जम्मू कश्मीर के नियंत्रण रेखा पर लष्कर ने आतंकवादियों का दाव उधेडा; ६ आतंकवादी ढेर

श्रीनगर – रविवार को भारतीय लष्कर ने जम्मू-कश्मीर मे केरन सेक्टर के नियंत्रण रेखा में घुसपैठ करनेवाले छह आतंकवादियों को ढेर किया है। दो ही दिनों पहले केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने केरन सेक्टर के सीमा रेखा को भेंट दी थी। रमजान में संघर्ष बंदी जारी करने के बाद लष्कर ने केरन सेक्टर में तीन बार आतंकवादियों के घुसपैठ का दाव उधेड़ा है।

सेना के जवानों ने केरन सेक्टर के नियंत्रण रेखा पर आतंकवादियों की संदिग्ध गतिविधियां पाई थी। आतंकवादी राइफल लेकर जंगल में छुपे बैठे थे। लष्कर के १४ आरआर टुकड़ी ने इस परिसर को सील किया था। उसके बाद छुपकर बैठे हुए आतंकवादियों ने जवानों पर गोलीबारी शुरू की। जवानों ने भी उसे कड़ा प्रत्युत्तर दिया। तत्काल लष्कर के अतिरिक्त दल एवं जम्मू-कश्मीर के पुलिस वहां पहुंचे।

रविवार की सुबह अंधेरा होने से ऑपरेशन रोका गया था। पर सुबह लष्कर ने आतंकवादियों के लिए जांच मुहिम हाथ ली। इस जांच मुहिम के दौरान आतंकवादियो ने गोलीबारी की। जवानों ने दिए प्रत्युत्तर में ६ आतंकवादी ढेर हुए हैं और अभी भी जांच मुहिम शुरू होने की जानकारी लष्कर के अधिकारी ने दी है।

ढेर हुए आतंकवादी कौन से आतंकवादी संघटना के हैं, इसकी पहचान अब तक नहीं हो पाई है। पर आतंकवादियों से बड़े तादाद में शस्त्रास्त्र जप्त करने की बात लष्कर के प्रवक्ता ने कही है। तिन दिनों पहले केरन सेक्टर के नियंत्रण रेखा पर घुसपैठ करने वाले पाकिस्तान के बॉर्डर एक्शन टीम ने किए हमले में १ जवान शहीद तथा एक जख्मी हुआ था।

दौरान पाकिस्तान व्याप्त कश्मीर में नियंत्रण रेखा पर २५० आतंकवादी भारत में घुसने की तैयारी में होने की जानकारी वरिष्ठ लष्करी अधिकारी ने दी थी। उसके बाद लष्कर ने नियंत्रण रेखा पर गश्ती बढ़ाई थी। इसकी वजह से आतंकवादियों की घुसपैठ के प्रयत्न उधेड़े गए थे और उसमें लष्कर को सफलता मिली है। तथा पिछले २ वर्षों में लष्कर ने आतंकवादियों के विरोध में कार्रवाई तेज की है। इस दौरान कई आतंकवादी संघटना के कमांडर ढेर हुए हैं। तथा अमरनाथ यात्रा की पृष्ठभूमि पर जम्मू-कश्मीर में हाई अलर्ट दिया है ऐसा लष्कर के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा है।