‘अवैध शरणार्थियों के उद्योग’ को इटली साथ नहीं देगा – इटली के अंतर्गत रक्षा मंत्री मॅटिओ सॅल्व्हिनी की कठोर चेतावनी

रोम: कुछ दिनों पहले ६३० शरणार्थियों को लेकर जाने वाले जहाज को नकारने वाले इटली ने फिर एक बार इस मुद्देपर आक्रामक भूमिका अपनाई है। इटली के अंतर्गत रक्षा मंत्री मॅटिओ सॅल्व्हिनी ने शरणार्थियों को लेकर आने वाले नेदरलैंड के दो जहाजों को प्रवेश नकारने की जानकारी दी है। यह जानकारी देते समय, इटली अवैध शरणार्थियों के उद्योग को साथ नहीं देगा, ऐसी कठोर चेतावनी भी दी है।

अवैध शरणार्थियों, उद्योग, इटली, साथ नहीं देगा, अंतर्गत रक्षा मंत्री, मॅटिओ सॅल्व्हिनी, कठोर चेतावनी, रोम, ऑस्ट्रिया, हंगेरीपिछले हफ्ते में इटली की सरकार ने ‘एसओएस मेडिटेराने’ इस स्वयंसेवी संस्था के ‘ऍक्वारिअस’ इस जहाज को इटली के बंदरगाह में प्रवेश करने से इन्कार किया था। यह जहाज लीबिया से ६३० शरणार्थियों को लेकर आ रहा था। सॅल्व्हिनी ने अपना देश इसके आगे इस तरह से दाखिल होनेवाले शरणार्थियों को स्वीकार नहीं करेगा, ऐसा कहकर इटली की यंत्रणाओं को जहाज को वापस भेजने के आदेश दिए थे।

सॅल्व्हिनी के इस आदेश ने यूरोपीय संघ में खलबली मचा दी थी। पिछले तीन सालों में लाखों शरणार्थियों को स्वीकार करने वाले इटली ने इसके खिलाफ खुलकर भूमिका अपनाने की वजह से शरणार्थियों के मुद्दे को लेकर महासंघ में दरार बढ़ गई है, ऐसा दिखाई दे रहा है। ऑस्ट्रिया, हंगेरी, क्रोएशिया के साथ साथ कई देशों की तरफ से इटली की भुमिका को समर्थन मिल रहा है, इस वजह से शरणार्थियों का समर्थन करने वाले जर्मनी और महासंघ के नेतृत्व पर जबरदस्त दबाव आया है, ऐसा दिखाई दे रहा है।

अवैध शरणार्थियों, उद्योग, इटली, साथ नहीं देगा, अंतर्गत रक्षा मंत्री, मॅटिओ सॅल्व्हिनी, कठोर चेतावनी, रोम, ऑस्ट्रिया, हंगेरीइटली की नई सरकार ने अपनाई इस भूमिका को जर्मनी और फ़्रांस जैसे देशों से भी समर्थन मिल रहा है। इस वजह से महासंघ की बुनियाद हिल रही है। ‘ऍक्वारिअस’ जहाज को प्रवेश करने से इन्कार करने की घटना का असर दिखाई दे रहा है, ऐसे में अब उसके व्यतिरिक्त दो जहाजों को शरणार्थियों के साथ ही प्रवेश करने से इन्कार करने की घटना सामने आई है। इटली के अंतर्गत रक्षा मंत्री ने अपने सोशल मीडिया पर डाले पोस्ट में यह जानकारी दी है।

नेदरलैंड के झंडा वाले लाईफलाइन और सीफुक्स यह दो जहाज लीबिया के किनारे से तस्करी करने वाले समूहों ने छोड़े शरणार्थियों को लेकर जा रहे थे। इन जहाजों की व्यवस्था देखने वालों को इसकी ठीक से जानकारी होनी चाहिए थी की, इटली अवैध शरणार्थियों के उद्योग में कभी भी शामिल नहीं होने वाला है। इस वजह से उन्होंने इटली के बंदरगाहों को छोड़कर दूसरे देशों में जाना चाहिए, इन शब्दों में सॅल्व्हिनी ने अवैध शरणार्थियों को लेकर आने वाले दो नए जहाजों को प्रवेश नकारा है।

सॅल्व्हिनी की इस चेतावनी के बाद इटली के परिवहन मंत्री ने भी आक्रामक भूमिका लेकर, नेदरलैंड अपने जहाजों को मातृभूमि वापस बुलाए, ऐसी चेतावनी दी। ब्रुसेल्स में स्थित नेदरलैंड के दूतावास ने इन जहाजों का अपने देश में अधिकृत रिकॉर्ड नहीं है, ऐसा खुलासा किया है।