केरला में बडे आतंकी हमले की साजिश का पर्दाफाश

नई दिल्ली – श्रीलंका में चर्च और पंचतारांकित होटल में बम धमाके और आत्मघाती हमलें करनेवाला आतंकी ‘जहरान हाशिम’ से प्रेरित हुए एक युवक को ‘एनआईए’ ने गिरफ्तार किया है| ‘रियास ए’ नाम का यह युवक श्रीलंका में हुए आतंकी हमलों की तरह भारत में भी बडा आतंकी हमला करने के षडयंत्र को अंजाम देने के लिए काम कर रहा था| उसकी गिरफ्तारी से बडी अनहोनी टल चुकी है और उससे की जा रही जांच से आतंकियों के अन्य षडयंत्रों की भी जानकारी उजागर हुई है|

अप्रैल २८ के रोज केरला में कासरगोड और पल्लाकड में ‘एनआईए’ ने छापे किए थे| इस दौरान तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया| उनके पास से आपत्ति जनक सामान बरामद किया गया| यह तिनों युवक भारत में मौजूद ‘आईएस’ के मोड्युल से जुडे होने की बात प्राथमिक जांच में स्पष्ट हुई| पल्लकड से गिरफ्तारी हुई ‘रियास ए’ यानी रियास अबू बकर उर्फ अबू दुजाना ने जांच के दौर बडी साजिश के लिए काम करने की कबुली दी है| श्रीलंका में आतंकी हमला करके २५० से अधिक लोगों की बलि लेनेवाला ‘जहरान हाशिम’ मेरा हिरो है, ऐसा रियास ए ने जांच अधिकारियों को बताया| केरला में आत्मघाती हमलें करके हमें भी ऐसी ही खलबली मचाने की इच्छा थी, यह कबुली रियास ए ने दी है|

पिछले वर्ष से रियास ने जहरान हाशिम की जानकारी प्राप्त करना शुरू किया था| उसके उकसानेवाले भाषण भी इंटरनेट पर सून हा था| साथ ही ‘आईएस’ के हस्तकों के साथ भी रियास ने संपर्क बनाया था| अब्दुल रशिद अब्दुलाला के प्रक्षोभक भाषण का भी रियास पर असर हुआ था| अब्दुल रशिद अब्दुल्ला केरला में ‘आईएस कासरगोड मोड्युल’ का प्रमुख समझा जा रहा है|

वर्ष २०१६ में कासरगोड और पल्लकडम में महिने के अंतराल में २२ लोग गायब हुए थे| यह सभी अफगानिस्तान पहुंचकर ‘आईएस’ में शामिल होने की जानकारी सामने आयी थी| इस के पिछे अब्दुल रशिद अब्दुल्ला होने की बात कही जा रही है|

उसके मोड्युल की जांच करते समय ‘एनआईए’ को रियास ए की जानकारी प्राप्त हुई| अप्रैल २८ के रोज किए छापे में एनआईए को काफी बडी जानकारी प्राप्त हुई है| इसी से केरला में आतंकी हमला करने की साजिश का पर्दाफाश हुआ है| रियास ए यह अब्दुल कयूम उर्फ अब्दुल खालिद नाम के दहशतगर्द के संपर्क में था| वर्तमान में अब्दुल कयूम सीरिया में होने की बात कही जा रही है|

इंटरनेट का इस्तेमाल करके ‘रियास ए’ ने उससे संपर्क बढाया था| इस वजह से केरला में छिपे आतंकियों के संबंध अंतरराष्ट्रीय आतंकी संगठनों के साथ होने की बात सामने आ रही है और रियास ए और अन्य आतंकियों की जांच से और भी चौकानेवाली जानकारी सामने आने की कडी संभावना है|

श्रीलंका में हुए आतंकी हमले के बाद शुरू हुए जांच से एक बडे आतंकी हमले की साजिश का पर्दाफाश हुआ है| साथ ही आतंकी संगठन भारत में बडे आतंकी हमलें करने की कडी कोशिश कर रहे है, यह बात इससे फिर एक बार स्पष्ट हुई है|