंग’ में हाथ होने का दावा ‘ईडी’ ने तक्रार में किया है| ‘फलाह ए इन्सानियत’ यह पाकिस्तान के लाहोर की संगठन है और इस संगठन का मुखिया ‘हफीज सईद’ है, यह बताया जा रहा है| इस वजह से ‘ईडी’ की इस कार्रवाईकी अहमियतता काफी मात्रा में बढी है|

कुछ दिनों पहले पाकिस्तान में कश्मीर दिन मनाया गया था| इस दौरान मुंबई पर हुए आतंकी हमले का सूत्रधार हफीज सईद ने भारत को धमकाया था| अमरिकी सेना की अफगानिस्तान से वापसी हो रही है और इस वजह से अफगानिस्तान तालिबान के कब्जें में आएगा| इसका इस्तेमाल करके पाकिस्तान की आतंकी संगठने जम्मू-कश्मीर में आतंकी गतिविधियों का खून खराबा शुरू कर सकेगी, यह ऐलान हफीज सईद ने भर सभा में किया था| इस पर भारत ने गंभीरता से संज्ञान लिया है| ‘लश्कर ए तोयबा’ का संस्थापक हफीज सईद ने ‘लश्कर’ पर अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंध घोषित होने पर ‘जमात उल दवा’ इस संगठन का गठन किया था|

हफीज सईद, फलाह ए इन्सानियत, आतंकी संगठन, विरोध, ईडी, कार्रवाई‘जमात’ यह पाकिस्तान की सेवा कार्य करनेवाली संगठन है और हफीज सईद समाजसेवाक होने का दावा पाकिस्तान की सरकार और माध्यम करते है| लेकिन, मुंबईपर हुए हमले के बाद ‘जमात’ पर त्री आतंकी संगठन होने की मुहर लगी है और अह हफीज सईद ने ‘फलाह ए इन्सानियत’ (एफआईएफ) नाम की नई संगठन से आतंकी गतिविधियां शुरू की है| इस संबंधी सबुत ‘ईडी’ के हाथ लगे है|

अभी तक पाकिस्तान ने ‘एफआईएफ’ के विरोध में किसी भी प्रकार की कार्रवाई शुरू नही की है| अंतरराष्ट्रीय दबाव बने बिना पाकिस्तान एफआईएफ पर कार्रवाई करने की गुंजाईश भी नही है| इसका लाभ उठाकर एफआईएफ ने भारत में आतंकी कार्रवाई करने के लिए मनी लौंडरिंग शुरू किया दिख रहा है|

राष्ट्रीय तपास यंत्रणा (एनआईए) ने आतंकविरोधी कार्रवाई करते समय चार दर्जन सिमकार्डस्, १४ मोबाईल, डेढ करोड रुपये और नेपाल के ४३ हजार के नोटस् एवं पांच पेनड्राईव्हज् और अन्य आपत्तिजनक सामान ‘एनआईए’ ने जब्त किया है और इस मामले में चार लोगों को गिरफ्तार किया है| इनमें से दिल्ली का रहनेवाला सलमान दुबई में एक पाकिस्तानी नागरिक के संपर्क में था, यह स्पष्ट हुआ है| यह पाकिस्तानी नागरिक ‘एफआईएफ’ से जुडा होने का भी स्पष्ट हुआ है| ‘एफआईएफ’ ने हवाला के माध्यम से भारत में बडी रकम भेजी होने का दावा हो रहा है| ‘एआईए’ ने इस मामले में मोहम्मद सलिम यानी मामा एवं श्रीनगर के सज्जाद अब्दूल वाणी पर भी शिकंजा कसा है| वाणी हवाला से प्राप्त हुआ पैसा आगे पहुंचाने का काम करता है|

इस तरह से ‘एफआईएफ’ हवाला के जरिए भारत में पैसा भेजने का काम रही है| इस पैसे का इस्तेमाल करके भारत में आतंकी गतिविधियां एवं अस्थिरता फैलाने के षडयंत्र को अंजाम देने की ‘एफआईएफ’ की कोशिश थी, यह जानकारी ‘ईडी’ ने दी| इस सबंध में कुछ अहम सुराग प्राप्त होने की बात भी ‘ईडी’ ने कही है|

इस दौरान पाकिस्ता में आतंकी संगठनों को प्राप्त हो रहा समर्थन दुबारा उजागर हुआ है| अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंध लगाने के बाद ‘लश्कर’ औड़ अन्य आतंकी संगठन पाकिस्तान में नए नाम से सक्रिय होती है| साथ ही प्रतिबंधों की जानकारी उन्हें पहले ही प्राप्त होने से यह संगठन अपने आर्थिक स्रोत भी सुरक्षित करते है, ऐसा कईबार स्पष्ट हुआ था| ‘जमात उल दवा’ के द्वारा होनेवाला आंतकी गतिविधियों का काम उजागर होने के बाद हफीज सईद ने ‘फलाह ए इन्सानियत’ का इस्तेमाल शुरू किया है, यह बात ही दिखा रही है|