जम्मू-कश्मीर में हुई मुठभेड़ में ‘आईएसजेके’ के आतंकवादी ढेर – राज्य से संघर्षबंदी हटाने के बाद पहली बड़ी सफलता

मुंबई: जम्मू-कश्मीर से संघर्षबंदी हटाने के बाद सुरक्षादलों की आतंकवाद के खिलाफ की मुहीम को पहली बड़ी सफलता मिली है| इराक और सीरिया में धूम मचाने वाले ‘आईएस’ आतंकवादी संगठन से संलग्न ‘इस्लामिक स्टेट जम्मू एंड कश्मीर’ (आईएसजेके) के चार आतंकवादियों को सुरक्षा दलों ने मुठभेड़ में मार दिया है| इसमें ‘आईएसजेके’ का प्रमुख दावूद का समावेश है| इस मुठभेड़ में एक पुलिस जवान भी शहीद हुआ है|

जम्मू-कश्मीर, मुठभेड़, आईएसजेके, आतंकवादी ढेर, राज्य, संघर्षबंदी हटाने, पहली बड़ी सफलता, मुंबईजम्मू-कश्मीर में रमझान महीने के लिए लागू की गई संघर्षबंदी पॉंच दिनों पहले हटाई गई थी और फिरसे आतंकवाद के खिलाफ ऑपरेशन आलआउट शुरू किया गया था| इसके बाद दूसरे ही दिन चार आतंकवादी मुठभेड़ में मारे गए और बुधवार को और तीन आतंकवादियों को मौत के घाट उतारा गया था| शुक्रवार को सुरक्षा दल और आतंकवादियों के बीच और एक बड़ी मुठभेड़ हुई्|

जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग जिले के श्रीगुफवारा गॉंव में कुछ आतंकवादियों के छिपने की जानकारी सुरक्षा दलों को मिली थी| उसके बाद पुलिस और लष्कर ने संयुक्त कार्रवाई शुरू की और इस इलाके को घेर लिया था|

इस दौरान सुरक्षा दल और आतंकवादियों के बीच बड़ी मुठभेड़ हुई्| इस मुठभेड़ में एक पुलिस जवान शहीद हुआ, साथ ही एक नागरिक भी मारा गया| चार घंटों तक चली इस मुठभेड़ में चार आतंकवादी मारे गए्|

जम्मू-कश्मीर, मुठभेड़, आईएसजेके, आतंकवादी ढेर, राज्य, संघर्षबंदी हटाने, पहली बड़ी सफलता, मुंबईइन आतंकवादियों के मृतदेह मिले हैं और उनकी पहचान हु है, ऐसा जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिदेशक एस. पी. वैद ने कहा है| यह सभी आतंकवादी ‘इस्लामिक स्टेट जम्मू एंड कश्मीर’ (आईएसजेके) केथे, ऐसी जानकारी सामने आई है| खाड़ी देश और अब अफगानिस्तान में बड़े पैमाने पर आतंकवादी कार्रवाइयां करने वाले ‘आईएस’ से प्रभावित होकर, इस आतंकवादी संगठन की स्थापना की गई थी| इसके पहले कई बार जम्मू-कश्मीर में ‘आईएस’ के झंडे लहराते समय कुछ प्रदर्शक दिखाई दिए हैं|यह संगठन ‘आईएस’ से संलग्न था और हाल ही में इस संगठन में कुछ युवाओं के शामिल होने की जानकारी सामने आई थी|

मुठभेड़ में ‘इस्लामिक स्टेट जम्मू एंड कश्मीर’ का प्रमुख दाउद भी मारा गया है, इस वजह से सुरक्षा दलों को मिली यह बड़ी सफलता मानी जाती है| मुठभेड़ के दौरान पथराव और अफवाहों पर नियंत्रण पाने के लिए इंटरनेट और मोबाईल सेवा बंद रखी गई थी|