शरणार्थियों को स्वीकारने से नेदरलैंड ने किया इन्कार; युरोपीय महासंघ में दरार

तृतीय महायुद्ध, परमाणु सज्ज, रशिया, ब्रिटन, प्रत्युत्तर

एम्स्टर्डम – यूरोप के अन्य देशों ने योग्य प्रमाण में शरणार्थियों को स्वीकारने की तैयारी दिखाई, तो ही नेदरलैंड भी शरणार्थियों का स्वीकार करेगा अन्यथा नहीं, ऐसे शब्दों में नेदरलैंड ने शरणार्थियों को स्वीकारने से इनकार किया है| माल्टा में रुके हुए एक जहाज पर शरणार्थियों के आश्रय का मुद्दा सामने आया है और नेदरलैंड जैसे प्रमुख देश ने किया इनकार महासंघ के लिए बहुत बड़ा झटका साबित हो रहा है| नेदरलैंड के इनकार से शरणार्थियों के मुद्दे पर यूरोपीय देशों में दरार अधिक बढने के संकेत मिल रहे है|

पिछले महीने में ३२ शरणार्थियों का समावेश होने वाला ‘सी-वॉच ३’ यह जहाज माल्टा में रोका गया था| यह जहाज स्वयंसेवी संस्था का होकर, यह संस्था नेदरलैंड में होने की बात सामने आ रही है| जिसकी वजह से शरणार्थियों की जिम्मेदारी नेदरलैंड ले, ऐसी मांग की गई थी| पर नेदरलैंड ने यह मांग ठुकराई है और अन्य यूरोपीय देशों ने शरणार्थी लिए तो ही हम भी लेंगे, ऐसी चेतावनी दी है|

नेदरलैंड के सिक्योरिटी एंड जस्टिस मिनिस्ट्री के प्रवक्ता ने इस बारे में भूमिका स्पष्ट की है| जिसमें अपना देश अन्य यूरोपीय देशों की तरह चुनिंदा शरणार्थी का स्वीकार करेगा ऐसा कहा है| नेदरलैंड की भूमिका महासंघ के लिए जबरदस्त झटका ठहरी है|

४ वर्षों पहले यूरोप में बड़ी तादाद में शरणार्थी के झुंड दाखिल होते समय ‘ओपन डोर पॉलिसी’ की घोषणा की गई थी| उस समय जर्मनी, फ्रान्स, इन प्रमुख देशों के साथ बेल्जियम, नेदरलैंड, ऑस्ट्रेलिया, नॉर्वे स्वीडन इन सभी देशों ने शरणार्थियों को स्वीकार करने में मंजूरी दी थी| पर लगभग २५ लाख से अधिक शरणार्थियों की घुसपैठ के बाद अब यूरोपीय देशों ने यह भूमिका बदलने की बात सामने आ रही है|

जर्मनी ने अबतक शरणार्थी स्वीकारना शुरू हो रखा है| फिर भी उस पर बड़े तादाद में प्रतिबंध जारी किए हैं| ऑस्ट्रिया, बेल्जियम, स्वीडन इन देशों ने उजागर तौर पर शरणार्थियों के विरोध में भूमिका ली है| अब उसमें नेदरलैंड का समावेश होने से अधिकतम यूरोप शरणार्थियों के विरोध में जाने की बात स्पष्ट तौर पर सामने आ रही है| शरणार्थियों को इनकार करनेवाले देशों में हो रही बढ़ोतरी यूरोपीय महासंघ के लिए झटका होकर, महासंघ की धारणा पर गंभीर प्रश्न उपस्थित किए जा रहे हैं|