पाकिस्तान की गोलाबारी को भारतीय सेना का करारा प्रत्युत्तर

जम्मू/इस्लामाबाद – जम्मू-कश्मीर की नियंत्रण रेखा पर गोलाबारी करके युद्ध विराम का उल्लंघन कर रहे पाकिस्तान को भारतीय लष्कर ने अच्छा सबक सिखाया है| इस वजह से पाकिस्तान के लष्कर ने अपने जवानों को सतर्कता बरतने की चेतावनी दी है और नियंत्रण रेखा पर अपनी तैनाती में भी बढोतरी की है| उसी समय पाकिस्तान की यात्रा कर रहे संयुक्त राष्ट्रसंघ की आम सभा की अध्यक्षा ‘मारिया फर्नांडा एस्पिओनोसा’ के समक्ष भारत नियंत्रण रेखा पर गोलाबारी कर रहा है, यह तकरार भी पाकिस्तान के विदेश मंत्री ने रखी है|

जम्मू-कश्मीर में पुंछ की नियंत्रण रेखा पर गोलाबारी करके पाकिस्तानी लष्कर ने भारत को उकसाया था| उसके बाद भारत ने जोरदार प्रतिहमला शुरू किया है| इस वजह से ४८ घंटों में पाकिस्तान के पांच जवान ढेर हुए है और पाकिस्तान के बंकर्स भी भारतीय लष्कर ने ध्वस्त किए थे| उसके बाद पाकिस्तानी लष्कर ने पुंछ की नियंत्रण रेखा के निकट पाकिस्तान के कब्जे वाले क्षेत्र में अपनी तैनाती बढाई है| जिस जगह पर दो या तीन जवान तैनात थे वहां अब पाकिस्तान सेना ने दस जवान तैनात करने का समाचार है|

साथ ही भारतीय लष्कर के गोलाबारी से बचने के लिए मुमकिन हुआ तो जमीन पर ही रहे, यह सूचना भी पाकिस्तानी सेना ने अपने जवानों को की है| भारतीय सेना के आक्रामक प्रत्युत्तर की वजह से गोलाबारी करके युद्ध विराम का उल्लंघन कर रहे पाकिस्तानी लष्कर को उसकी बडी किमत चुकानी पड रही है, यह जानकारी पूर्व लष्करी अधिकारी दे रहे है| इसी लिए पाकिस्तानी लष्कर ने अपने जवानों को नियंत्रण रेखा पर सीमित गतिविधियां करने की सूचना की है, यह दावा भी इन अधिकारियों ने किया है|

इस दौरान संयुक्त राष्ट्रसंघ की आम सभा की अध्यक्ष ‘मारिया फर्नांडा एस्पिओनोसा’ फिलहाल पाकिस्तान की यात्रा कर रही है| उनके साथ हुई चर्चा के दौरान पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरेशी इन्होंने कश्मीर की नियंत्रण रेखा पर भारत गोलाबारी कर रहा है, यह तकररा भी की है| इसके अलावा जम्मू-कश्मीर में भारत मानवाधिकार का दमन कर रहा है, यह झुठा इलजाम भी विदेश मंत्री कुरेशी इन्होंने किया है|

इस दौरान कश्मीर प्रश्‍न का हल निकालने के लिए संयुक्त राष्ट्रसंघ पहल करे, यह निवेदन भी कुरेशी इन्होंने किया|

पाकिस्तान ने इसके पहले भी कश्मीर प्रश्‍न अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उपस्थित करने के लिए जोरदार कोशिष की है| नियंत्रण रेखा पर लगातार गोलाबारी करके युद्ध विराम का भंग करने के पीछे पाकिस्तानी लष्कर का कुटिल षडयंत्र है| इसके द्वारा कश्मीर प्रश्‍न झुलसता रखने की पाकिस्तान की योजना है और दो परमाणु हथियारों से तैयार देशों में बना संघर्ष विश्‍व के लिए खतरनाक हो सकता है, यह दिखाने के लिए पाकिस्तान की कोशिष हो रही है| इसी लिए कश्मीर प्रश्‍न का हल निकालने के लिए विश्‍व ने पहल करे, यह स्थिति बनाने की कोशिष पाकिस्तान लगातार कर रहा है|

लेकिन, कश्मीर की नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तान लष्कर की करतुतें एवं आतंकियों को पाकिस्तान से प्राप्त हो रही सहायता की पुरी जानकारी विश्‍व के प्रमुख देशों को है और पाकिस्तान के इस संबंधी प्रचार को विश्‍व के किसी भी देश से अनुकूल जवाब मिलने की उम्मीद नही है|