‘पाकिस्तान, अफगानिस्तान में ‘आयएस’ की भर्ती’ : अमरिकी विदेशमंत्री रेक्स टिलरसन का दावा

वॉशिंग्टन, दि. २४: ‘इराक और सीरिया के संघर्ष में भारी नुकसान झेल रहे ‘आयएस’ द्वारा अब, पाकिस्तान और अफगानिस्तान के युवाओं को अपने संगठन में शामिल कराने की तैयारी शुरू है| लेकिन अमरीका इन कोशिशों को सफल नहीं होने देगा’ ऐसी चेतावनी अमरीका के विदेशमंत्री रेक्स टिलरसन ने दी| इसी दौरान, पाकिस्तान में आतंकी संगठनों के बढ़ते प्रभाव का अफगानिस्तान की सुरक्षा पर असर हो रहा है, ऐसी चिंता अफगानिस्तान के अमरिकी कमांडप्रमुख ने कुछ ही हफ्तों पहले जताई थी|

अमरीका में संपन्न हुई दसवीं ‘ग्लोबल कोएलिशन मिनिस्ट्रियल मीटिंग’ में विदेशमंत्री टिलरसन ने, ‘आयएस’ और अल कायदा ये आतंकी संगठन अपना प्रभाव बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं, यह जानकारी देकर चिंता जताई| इराक तथा सीरिया के संघर्ष में अमरीका और दोस्त राष्ट्रों ने ‘आयएस’ की रीड़ की हड्डी तोड दी है| ‘आयएस’ के अहम ठिकानों पर हमले होने के बाद इराक, सीरिया से भाग चुके ‘आयएस’ के आतंकी जहाँ जगह मिलें, वहाँ भाग रहे हैं, ऐसा टिलरसन ने कहा|

इनमें से कुछ आतंकी निर्वासितों की आड़ में युरोप में दाखिल होकर हमले कर रहे हैं| वहीं, कुछ आतंकी पाकिस्तान, अफगानिस्तान में युवा चरमपंथियों को भर्ती कर संगठन बना रहे हैं, ऐसा अमरीका के विदेशमंत्री ने कहा| पाकिस्तान और अफगानिस्तान में अपने प्रभाव को बढ़ाने के लिए ‘आयएस’ ने इन देशों में हमले करना शुरू किया है| युवा भी दुनिया भर में ऐसे ही हमले करें, इसलिए ‘आयएस’ ये हमले कर रहा है, ऐसा दावा विदेशमंत्री टिलरसन ने किया| लेकिन अमरीका ‘आयएस’ का प्रभाव बढ़ने नहीं देगी, ऐसा कहते हुए अमरीका के विदेशमंत्री ने आतंकी संगठन पर कार्रवाई के संकेत दिए|

इसी दौरान, ‘आयएस’ पर कार्रवाई करते हुए इस संगठन का प्रभाव कम किया होने का दावा पाकिस्तान की सेना ने इससे पहले किया था| लेकिन पिछले ही महीने, पाकिस्तान के लाहोर शहर में एक प्रार्थनास्थल पर हुए आत्मघाती हमले की ज़िम्मेदारी का स्वीकार ‘आयएस’ ने किया था| इस हमले में ९० लोगों की जानें गई थीं| वहीं, इससे पहले ‘आयएस’ ने अपनी विद्वेषी सोच का प्रसार करनेवाले पोस्टर्स कराची, लाहोर, इस्लामाबाद की सड़कों पर लगाए थे| शुरू में, अपने देश में ‘आयएस’ का अस्तित्व ना होने का दावा करनेवाला पाकिस्तान, अब अपनी सुरक्षा को इस आतंकी संगठन से सबसे बड़ा खतरा होने का ड़र जता रहा है|