‘साउथ चाइना सी’ में चीन ‘एम्फिबियस ड्रोन बोट’ तैनात करेगा

तृतीय महायुद्ध, परमाणु सज्ज, रशिया, ब्रिटन, प्रत्युत्तरबीजिंग – जमीन और पानी में सफर करने में सक्षम पहले ‘एम्फिबियस ड्रोन बोट’ का निर्माण चीन ने किया है| चीन के सरकारी पत्र ने इस बोट के निर्माण का दावा किया है| वर्णित एम्फिबियस ड्रोन बोट चीन की रक्षादलों के लिए काफी बडी गतिविधि है और आनेवाले समय में यह बोट ‘साउथ चाइना सी’ के क्षेत्र में चीन के हितसंबंधों की सुरक्षा के लिए तैनात होगी, यह कहकर चीन के माध्यमों ने अमरिका को चेतावनी दी है| चीन की इस ‘एम्फिबियस ड्रोन बोट’ की वजह से ‘साउथ चाइना सी’ के क्षेत्र में बने तनाव में नए से बढोतरी हुई है|

चीन के सरकार से जुडे ‘वुचूंग शिपबिल्डिंग इंडस्ट्री ग्रुप’ कंपनी ने चार दिन पहले ‘एम्फिबियस ड्रोन बोट’ का समाचार प्रसिद्ध किया था| चीन के हुबै प्रांत में वूहान शहर में इस ड्रोन बोट यानी ‘मरिन लिजार्ड’ का परीक्षण पूरा होने का दावा इस कंपनीने किया था| चीन के सरकारी पत्र ने इस संबंध की जानकारी प्रसिद्ध करके यह कहा है की, ‘रिमोट कंट्रोल या सैटेलाइट के माध्यम से १,२०० किलोमीटर दूरी पर से भी ‘मरिन लिजार्ड’ की गतिविधि तय करना मुमकिन है|

‘एम्फिबियस ड्रोन बोट’, तैनात, वुचूंग शिपबिल्डिंग इंडस्ट्री ग्रुप, साउथ चाइना सी, परीक्षण, चीन, अमरिका

मरिन लिजार्ड स्टेल्थ बोट होने का दावा चीन के पत्र ने किया है और समुद्र में यह ड्रोन बोट प्रति घंटा ५० नॉटस् गति से सफर कर सकती है| वही जमीन पर यह बोट केवल २० किलोमीटर प्रति घंटा गति से सफर कर सकेगी, यह जानकारी चीन के पत्र ने किया था| शत्रु के ठिकानों पर हमलें करने के लिए एवं जरूरत होने पर सैनिकों कों तय जगह पर पहुंचाने के लिए भी मरिन लिजार्ड का इस्तेमाल हो सकता है, यह दावा इस पत्र ने किया है| चीन के वर्णित पत्र के इस दावे के बाद चीन के अन्य प्रमुख माध्यमों ने भी ‘मरिन लिजार्ड’ संबंधी समाचार प्रसिद्ध करके चीन का यह नया ड्रोन काफी प्रगत होने का दावा किया है|

हांगकांग स्थित एक वृत्तसंस्था ने लष्करी विश्‍लेषक के दाखिले से चीन की लष्करी गतिविधियों का वृत्त प्रसिद्ध किया| आनेवाले समय में चीन इस एम्फिबियस ड्रोन बोट या मरिन लिजार्ड की तैनाती ‘साउथ चाइना सी’ के क्षेत्र में एवं इस क्षेत्र के द्विपों पर करेगी, ऐसा इस वृत्तसंस्था ने कहा है| ‘साउथ चाइना सी’ क्षेत्र में होनेवाले संघर्ष में चीन की मरिन लिजार्ड अहम जिम्मेदारी निभाएगी| इस क्षेत्र के कृत्रिम द्विप एवं समुद्री क्षेत्र की सुरक्षा के लिए या कब्जा करने के लिए इस मरिन लिजार्ड का इस्तेमाल हो सकता है’, ऐसा सौंग झौंपिंग?इस लष्करी विश्‍लेषक ने कहा है| साथ ही दुश्मन के कब्जे में रहनेवाले द्विप पर छिपकर हमला करने के लिए भी इस ‘स्टेल्थ मरिन लिजार्ड’ का इस्तेमाल हो सकता है, इस ओर भी इस विश्‍लेषक ने ध्यान आकर्षित किया है|

इस दौरान, अमरिका के हथियारों की ताकद से स्पर्धा करने के लिए चीन ने बडी तादाद में हथियारों की खरीद एवं निर्माण शुरू किया है| ‘आर्टिफिशल इंटेलिजन्स’, ‘स्वार्म’ तकनीक और अन्य प्रगत तकनीक की सहायता से चीन स्टेल्थ और मानवरहित हथियारों का निर्माण कर रहा है| साथ ही इन प्रगत हथियारों की तैनाती ‘साउथ चाइना सी’ में करने के संकेत चीन दे रहा है| इस के पहले भी चीन ने ड्रोन गश्ती पोत का परीक्षण करके ‘साउथ चाइना सी’ में यह पोत तैनात करने का ऐलान किया था|