श्वसनसंस्था भाग – ४५

श्वसनसंस्था भाग – ४५

पिछ्ले लेख में हमने विमान (हवाई जहाज) प्रवास, अंतरिक्ष प्रवास किया। इन प्रवासों के दौरान संभावित खतरों की जानकारी प्राप्त की। आज से हम पानी में उतरेंगे। पनडुब्बियों के संसार की जानकारी प्राप्त करेंगे। सी-डाइवर्स, स्कूबा डाइवर्स किन-किन परिस्थितियों का सामना करते हैं, इसकी जानकारी प्राप्त करेंगे। इन ची़ज़ों की ओर आज कल ‘खेल के […]

Read More »

श्वसनसंस्था भाग – ४४

श्वसनसंस्था भाग – ४४

पिछले दो लेखों में हमने सेंट्रिफ्यूगल ऍक्सलेटरी फोर्सेस के मानव-शरीर पर होनेवाले दुष्परिणाम देखें। आज हम रेषीय गति के (Linear acceleration) शरीर पर होनेवाले परिणामों की जानकारी प्राप्त करेंगे। अंतरिक्ष यात्रा (Space Travel) में ऐसे फोर्सेस शरीर पर कार्यरत होते हैं। अंतरिक्ष यान के उड़ते समय कार्य करनेवाले फोर्सेस को ऍक्सलेटरी तथा यान के वापस […]

Read More »

श्वसनसंस्था भाग – ४३

श्वसनसंस्था  भाग – ४३

‘न्यूयॉर्क-मुंबई नॉनस्टॉप विमान सेवा शुरु।’ ‘लम्बी दूरी की विमान यात्रा नॉनस्टॉप पद्धति से शुरु करने की योजना बनायी जा रही है। भविष्य में सभी लम्बी दूरी वाले विमानप्रवास इसी पद्धति से शुरू होंगे।’ ‘लम्बी दूरी की नॉनस्टॉप विमान सेवा शुरू होने के बाद से गत बीस दिनों में यात्रा के दौरान छ: यात्रियों की मौत।’ […]

Read More »

श्वसनसंस्था भाग – ४२

श्वसनसंस्था  भाग – ४२

पिछले लेख में हमने देखा कि पर्वतारोहियों को किन-किन परिस्थितियों का सामना करना पड़ता है। हमने देखा कि पर्वतों की चोटी पर के वातावरण के फलस्वरूप उत्पन्न होनेवाली समस्याओं का सामना शरीर कैसे करता है। लेख के प्रारंभ में हमने ‘शेर्पा’ जमात का उल्लेख किया था। ऊँची पर्वत शृंखलाओं में मूल रूप से रहनेवाले ये […]

Read More »

श्वसनसंस्था भाग – ४१

श्वसनसंस्था भाग – ४१

ऊँचाई पर स्थित विरल वातावरण से हमारा शरीर अपने आप को किस तरह जोड़ लेता है, इसकी जानकारी हम प्राप्त कर रहे हैं। कम ऊँचाई पर रहनेवाला कोई व्यक्ति जब अधिक ऊँचाईवाले पर्वत पर जाता है, तब उन्हें किन परिस्थितियों का सामना करना पड़ता है, यह हमने पिछले लेखों में देखा। परन्तु संसार की पर्वतमालाओं […]

Read More »

श्वसनसंस्था भाग – ४०

श्वसनसंस्था  भाग – ४०

आज तक हम अपनी श्वसनसंस्था के कार्यों की जानकारी प्राप्त कर रहे थे। अब हमें श्वसनसंस्था के विकारों की जानकारी प्राप्त करनी है। डॉक्टर लोग श्वसन के विकारों का निदान कैसे करते हैं और निदान के अनुसार उपचार पद्धति में बदलाव कैसे करते हैं, यह हम सीधी सरल भाषा में समझेंगे। श्वसन के विकार मुख्यत: […]

Read More »

श्वसनसंस्था भाग – ३९

श्वसनसंस्था  भाग – ३९

हमारी श्वसन क्रिया पर नियंत्रण कैसे होता है, हम इसकी जानकारी प्राप्त कर रहे हैं। मस्तिष्क का श्वसनकेन्द्र, शरीर की धमनियों के केमोरिसेप्टर्स, स्नायुओं और जोड़ों के रिसेप्टर्स आदि सब मिलकर श्वसन क्रिया पर नियंत्रण रखते हैं। श्वसन क्रिया पर नियंत्रण रखनेवाले सभी घटकों का एकमात्र उद्देश्य होता है- रक्त में प्राणवायु, कर्बद्विप्रणिल वायु और […]

Read More »

श्‍वसनसंस्था भाग – ३८

श्‍वसनसंस्था  भाग – ३८

जब कोई भी व्यक्ति व्यायाम करता है तब उसके शरीर में प्राणवायु का उपयोग और कर्बद्विप्रणिल वायु की निर्मिति दोनों बढ़ जाती हैं। यह बाढ़ सामान्य स्थिति की तुलना में लगभग बीस गुना होती है। किसी खिलाड़ी (Athlete) में यह बदलाव जब आता है तब उसका शरीर के मेटॅबोलिझम से भी संबंध होता है। व्यायाम […]

Read More »

श्वसनसंस्था भाग – ३७

श्वसनसंस्था  भाग – ३७

अब तक हमने देखा कि हमारी श्वसन का नियंत्रण मस्तिष्क में स्थित श्वसनकेन्द्र कैसे करता है, इस कार्य में अन्य कौन सी चीज़े सहायता करती हैं, यह भी हमने जान लिया। मस्तिष्क में श्वसन केन्द्र के अलावा हमारे शरीर के अन्य अंगों में ऐसी कईं जगहें हैं जो अप्रत्यक्ष रूप से श्वसन के नियंत्रण में […]

Read More »

श्‍वसनसंस्था भाग – ३६

श्‍वसनसंस्था  भाग – ३६

रासायनिक (केमिकल) घटकों के द्वारा हमारे श्‍वसन का नियंत्रण किस प्रकार होता है, इसकी जानकारी हम प्राप्त कर रहे हैं। सर्वप्रथम, हम मस्तिष्क के श्‍वसन केन्द्र पर रक्त और ऊतकों में होनेवाले रासायनिक बदलाव का क्या परिणाम होता है, इसका अध्ययन करेंगे। पिछले कई लेखों में हमने देखा कि मस्तिष्क में जो श्‍वसन केन्द्र होता […]

Read More »