भारतीय सेना बडी कार्रवाई करते समय हिचकिचाएगी नही – पाकिस्तान को लष्कर प्रमुख जनरल रावत का इशारा

नई दिल्ली – पाकिस्तानी सेना ने स्नायपर का इस्तेमाल करके किए हमले में जम्मू-कश्मीर की नियंत्रण रेखापर तैनात सीमा सुरक्षा बल के अधिकारी को शहादत प्राप्त हुई थी| इस पर भारतीय लष्कर प्रमुख पाकिस्तान को अंतिम इशारा देते दिखाई दे रहे है| नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तान की करतुतें ऐसी ही शुरू रही तो भारतय लष्कर बडी कार्रवाई करने से डरेगा नही, यह चेतावनी लष्कर प्रमुख जनरल बिपीन रावत इन्होंने दी है| भारतीय लष्कर प्रमुख यह इशारा दे रहे थे तभी पाकिस्तान के लष्कर प्रमुख जनरल बाजवा इन्होंने पाकिस्तान सभी चुनौतीयों का सामना करने के लिए तैयार होने की बात कही है|

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इम्रान खान लगातार भारत के सामने बातचीत का प्रस्ताव रख रहे है| लेकिन, कश्मीर के नियंत्रण रेखापर पाकिस्तानी लष्कर की गोलाबारी और आतंकी गतिविधियां अभी तक रूकी नही है| ऐसी परिस्थिति में बातचीत कैसे हो सकती है, यह सवाल भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज इन्होंने किया है| वही, भारत के लष्कर प्रमुख ने नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तान की कार्रवाईंया शुरू रहती है तो भारतीय लष्कर बडी कार्रवाई करने से डरेगा नही, यह चेतावनी दी है| भारत की इस कार्रवाई में पाकिस्तान की बडी क्षति होगी, इसका एहसास भी लष्कर प्रमुख जनरल रावत इन्होंने पाकिस्तान को दिलाया है|

भारतीय लष्कर नियंत्रण रेखा पर पहले भी वर्चस्व बना कर था और आगे भी रहेगा, यह जनरल रावत इन्होंने स्पष्ट किया| भारतीय लष्कर प्रमुख यह इशारा दे रहे थे तभी, पाकिस्तान के लष्कर प्रमुख जनरल बाजवा इन्होंने अपना देश किसी भी आक्रमण का सामना करने के लिए तैयार होने का दावा किया| पाकिस्तान का लष्कर अंतर्गत और बाहरी सुरक्षा के लिए तैयार है और इसके लिए हमारी तैयारी भी हुई है, यह जनरल बाजवा ने कहा है| बलुचिस्तान के क्वेट्टा शहर में आयोजित एक कार्यक्रम में बोलते समय जनरल बाजवा ने यह दावा किया|

एक ओर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री भारत के साथ चर्चा करने के लिए प्रस्ताव रख रहे है| वही दुसरी ओर पाकिस्तान का लष्कर अपनी आदत के अनुसार कश्मीर की नियंत्रण रेखा पर गोलाबारी करके भारत को चुनौती दे रहा है|

पाकिस्तान की नीति में यह बडी विसंगति है और यह बात पर इस देश के कुछ मुत्सद्दी और विश्‍लेषक ध्यान दे रहे है| लेकिन प्रधानमंत्री इम्रान खान इनकी सरकार इस ओर ध्यान देने के लिए तैयार नही| लेकिन, यदि पाकिस्तान को वास्तव में विकास के राह पर आगे ले जाना है तो, भारत के साथ चर्चा करने से पहले प्रधानमंत्री इम्रान खान इन्हें पाकिस्तान लष्कर को नियंत्रण में लाकर बातचीत के लिए सही माहौल निर्माण करने की जिम्मेदारी संभालनी होगी, यह पाकिस्तान के पत्रकार भी कहने लगे है|