चीन के परमाणु शस्त्र वाहक बॉम्बर्स तैवान पर मंडराए – चीन के युद्धाभ्यास पर तैवान का कड़ा इशारा

तृतीय महायुद्ध, परमाणु सज्ज, रशिया, ब्रिटन, प्रत्युत्तर

बीजिंग: अमरिका के साथ राजनैतिक सहयोग प्रस्थापित करनेवाले तैवान के हवाई सीमा में चीन ने परमाणु शस्त्र वाहक बॉम्बर्स तथा लड़ाकू विमान रवाना करके तैवान के जनतंत्रवादी सरकार को धमकाया है। साथ ही चीन का युद्धाभ्यास तैवान के लिए इशारा है। इसकी वजह से भविष्य में हम तुम्हें पूर्व सूचना नहीं दी, ऐसी शिकायत नहीं कर सकते, ऐसे शब्दों में चीन के वायुसेना ने तैवान को सूचित किया है। चीन ने तैवान को दिए इस धमकी की वजह से साउथ चाइना सी के तनाव में अधिक बढ़ोतरी हो रही है।

पिछले हफ्ते में तैवान ने किये युद्धाभ्यास को प्रतिउत्तर के तौर पर चीन ने पिछले ३० दिनों से तैवान की सीमा में सागरी युद्धाभ्यास शुरू किया है। इस युद्धाभ्यास के पहले दिन चीन ने विनाशीका और हेलीकॉप्टर का लाइव फायरिंग का अभ्यास किया था। इस अभ्यास के विषय में चीन सरकार ने जानकारी प्रसिद्ध नहीं की। चीन के माध्यमों ने इस अभ्यास का वीडियो प्रसिद्ध किया था। पर शुक्रवार को चीन के हवाई दल ने तैवान की सीमा में किए अभ्यास की जानकारी देने वाला तथा तैवान को धमकियां देने वाले वीडियो प्रसिद्ध किए गए हैं।

चीन के वायु सेना ने तैवान में सबसे अधिक कहे जानेवाले होकीएन इस भाषा में इस वीडियो को प्रसारित किया है। सामर्थ्यशाली देश की तरफ अपने सार्वभौम विभाग की सुरक्षा के लिए सामर्थ्यशाली लष्कर होना आवश्यक है, ऐसा संदेश इस वीडियो में है। तथा इसमें अपने एच-१६के इस बॉम्बर्स विमानों ने तैवान पर मंडराना योग्य होने का दावा किया है। उसके बाद चीन के वायुसेना में वैमानिको ने तैवान पर चीन का दावा होने की बात इस वीडियो में कही है।

हमारी मातृभूमि हमारी ह्रदय में होकर तैवान यह किसी रत्न जैसा हमारे मातृभूमि के मध्य भाग में है, ऐसा चीन के वायुसेना के वैमानिक झै पेसांग ने वीडियो द्वारा संदेश दिया है। उसके बाद पेसांग ने तैवान को संबोधित करते हुए इशारा दिया है। अपने मातृभूमि की नदियां और पर्वत की रक्षा करना यह हमारा परम कर्तव्य है, ऐसा वैमानिकों ने सूचित किया है। इस वीडियो में चीन के वायुसेना के हेलीकॉप्टर लाइव फायरिंग का अभ्यास करते हुए दिखाये है।

इस पर तैवान से प्रतिक्रिया आयी है और तैवान के वायुसेना ने भी वीडियो प्रसिद्ध करके चीन को इशारा आ गया है। इसमें तैवान के वायुसेना में अमेरिकन बनावट के एफ-१६ तथा फ्रान्स के मिराज लड़ाकू विमान अभ्यास करते हुए दिखाए गए हैं। तैवान के जनतंत्रवादी और स्वतंत्रता की रक्षा करने की क्षमता और आत्मविश्वास तैवान के पास है, ऐसा इस वीडियो में सूचित किया है। इससे पहले भी तैवान ने चीन के चुनौतियों का मुकाबला करने के लिए अपने लष्कर सज्ज होने की बात घोषित की थी।

तैवान के राष्ट्राध्यक्ष त्साई इंग वेन फिलहाल अफ्रीकन देशों के दौरे पर है। अफ्रीका में कई देशों के साथ राजनीतिक सहयोग प्रस्थापित करने के लिए त्साई इनका यह दौरा होने की बात कही जाती है। अफ्रीका के इस दौरे पर निकलने से पहले तैवान के राष्ट्राध्यक्ष ने पिछले हफ्ते में तैवान के नौदल के अभ्यास का परीक्षण किया था। तथा अपने द्वीप समूह के क्षेत्र में चीन ने शुरू किया युद्धाभ्यास पर तैवान ने टिप्पणियां की थी।

दौरान अमरिका और तैवान में बढ़ते लष्करी और राजनैतिक सहयोग की पृष्ठभूमि पर चीन ने तैवान को धमकाया है। महीने पहले अमरिका के राष्ट्राध्यक्ष ने तैवान ट्रेवल एक्ट यह महत्वपूर्ण विधेयक मंजूर कराया था। इसकी वजह से अमरिका के नेता एवं अधिकारी अपने समकक्ष नेता और अधिकारियों से उजागर तौर पर मिल सकते हैं। यह विधेयक मंजूर करके अमरिका ने तैवान को स्वतंत्र देश का दर्जा दिया है, ऐसा चीन का कहना है।