अमरिका को छोड़कर अन्य देश ईरान परमाणु अनुबंध का पालन करेंगे – रशियन विदेश मंत्री का आश्वासन

तृतीय महायुद्ध, परमाणु सज्ज, रशिया, ब्रिटन, प्रत्युत्तर

व्हिएन्ना – ईरान के साथ हुए परमाणु अनुबंध का पालन करने के लिए अमरिका छोड़कर अन्य सभी देश और ईरान के बीच स्वतंत्र यंत्रणा निर्माण की जाएगी और सभी देश उसे लागू करेंगे, ऐसा आश्वासन रशिया के विदेश मंत्री सर्जेई लावरोव ने दिया है। गुरुवार को व्हिएन्ना में ईरान और ईरान परमाणु अनुबंध के अमरिका छोड़कर अन्य देशों की स्वतंत्र बैठक आयोजित की गई थी। इस बैठक में अमरिका की आलोचना करते हुए सभी सहभागी देशों ने ईरान के साथ का व्यापार और अन्य प्रावधानों का पालन करने का निर्णय लिया है। अमरिकी राष्ट्राध्यक्ष डोनाल्ड ट्रम्प ने ईरान को सहकार्य करने वाले देशों के खिलाफ प्रतिबन्ध लगाने की चेतावनी इससे पहले ही दी थी।

व्हिएन्ना में हुई बैठक में ईरान के साथ साथ रशिया, चीन, ब्रिटन, फ़्रांस, जर्मनी और यूरोपीय महासंघ के विदेश मंत्री उपस्थित थे। अमरिका ईरान के साथ के परमाणु अनुबंध से बाहर निकलने के बाद अन्य सभी देशों ने परमाणु अनुबन्ध कायम रखने के लिए जोरदार कोशिशें शुरू की हैं। यूरोपीय देशों ने शुरुआत के समय में अमरिका अपनी भूमिका बदले इसके लिए कोशिश भी की थी। लेकिन ट्रम्प ने अपनी भूमिका पर कायम रहने का आश्वासन देने के बाद यूरोपीय देशों ने रशिया और चीन की तरफ से अनुबंध बचाने के लिए चल रही कोशिशों को समर्थन देने का फैसला किया।

परमाणु अनुबंध

दूसरी तरफ ईरान ने अमरिका के पीछे हटने पर आलोचना करते हुए, यूरोप और अन्य देश सहुलतें कायम रखें अन्यथा वापस परमाणु कार्यक्रम शुरू करेंगे, ऐसी धमकी दी थी। अनुबंध होने के बाद भी ईरान ने गुप्त रूपसे परमाणु कार्यक्रम जारी रखने की जानकारी भी हाल ही में सामने आई थी। ईरान के साथ सहकार्य कायम रखा तो अन्य देशों को बड़ा नुकसान होगा, असी चेतावनी भी अमरिका ने दी थी।

इस पृष्ठभूमि पर, व्हिएन्ना में अमरिका को छोड़कर हुई बैठक और उसमें हुआ एकमत ध्यान आकर्षित करता है। रशिया के विदेश मंत्री ने दी हुई जानकारी में, ईरान और परमाणु अनुबंध में शामिल अन्य सहभागी देशों में व्यापार और अन्य सहकार्य कायम रखने के लिए विशेष यंत्रणा निर्माण की जाने वाली है, ऐसा कहा है। उसके लिए अनुबंध की रूपरेषा बनाने वाला विशेषज्ञों का संयुक्त आयोग योजना बनाए, ऐसा सिफारिश भी बैठक में की गई है।