चीन को उत्तर देने के लिए सच होने का तैवान का उत्तर

तृतीय महायुद्ध, परमाणु सज्ज, रशिया, ब्रिटन, प्रत्युत्तरबीजिंग/ तैपेई – चीन और तैवान में संप्रभुता के मुद्दे पर निर्माण हुआ तनाव युद्ध तक आकर पहुंच गया हैं। ‘वन चाइना पॉलिसी’ का स्वीकार करते हुए यदि वह चीन में संविलीन नहीं हुआ तो हवाई हमलें अनिवार्य होने की धमकी चीन ने दी हैं। एक विडिओ प्रसिद्ध कर चीन ने तैवान को धमकाया है। तैवान ने भी चीन को उन्हीं के शब्दों में उत्तर देते हुए तैवान की सेना देश की डेमोक्रेसी को बचाने के लिए सज्ज होने की चेतावनी दी हैं।

चीन में हाल ही में ही नया साल मनाया गया था। इस पृष्ठभूमि पर चीन की वायु सेना ने सोशल मीडिया पर प्रसिद्ध किए वीडियो में नए वर्ष के उपहार के स्वरुप में धमकी दी हैं। ‘माय वॉर इगल्स फ्लाय अराउंड फॉर्मोसा’ ऐसा इस वीडियो का शीर्षक हैं। ‘फॉर्मोसा’ यह तैवान का चीन में होने वाला इससे पहले का नाम था। पायलटों द्वारा गाए गए गाने से इस वीडियो की शुरुआत होती हैं। चीन तथा तैवान के बीच संबंधों का वर्णन करने वाले इस गाने में तैवान यह खजाना होते हुए इस खजाने पर चीन के ‘वॉर इगल्स’ उड़ान भरने का कहा गया हैं। तैवान चीन में संविलिन नहीं होता तब तक ये ‘वॉर इगल्स’ तैवान पर उड़ान भरते ही रहेंगे, ऐसी चेतावनी वीडियो द्वारा दी गई हैं।

तैवान की जनता हमारे लिए भाई-बहनों जैसी होने का बताते हुए चीन की वायु सेना के जे-२० स्टेल्थ विमान, एच-६ बॉम्बर विमान और अन्य लड़ाकू विमान तैवान के हवाई सीमा से उड़ान भरते हुए इस वीडियो में दिखाया गया हैं। तैवान की सरकार ने समय रहते चीन में शामिल होना चाहिए अन्यथा चीन के लड़ाकू तथा बॉम्बर विमान तैवान पर हमलें चढ़ाएंगे, ऐसी धमकी देने का दावा चीन के विशेषज्ञ कर रहे हैं।

चीन की इस धमकी को तैवान ने भी अगले कुछ ही घंटों में उनकी ही भाषा में उत्तर दिया हैं। तैवान के लष्कर के सोशल पेज पर प्रसिद्ध हुए ९० सेकंड के वीडियो में चीन के घुसपैठ लड़ाकू विमानों को उत्तर देने के लिए तैवान की सुरक्षा प्रणाली सज्ज होने का घोषित किया हैं। तैवान के मिसाइल लॉन्चर तथा हवाई और नौसेना भी चीन के लड़ाकू विमानों को उत्तर देने के लिए तैयार होने की चेतावनी देते हुए तैवान के लष्कर ने चीन को फटकारा हैं।

चीन को नए साल की शुभकामनाएं देने के लिए तैवान को विलंब हुआ होगा। परंतु शत्रु के हमलों को उत्तर देते हुए तैवान जरा भी विलंब नहीं करेगा। तैवान की खाड़ी में शांति तथा क्षेत्रीय स्थिरता स्थापित करने के लिए अपनी सेना तस्थिर है, ऐसा तैवान ने जाहिर किया हैं। तैवान के लष्कर ने दिए उत्तर के कारण चीन की बेचैनी बढ़ते हुए चीन के सोशल मीडिया से तैवान पर जोरदार आलोचना शुरु हो गई है।

पिछले कुछ सप्ताहों से चीन के नेतृत्व से तैवान को लष्करी कार्रवाई की धमकी दी जा रही हैं। एक महीने पहले चीन के राष्ट्राध्यक्ष शी जिनपिंग ने अमरिका तथा तैवान में बढ़ते लष्करी सहयोग पर आपत्ती प्रस्तुत की थीं। साथ ही आने वाले साल के अंत तक ‘वन चायना पॉलिसी’ का स्वीकार कर चीन में सम्मिलित होने से इंकार कर दिया तो चीन की सेना तैवान का निवाला निगलने के लिए सज्ज होने की धमकी जिनपिंग ने दी थीं।

उसके पश्चात चीन ने तैवान की खाड़ी में बैलेस्टिक मिसाइल प्रक्षेपित कर तैवान पर लष्करी दबाव बढ़ाने का प्रयत्न किया था। परंतु चीन के इस लष्करी दबाव के आगे नहीं झुकने का तैवान से लगातार सूचित किया जा रहा हैं।