अमरिका को पाकिस्तान के बारे में सभी विकल्प खुले – अमरिका के वरिष्ठ अधिकारी का दावा

वाशिंगटन: अमरिका के राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प इनके सामने पाकिस्तान के बारे में सभी विकल्प खुले होने का सूचक इशारा व्हाइट हाउस ने दिया है। १ दिन पहले अमरिका ने पाकिस्तान को दिए जाने वाले लगभग २ अब्ज डॉलर्स की लष्करी सहायता रोकने की घोषणा की थी। उसके बाद हमें अमरिका की सहायता की जरूरत ना होने का सुर पाकिस्तान ने लगाया था। उस पर अमरिका ने सभी पर्याय खुले हैं, ऐसा इशारा देकर पाकिस्तान को नए से समझाने का प्रयत्न किया है।

 

पाकिस्तान, विकल्प खुले, लष्करी सहायता, रोकने, ट्रम्प,  घोषणा, अमरिका, अफगानिस्तान

अफगानिस्तान में तालिबान और हक्कानी नेटवर्क के आतंकवादियों पर पाकिस्तानने कठोर कारवाई नहीं की, तो राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प इनके सामने पाकिस्तान के बारे में सभी विकल्प खुले होंगे, ऐसा कड़ा इशारा एक वरिष्ठ अधिकारियों दिया है। माध्यमों से चर्चा करते हुए इस अधिकारी ने यह दावा किया है और पाकिस्तान पर अमरिका अधिक आक्रामक कारवाई करेगी, ऐसा सूचित किया है। इस क्षेत्र के एवं अपने हित के लिए पाकिस्तान आतंकवादियों पर कारवाई करनी ही होगी, ऐसा अमरिका का कहना है। अगर पाकिस्तानने यह कारवाई करने के लिए तैयार नहीं हो, तो अमरिका एक तरफा यह कारवाई कर सकता है और उसके अनेक औजार उनके पास है, ऐसी याद उस अधिकारी ने दिलाई है।

अमरिका ने पाकिस्तान के लगभग २५ करोड़ डॉलर्स से अधिक रकम की वित्तीय सहायता रोकी थी। उसके बाद लगभग २ अब्ज डॉलर्स के लश्करी सहायता रोकने का निर्णय भी लिया था। उसके बाद भी पाकिस्तान में आतंकवादियों पर कारवाई करने की मांग न मानकर, उल्टा अमरिका भारत की भाषा बोल रहा है, ऐसा आरोप किया था। अमरिका से पाकिस्तान को इशारे दिए जा रहे थे। उस समय पाकिस्तान को चीन ने समर्थन दिया था। चीन की सहायता लेकर हम अमरिका के चुनौतियों का सामना कर सकते हैं, ऐसा बयान पाकिस्तान के विश्लेषक कर रहे हैं।

इस पृष्ठभूमि पर अमरिका का यह नया इशारा प्रसिद्ध हुआ है। अलग शब्दों में अमरिका पाकिस्तान को अनापेक्षित झटके दे सकता है, ऐसे संकेत इस वरिष्ठ अधिकारियों से दिए जा रहे हैं। पिछले कई महीनों से अमरिका ने पाकिस्तान को आतंकवादियों पर कारवाई की मांग करके पाकिस्तान का अपमान करने का एक भी अवसर नहीं छोड़ा है और अमरिका की यह मांग मंजूर न होने पर पाकिस्तान को बहुत बड़ा नुकसान हो सकता है, ऐसा दावा देश के लष्कर से संबंधित होने वाले कई सामरिक विश्लेषकों से किया जा रहा है।