कोरोनावायरस ने युरोप में मचाई तबाही

कोरोनावायरस ने युरोप में मचाई तबाही

रोम – गत चौबीस घण्टों में युरोपीय देशों में कोरोनावायरस से दो हज़ार से भी अधिक लोगों की जानें गयीं हैं। वहीं, दिनभर में युरोप में इस संक्रमण से बाधित हुए तक़रीबन पंद्रह हज़ार नये मरीज़ दर्ज़ हुए हैं। इटली, स्पेन, फ्रान्स इन तीन देशों की परिस्थिति बहुत ही भयंकर बनी होकर, स्पेन में एक […]

Read More »

कोरोनावायरस के युरोप में लगभग १२ हज़ार मृत

कोरोनावायरस के युरोप में लगभग १२ हज़ार मृत

गत चौबीस घण्टों में कोरोनावायरस ने इटली में ७४३ लोगों की जान ली है; वहीं, स्पेन में इस वायरस ने ७३८ लोग मृत हुए हैं। इस कारण इटली के बाद स्पेन के कुल मृतकों की संख्या चीन से अधिक हुई है। फ्रान्स, ब्रिटन, नेदरलॅंड, बेल्जियम इन देशों में भी मृतकों की संख्या तेज़ी से बढ़ […]

Read More »

समय की करवट (भाग ८५) – ‘ब्रेझनेव्ह-कोसिजिन’ कालखंड

समय की करवट (भाग ८५) – ‘ब्रेझनेव्ह-कोसिजिन’ कालखंड

‘समय की करवट’ बदलने पर क्या स्थित्यंतर होते हैं, इसका अध्ययन करते हुए हम आगे बढ़ रहे हैं। इसमें फिलहाल हम, १९९० के दशक के, पूर्व एवं पश्चिम जर्मनियों के एकत्रीकरण के बाद, बुज़ुर्ग अमरिकी राजनयिक हेन्री किसिंजर ने जो यह निम्नलिखित वक्तव्य किया था, उसके आधार पर दुनिया की गतिविधियों का अध्ययन कर रहे […]

Read More »

समय की करवट (भाग ८४) – किसिंजर का ‘रिअलपॉलिटिक’

समय की करवट (भाग ८४) – किसिंजर का ‘रिअलपॉलिटिक’

‘समय की करवट’ बदलने पर क्या स्थित्यंतर होते हैं, इसका अध्ययन करते हुए हम आगे बढ़ रहे हैं। इसमें फिलहाल हम, १९९० के दशक के, पूर्व एवं पश्चिम जर्मनियों के एकत्रीकरण के बाद, बुज़ुर्ग अमरिकी राजनयिक हेन्री किसिंजर ने जो यह निम्नलिखित वक्तव्य किया था, उसके आधार पर दुनिया की गतिविधियों का अध्ययन कर रहे […]

Read More »

समय की करवट (भाग ८३) – अरब-इस्रायल विवाद

समय की करवट (भाग ८३) – अरब-इस्रायल विवाद

‘समय की करवट’ बदलने पर क्या स्थित्यंतर होते हैं, इसका अध्ययन करते हुए हम आगे बढ़ रहे हैं। इसमें फिलहाल हम, १९९० के दशक के, पूर्व एवं पश्चिम जर्मनियों के एकत्रीकरण के बाद, बुज़ुर्ग अमरिकी राजनयिक हेन्री किसिंजर ने जो यह निम्नलिखित वक्तव्य किया था, उसके आधार पर दुनिया की गतिविधियों का अध्ययन कर रहे […]

Read More »

समय की करवट (भाग ८२) – किसिंजर का उदय

समय की करवट (भाग ८२) – किसिंजर का उदय

‘समय की करवट’ बदलने पर क्या स्थित्यंतर होते हैं, इसका अध्ययन करते हुए हम आगे बढ़ रहे हैं। इसमें फिलहाल हम, १९९० के दशक के, पूर्व एवं पश्चिम जर्मनियों के एकत्रीकरण के बाद, बुज़ुर्ग अमरिकी राजनयिक हेन्री किसिंजर ने जो यह निम्नलिखित वक्तव्य किया था, उसके आधार पर दुनिया की गतिविधियों का अध्ययन कर रहे […]

Read More »

समय की करवट (भाग ८१) – व्हिएतनाम युद्ध : रसायन ‘शस्त्र’

समय की करवट (भाग ८१) – व्हिएतनाम युद्ध : रसायन ‘शस्त्र’

‘समय की करवट’ बदलने पर क्या स्थित्यंतर होते हैं, इसका अध्ययन करते हुए हम आगे बढ़ रहे हैं। इसमें फिलहाल हम, १९९० के दशक के, पूर्व एवं पश्चिम जर्मनियों के एकत्रीकरण के बाद, बुज़ुर्ग अमरिकी राजनयिक हेन्री किसिंजर ने जो यह निम्नलिखित वक्तव्य किया था, उसके आधार पर दुनिया की गतिविधियों का अध्ययन कर रहे […]

Read More »

समय की करवट (भाग ८०) – व्हिएतनाम युद्ध तो ख़त्म हुआ, लेकिन….

समय की करवट (भाग ८०) – व्हिएतनाम युद्ध तो ख़त्म हुआ, लेकिन….

‘समय की करवट’ बदलने पर क्या स्थित्यंतर होते हैं, इसका अध्ययन करते हुए हम आगे बढ़ रहे हैं। इसमें फिलहाल हम, १९९० के दशक के, पूर्व एवं पश्चिम जर्मनियों के एकत्रीकरण के बाद, बुज़ुर्ग अमरिकी राजनयिक हेन्री किसिंजर ने जो यह निम्नलिखित वक्तव्य किया था, उसके आधार पर दुनिया की गतिविधियों का अध्ययन कर रहे […]

Read More »

समय की करवट (भाग ७९) – व्हिएतनाम : ‘गल्फ़ ऑफ़ टॉनकिन’

समय की करवट (भाग ७९) – व्हिएतनाम : ‘गल्फ़ ऑफ़ टॉनकिन’

‘समय की करवट’ बदलने पर क्या स्थित्यंतर होते हैं, इसका अध्ययन करते हुए हम आगे बढ़ रहे हैं। इसमें फिलहाल हम, १९९० के दशक के, पूर्व एवं पश्चिम जर्मनियों के एकत्रीकरण के बाद, बुज़ुर्ग अमरिकी राजनयिक हेन्री किसिंजर ने जो यह निम्नलिखित वक्तव्य किया था, उसके आधार पर दुनिया की गतिविधियों का अध्ययन कर रहे […]

Read More »

समय की करवट (भाग ७८) – व्हिएतनाम : अमरीका का हस्तक्षेप

समय की करवट (भाग ७८) – व्हिएतनाम : अमरीका का हस्तक्षेप

‘समय की करवट’ बदलने पर क्या स्थित्यंतर होते हैं, इसका अध्ययन करते हुए हम आगे बढ़ रहे हैं। इसमें फिलहाल हम, १९९० के दशक के, पूर्व एवं पश्चिम जर्मनियों के एकत्रीकरण के बाद, बुज़ुर्ग अमरिकी राजनयिक हेन्री किसिंजर ने जो यह निम्नलिखित वक्तव्य किया था, उसके आधार पर दुनिया की गतिविधियों का अध्ययन कर रहे […]

Read More »