राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प की ‘न्यूक्लिअर पॉवर्स’ पर प्रतिबन्ध लगाएं – अमरिका की ‘न्यूक्लिअर लाँच सिस्टिम’ के भूतपूर्व अधिकारीयों की संसद की तरफ मांग

वॉशिंग्टन: अमरिका के राष्ट्राध्यक्ष और ‘कमांडर-इन-चीफ’ डोनाल्ड ट्रम्प की बकवास, भड़काने वाले वक्तव्य और गैरजिम्मेदार नीतियों की पृष्ठभूमि पर परमाणु हमलों का खतरा अधिक बढ़ गया है और उसे टालने के लिए राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प की ‘न्यूक्लिअर पॉवर्स’ पर प्रतिबन्ध लगाए जाएं, ऐसी माँग अमरिका के भूतपूर्व अधिकारीयों ने की है। अमरिका के ‘न्यूक्लिअर लाँच सिस्टिम’ में हिस्सा लेने वाले १७ भूतपूर्व अधिकारीयों ने इस मुद्दे पर संसद को खुलकर खत लिखा है और उसमे उत्तर कोरिया के ‘न्यूक्लिअर बटन’ को लेकर किए गए वक्तव्य का सन्दर्भ दिया गया है।

न्यूक्लिअर पॉवर्स, प्रतिबन्ध लगाए, परमाणु हमले, डोनाल्ड ट्रम्प, दावा, अमरिका, रशिया, चीन

सन २०१६ में अमरिका के राष्ट्राध्यक्ष पद के चुनाव अंतिम पड़ाव पर थे, तब अमरिकी अधिकारीयों के एक समूह ने उस समय राष्ट्राध्यक्ष पद के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रम्प की क्षमता पर चिंता व्यक्त करने वाला निवेदन प्रसिद्द किया गया था। ‘न्यूक्लिअर अटैक’ के अधिकार न दिए जाएं, ऐसा उस निवेदन में कहा गया था। उसका उल्लेख करके ‘न्यूक्लिअर लाँच सिस्टिम’ के भूतपूर्व अधिकारीयों ने राष्ट्राध्यक्ष बने ट्रम्प की क्षमता पर सवाल खड़े किए थे।

खत में राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प अंतर्राष्ट्रीय राजनीति और राजनीतिक घटनाक्रमों के बारे में अज्ञानी हैं और परमाणु हमले के बारे में बहुत ही खतरनाक तरीके से धमकियाँ दे रहे हैं, ऐसा दावा किया गया है। ट्रम्प के भडकाने वाले वक्तव्यों की वजह से अमरिका और उत्तर कोरिया संघर्ष की स्थिति में पहुँच गए हैं, ऐसा आरोप करके ‘न्यूक्लिअर बटन’ और ‘फायर एंड फ्युरी’ इन शब्दों का इस्तेमाल करके किए गए वक्तव्य गैरजिम्मेदार हैं ऐसा इस खत में कहा गया है। उसी समय ट्रम्प अपने इस वक्तव्य का परिणाम हो रहा है, ऐसा समझ रहे हैं, ऐसी चिंता भी व्यक्त की गा है।

न्यूक्लिअर पॉवर्स, प्रतिबन्ध लगाए, परमाणु हमले, डोनाल्ड ट्रम्प, दावा, अमरिका, रशिया, चीन

यह सभी घटनाएँ अमरिका ‘न्यूक्लिअर लौंच’ की प्रक्रिया में दोष दिखाने वाली हैं और उससे अमरिका के साथ साथ दुनिया को बड़े संकट का खतरा है ऐसे संकेत इस खत में दिए गए हैं। एक बार राष्ट्राध्यक्ष ने आदेश दिए तो अगले ३० मिनट में अमरिकी परमाणु रशिया, चीन अथवा उत्तर कोरिया पर गिर सकते हैं और उन्हें कोई भी रोक नहीं सकता है, इन शब्दों में ट्रम्प के आदेश खतरनाक साबित हो सकते हैं, इसका एहसास अधिकारीयों ने इस खत में कराके दिया है।

ट्रम्प के पास के ‘न्यूक्लिअर पॉवर्स’ के अधिकारों को रोकने के लिए अमरिकी संसद के पास कई विकल्प हैं। उसमें रक्षा मंत्री और अटोर्नी जनरल को परमाणु हमले के आदेश पर मुहर लगाने के अधिकार देना, संसद के सामने ‘डिक्लरेशन ऑफ़ वॉर’ की घोषणा करने का बंधन लगाना अथवा ‘न्यूक्लिअर फर्स्ट यूज’ इस नीति को बदलना, जैसे प्रावधानों का समावेश होने की बात का भूतपूर्व अधिकारीयों ने इस खत में उल्लेख किया है।

अमरिका में पिछले महीने से राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प के परमाणु हमले के अधिकारों में कटौती करने की गतिविधियाँ शुरू हैं और इस बारे में एक प्रस्ताव भी कुछ संसद सदस्यों ने तैयार किया है, ऐसा कहा जा रहा है। पिछले वर्ष नवम्बर महीने में, अमरिका के ‘स्ट्रॅटेजिक कमांड’ के प्रमुख ने राष्ट्राध्यक्ष डोनाल्ड ट्रम्प ने अगर परमाणु हमले का आदेश दिया और वह आदेश अवैध है , ऐसा लगा, तो हम उसका विरोध करेंगे, ऐसा सनसनीखेज दावा भी किया था।